कभी डांसर रहा जोधपुर का ये होनहार आज है कूडो चैंपियन, डॉक्टर बन करना चाहता है सेवा

Jodhpur, Rajasthan, India
कभी डांसर रहा जोधपुर का ये होनहार आज है कूडो चैंपियन, डॉक्टर बन करना चाहता है सेवा

समाज में बढ़ते अपराधों को देख मां की प्रेरणा से सीखा कूडो और जूनियर वल्र्डकप में गोल्ड जीतकर चैंपियन का खिताब हासिल किया

बचपन में डांस का शौक रखने वाले ऋद्धीश भारद्वाज ने कभी नहीं सोचा था कि वे 'कूडो' (मिक्सड् मार्शल आर्ट) में अच्छे-अच्छों के दांत खट्टे करेंगे, लेकिन मां की प्रेरणा और समाज में बढ़ते अपराधों को देखकर इन्होंने मार्शल आर्ट सीखने की ठानी और अपने पांच वर्ष के कॅरिअर में 'कूडो' (मिक्सड् मार्शल आर्ट) में दो नेशनल, दो स्टेट और जिला के बेस्ट फाइटर का अवार्ड जीता। यहां तक कि ऋद्धीश ने हाल ही आयोजित जूनियर वल्र्डकप कूडो-2017 में स्वर्ण पदक लेकर चैंपियन टाइटल हासिल किया है।


10 राज्य, 125 टीमें, 3000 खिलाड़ी खेल महासंग्राम शुरू


अक्षय कूडो टूर्नामेंट में हासिल किया ब्रांज


ऋद्धीश ने कूडो (मिक्सड् मार्शल आर्ट) का अपना सफर कक्षा 9वीं में शुरू किया और पांच साल के अंदर जूनियर वल्र्डकप (अंडर-18 एवं 73 किग्रा कम वजन) में गोल्ड पर अपना कब्जा जमाया। इन्होंने फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार की एकेडमी की ओर से आयोजित 8वीं अक्षय कुमार कूडो टूर्नामेंट 2016 में हिस्सा लिया और यहां भी अपनी काबिलियत को सिद्ध करते हुए ब्रांज मैडल हासिल किया। ऋद्धीश को ब्लू बैल्ट प्राप्त है, लेकिन अपने पांच साल के कूडो कॅरिअर में कई ब्लैक बैल्ट को हरा चुके हैं।


पश्चिमी राजस्थान में आनुवंशिक बीमारियों की रोकथाम के लिए होंगे शोध


कर रहे हैं डॉक्टरी की पढाई, जज्बा सेना में जाने का


कूडों में अच्छे-अच्छे दिग्गजों को धूल चटाने वाले ऋद्धीश फिलहाल एसडीएम आयुर्वेद कॉलेज बैंगलूरू से आयुर्वेद में चिकित्सक की पढ़ाई (बीएएमएस) कर रहे हैं, लेकिन वे चाहते हैं कि सेना में डॉक्टर बनकर देश की सेवा करें। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned