विरासत में मिले बिजनेस के गुण और आगे बढ़ते गए

Jodhpur, Rajasthan, India
विरासत में मिले बिजनेस के गुण और आगे बढ़ते गए

शहर में एक युवा उद्यमी, निर्यातक कुंजबिहारी अग्रवाल, जो हैण्डीक्राफ्ट का बिजनेस कर कई लोगों को रोजगार दे रहे है।

आमतौर पर पढ़ाई पूरी करने के बाद युवा अच्छी नौकरी की तलाश में रहते है, इनमें से कुछ ही होते है जो नौकरी की तरफ न जाकर लोगों को नौकरी देने का साहस करते है। इसके लिए युवा उद्यम या बिजनेस करते है।



 शहर में एक युवा उद्यमी, निर्यातक कुंजबिहारी अग्रवाल, जो हैण्डीक्राफ्ट का बिजनेस कर कई लोगों को रोजगार दे रहे है। कुंजबिहारी ने अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद बिना समय गवाएं हैण्डीक्राफ्ट का बिजनेस शुरू किया और छोटी उम्र व कम समय में अपनी पहचान बनाई।



विरासत में मिला बिजनेस


कुंजबिहारी का जन्म नागौर जिले के मेड़़ता सिटी में वर्ष 1980 मे हुआ था। इनकी शिक्षा जोधपुर में हुई। वर्ष 2001 में जेएनवीयू से स्नात्तक करने के बाद इन्होंने नौकरी या अन्य विकल्प के बारे में नहीं सोचा और वर्ष 2002 में हैण्डीक्राफ्ट के बिजनेस में आ गए। 



कुंजबिहारी को बिजनेस विरासत में मिला था, इसलिए बिजनेस करना इनके लिए कोई मुश्किल कार्य नहीं था, हालांकि इनके पिता के मिनरल्स व लाइम स्टोन का काम था लेकिन इन्होंने हैण्डीक्राफ्ट का काम किया।



दिक्कतें आई पर आगे बढ़ते गए


कुंजबिहारी ने बताया कि वर्ष 2002 में अपनी इकाई में प्रोडक्शन शुरू किया और निर्यातकों को सप्लाइ करते थे। इस दौरान बिजनेस में कई दिक्कतें आई, काम का पूरा ज्ञान नहीं था। लेकिन इन्होंने हिम्मत नहीं हारी ओर काम करते गए और आगे बढ़ते गए। 



5 साल तक अपनी इकाई में प्रोडक्शन और निर्यातकों को सप्लाइ का ही काम किया। इसके बाद, वर्ष 2007 में एक्सपोर्ट शुरू किया, जिसमें सहयोगी के रूप में इनके छोटे भाई इनके साथ जुड़ गए।



लोगों को दे रहे रोजगार


कुंजबिहारी ने बताया कि शुरू से ही बिजनेस करने की ठान रखी थी, इसलिए बिजनेस ही किया। वर्तमान में बासनी में 1 और बोरानाड़ा में 2 इकाइयों का संचालन कर रहे है। जहां करीब 150 लोगों को रोजगार दे रहे है।



 तीनों इकाइयों में लकड़ी के उत्पादों, विशेष रूप से फर्नीचर्स, गिफ्ट आयटम्स आदि का काम करते है। इनके परिवार में पिता बिजनेसमैन, माता गृहिणी, छोटा भाई, पत्नी व उनके बच्चे है। इनकी पत्नी गृहिणी है व दो बेटे है, जो पढ़ाई कर रहे है।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned