जिम्मेदारों को क्यों नहीं दिखता ये सबकुछ

Jodhpur, Rajasthan, India
जिम्मेदारों को क्यों नहीं दिखता ये सबकुछ

अतिक्रमण से परेशान लोग: पार्क के बाहर नहीं सुरक्षा व्यवस्था, महिलाओं के साथ क्षेत्र के आमजन भी परेशान

सड़क पर खड़े लोगों को बचाते वाहन, कश लगाते युवा, आस पास में चल रहा शोरगुल और जगज जगह आम रास्ते में अतिक्रमण करके खड़े किए हुए कैबिन.....।ये हालात कुड़ी भगतासनी सैंट्रल पार्क के हैं जहां पार्क के आगे से मधुबन की तरफ जाने वाली सड़क पर अवैध ढाबा संचालकों, ठेलेवालों व बूथ धारकों ने अतिक्रमण कर सड़क को संकरा कर रखा है। जहां चलने वाले वाहन आपस में टकराते टकराते बचते हैं। 



रही-सही कसर आस पास में बनी झुग्गी झोंपडिय़ों ने पूरी कर दी है। ऐसे में यहां से निकल रहे वाहन चालकों को विकट समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। शाम के समय यहां से निकलना और भी कठिन हो जाता है। आस पास में बड़ी संख्या में मकान व रहने के लिए आवसीय परिसर बने होने के कारण हजारों की तादाद में लोग रहते है लेकिन जिम्मेदारों की आंखे नहीं खुल रही। इस पर पेश है एक रिपोर्ट....



सुबह लगती है मजदूरों की मंडी


सुनने में थोड़ा अजीब लगता होगा लेकिन यह सच है। इस सड़क पर सुबह का दृश्य किसी मंडी से कम नहीं होता। दैनिक मजदूरी करने वाले मजदूर यहां मोलभाव करते दिख जाएंगे। आस पास के सभी क्षेत्रों में रहने वाले मजदूर सुबह होते ही एक साथ यहां एकत्रित हो जाते हैं। 



तादाद अधिक होने से सड़क पर लगभग मजदूरों का ही कब्जा जमा रहता है। इनकी भीड़ को देखते हुए यहां कई कैबिन वालों ने अस्थाई कब्जा कर अपने कैबिन खोल दिए हैं। दिन भर यहां से इसी तरह इन मजदूरों का जमावड़ा लगा रहता है। 



शाम को समाज कंटेकों का डेरा



सुबह मजदूरों के संख्या बल से परेशान लोगों को शाम को भी कोई राहत नहीं मिलती आस पास चाय की थडिय़ों व बूथ संचालकों द्वारा कब्जा की गई जगहों पर शाम के समय असामाजिक तत्वों का डेरा लगा रहता है। जिनमें अधिकतर यहां आस पास रहने वाले छात्रावासों के लड़के भी नशा करने आ जाते हैं।



 ढाबों कैबिनों की आड़ में  विभिन्न प्रकार की असामाजिक गतिविधियां चलती रहती है। पास स्थित पार्क में आने वाले महिलाओं को इनकी फब्तियों का शिकार होना पड़ रहा है। ऐसे में यहां की छवि निरंतर खराब हो रही है लेकिन इन्हें कोई रोकने वाला भी नहीं है।



कुछ ही दूरी पर पुलिस थाना फिर नहीं सुरक्षा व्यवस्था 



इस सड़क से कुछ ही दूरी पर महिला पुलिस थाना है। उसके बाद भी यहां कोई कार्रवाई नहीं होती है। हालांकि यहां की परिस्थतियों से भली भांति परिचित होने के बाद भी कानूनी कार्यवाही नहीं होना सवाल पैदा करता है। इसी का फायदा उठाकर   आपराधिक प्रवृति वाले लोगों के हौसले बुलंद हैं। 



पुलिस की नियमित गश्त व ठोस कार्यवाई की जाए इन पर लगाम लग पाएगी। कुड़ी क्षेत्र में अधिकतर लोग इसी सैंट्रल पार्क में ही सुबह शाम टहलने के लिए आते हैं। शाम के समय यहां बड़ी संख्या में महिलाएं और बच्चे भ्रमण करने के लिए आते हैं। लेकिन यहां उनकी सुरक्षा के लिए पुलिसकर्मी कभी कभार ही दिखाई देते हैं। 



इसलिए यहां कई आपराधिक घटनाएं घटित हो चुकी है। यहां हर वर्ग के लोग आकर चर्चा करते हैं लेकिन सुरक्षा के नाम पर यहां कुछ नहीं हो रहा है। जिसके चलते पार्क में महिलाए स्वंय को अहसहज महसूस करती है। ऐसे में यहां की छवि भी खराब हो रही है।



सरस बूथों में बिकता जहर!



नियमों के हिसाब से देखा जाए तो सरस के बूथ में तम्बाकु पदार्थों का बेचना प्रतिबंधित एवं गैरकानूनी है लेकिन कुड़ी क्षेत्र में खुल्ले आम पार्क के पास सरस बूथ में प्रतिबंधित तम्बाकु पदार्थों को बेचा जा रहा है। जिम्मेदारों को सब कुछ पता होने के बावजूद तम्बाकू पदार्थों की बिक्री हो रही है। 



इसके साथ ही अंडे, सिगरेट, तम्बाकु व अन्य प्रतिबंधित पदार्थ बेचे जा रहे हैं। वहीं बूथ संचालकों से प्रतिबंधित पदार्थों के बेचने की बात पूछने पर चौंकाने वाली बात सामने आई है। उनका कहना था किसी भी प्रकार के तम्बाकु या प्रतिबंधित पदार्थ बेचने पर कोई कार्यवाही या सरस की तरफ से मनाही नहीं होती हैं।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned