OMG! महिला साथी से किया 'गंदा' काम, सरकार को खबर लगी तो कर दिया एपीओ

Kota, Rajasthan, India
OMG! महिला साथी से किया 'गंदा' काम, सरकार को खबर लगी तो कर दिया एपीओ

एमबीएस हॉस्पीटल स्थित जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर महिला कर्मी ने पुरुष साथी पर उत्पीड़न का आरोप लगाया था। जिसके बाद सरकार ने आरोपी को एपीओ कर दिया।

एमबीएस परिसर स्थित जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर के एक महिला कार्मिक ने साथ काम करने वाले पुरुष कर्मचारी पर उत्पीडऩ करने का आरोप लगाया था। राज्य सरकार ने गुरुवार को आरोपित कर्मचारी को एपीओ कर दिया। 



एमबीएस अस्पताल के अधीक्षक डॉ. पीके तिवारी ने बताया कि महिला की शिकायत मिलते ही आरोपित ओमप्रकाश मेघवाल को जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर से हटा दिया था। उसे बीएससी नर्सिंग में लगा दिया था। इस मामले की शिकायत महिला उत्पीडऩ समिति को भेज दी थी। अब राज्य सरकार ने आरोपित ओमप्रकाश को एपीओ कर दिया है। पीड़िता इस बारे में शिकायत की थी कि 2015 में जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर पर ज्वाइन किया था। यहां पर ओमप्रकाश से जान पहचान हुई, उसकी हरकतें बदल गई और वह कार्यस्थल पर ही छेड़छाड़ करने लगा। अक्सर उसे नजरअंदाज करने की कोशिश की, लेकिन 19 मार्च, 2016 को आरोपी ने ट्रेनिंग सेंटर पर ही उसका हाथ पकड़ लिया और उससे अभद्र बातें करने लगा।



Read More: AIIMS MBBS Entrance Result: कोटा में पढ़ी निशिता ने रचा इतिहास, पहली बार किसी लड़की ने किया टॉप



बदनाम करने की देता था धमकी 

जब पीड़िता ने उससे ऐसा करने से मना किया तो आरोपी ने एक वीडियो क्लिप दिखाई, जो उसके बाथरूम जाने के दौरान किसी तरह खींची गई थी। इस वीडियो क्लिप को देख वह डर गई और आरोपी की हरकतों को बर्दाश्त करती रही। आरोपी ने कहा कि यदि उसने कभी भी मेरे खिलाफ आवाज उठाई तो वह इस क्लिप को सोशल मीडिया पर शेयर कर देगा। 



Read More: कोटा में कोचिंग छात्रा ने फांसी लगाकर की खुदकुशी, कमरे में मिला सुसाइड नोट



भाई ने मैसेज देखे तो खुला मामला 

पीड़िता ने बताया कि आरोपी ने 31 मार्च, 2016 को उसके साथ मारपीट भी की, इसके बावजूद परिवार की लोक-लाज के डर से सालभर तक चुप रही और परिजनों को कुछ नहीं बताया। आरोपी बार-बार उसे धमकी भरे मैसेज करता रहा। इसी बीच एक दिन पीडि़ता के भाई ने उसके मोबाइल में आरोपी के धमकी भरे मैसेज देखे और उससे विश्वास में लेकर सारी बात पूछी। इसके बाद उसने 28 अप्रैल, 2017 को एमबीएस अस्पताल के अधीक्षक को लिखित शिकायत दी। अस्पताल प्रशासन ने जांच कमेटी बैठा दी थी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned