आवारा मवेशी सड़कों पर घूमते हुए नहीं मिलें, संसाधन कम हों तो बढ़ाएं : कोर्ट

shailendra tiwari

Publish: Mar, 17 2017 08:18:00 (IST)

Kota, Rajasthan, India
आवारा मवेशी सड़कों पर घूमते हुए नहीं मिलें, संसाधन कम हों तो बढ़ाएं : कोर्ट

भरत सिंह की याचिका पर स्थाकोटा. स्थायी लोक अदालत ने नगर निगम अधिकारियों को आदेश दिए कि निगम ऐसी व्यवस्था करे, जिससे आवारा मवेशी सड़कों पर घूमते हुए नहीं मिलें। यी लोक अदालत ने निगम अधिकारियों को दिए आदेश

कोटा. स्थायी लोक अदालत ने नगर निगम अधिकारियों को आदेश दिए कि निगम ऐसी व्यवस्था करे, जिससे आवारा मवेशी सड़कों पर घूमते हुए नहीं मिलें। सड़कों पर मवेशी मिलने पर उन्हें पकड़कर निर्धारित स्थानों पर छोड़ा जाए। 


इस कार्य के लिए वर्तमान में उपलब्ध स्थान व संसाधन कम हैं तो और बढ़ाए जाएं। आवारा मवेशियों के कारण आम नागरिक दुर्घटनाग्रस्त न हो और न ही उसकी हादसे में मौत हो। 


अदालत ने यह आदेश पूर्व मंत्री व वार्ड पंच भरतसिंह कुंदनपुर की ओर से पेश जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद दिए। भरत सिंह ने अपने अधिवक्ता वीरेन्द्रसिंह भानावत के माध्यम से कुछ समय पहले अदालत में याचिका पेश की थी। 


इसमें कहा था कि आवारा मवेशियों के कारण शहर में आए दिन दुर्घटनाएं हो रही हैं। इनके कारण कई लोगों की मौत हो चुकी है। नगर निगम आवारा मवेशियों को पकड़कर गोशाला में नहीं छोड़ता। याचिका में कहा कि सड़कों से मवेशी हटाए जाएं। इस पर अदालत ने निगम अधिकािरयों को नोटिस जारी किया था।


8 माह में 4403 गोवंश पकड़े

निगम की ओर से उनके अधिवक्ता संजीव विजय ने जवाब में कहा कि समय-समय पर अभियान चलाकर आवारा मवेशियों को पकड़कर बंधा व किशोरपुरा गोशालाओं में निरुद्ध किया गया।


1 अप्रेल 2016 से 31 दिसम्बर 2016 तक 4403 गोवंश को पकड़कर गोशालाओं में भेजा गया। यह कार्य ठेकेदार के जरिए संविदा पर करवाया जा रहा है। जुर्माना भी 3 हजार रुपए प्रति मवेशी वसूला जा रहा है।


सड़कों पर हरा चारा डालने वालों पर कार्रवाई करें

स्थायी लोक अदालत के अध्यक्ष कैलाशचंद मीना, सदस्य अजय पारीक व डॉ. अरुण शर्मा ने निगम अधिकारियों को आदेश दिया कि सड़कों पर किसी भी रूप में हरा चारा मवेशियों को नहीं डाला जाए। यदि कोई चारा डालता है तो उसके खिलाफ विधि अनुसार सख्य कार्रवाई की जाए।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned