कोटा में तेजी से फैल रहा डेंगू, क्या आपने कूलर साफ कर लिया है...

shailendra tiwari

Publish: Jul, 15 2017 09:59:00 (IST)

Kota, Rajasthan, India
कोटा में तेजी से फैल रहा डेंगू, क्या आपने कूलर साफ कर लिया है...

डेंगू ने पिछले वर्षों के मुकाबले इस बार जल्दी दस्तक देकर चिकित्सा विभाग में हड़कंप मचा दिया है। पिछले साल जहां पूरे जुलाई माह में 11 मरीज सामने आए थे, इस साल 15 दिनों में ही 36 रोगी पीडि़त हो चुके हैं।

कूलर की सफाई से चूके तो लग सकता है डेंगू का डंक...


डेंगू ने पिछले वर्षों के मुकाबले इस बार जल्दी दस्तक देकर चिकित्सा विभाग में हड़कंप मचा दिया है। पिछले साल जहां पूरे जुलाई माह में 11 मरीज सामने आए थे, इस साल 15 दिनों में ही 36 रोगी पीडि़त हो चुके हैं। पिछले चार सालों में जुलाई माह में जितने केसेज सामने आए है। 


उनसे दुगने इस साल आधी जुलाई में आ गए। चिकित्सा विभाग की टीम के सर्वे में कूलर में डेंगू के लार्वा मिल रहा है। विशेषज्ञों के अनुसार, एेसे में कूलर की नियमित सफाई जरूरी है। कूलर की सफाई की चूक डेंगू के डंक का कारण बन सकती है।


Read More: OMG! साहब की फटकार पड़ी तो डिलीट कर दिए 58 लाख के पेंडिंग क्लेम, सरकार को लाखों का नुकसान


नए अस्पताल में डेंगू की जांच बंद 

नए अस्पताल में डेंगू का सीजन शुरू होने के साथ ही जांच बंद हो गई है। अस्पताल में डेंगू की जांच में आने वाले रेपिड किट खत्म हो गई है। इस कारण आने वाले मरीजों को जांच करने की जगह लौटाया जा रहा है। अधीक्षक डॉ. देवेन्द्र विजयवर्गीय ने बताया कि किट खरीद के आदेश दे दिए थे, लेकिन जीएसटी लागू होने से सप्लायर सप्लाई नहीं कर रहा है। उसे जल्द सप्लाई के लिए कहा है, एक दो दिन में जांच को शुरू करवा देंगे। 


Read More:  दावा करते हैं 15 लाख नौकरियां देने का, और छह साल में 15 का आंकड़ा भी नहीं कर पाए पार


सेंट्रल लैब से नहीं ली मदद

एमबीएस में रेपिड व एलाइजा दोनों जांच की सुविधा है। यहां किट भी उपलब्ध है, इसके बावजूद माइक्रोबायोलॉजी विभाग के चिकित्सकों ने एमबीएस सेंट्रल लैब में संपर्क नहीं किया है। सैंट्रल लैब के प्रभारी डॉ. नवीन सक्सेना ने बताया कि नए अस्पताल से वैकल्पिक व्यवस्था के तौर पर सेंट्रल लैब में नमूने भेज सकते हैं।


चार पॉजीटिव आए

सेंट्रल लैब में हुई जांच में चार डेंगू पीडि़त सामने आए हैं,  जिनमें महावीर नगर द्वितीय निवासी नाजिया, बोरखेड़ा के गायत्री विहार निवासी गजेन्द्रसिंह, बालिता रोड निवासी हनुमंत कुमार मीणा और शेरगंज पीपल्दा वर्षीय रामकिशन शामिल हैं। अब तक 42 पॉजीटिव कैस जिले में सामने आ चुके हैं।


Read More:  #Picnicspot: भंवरकुंज में आया उफान, सुरक्षा के नहीं हैं कोई इंतजाम


एक्सपर्ट व्यू: घर में सबसे ज्यादा बचाव

डेंगू से बचाव के लिए वेक्सीन नहीं है। ऐसे में एडीज से बचाव के लिए पूरी सावधानी बरतने की जरूरत है। दिन में मच्छर ज्यादा काटते हैं, एेसे में मच्छर भगाने के उपायों का दिन के समय उपयोग करें। छोटे बच्चों को मच्छरदानी में सुलाए। दरवाजे-खिड़कियां बंद रखें, बदन ढक कर रखें। यह मच्छर लगातार तीन से चार जनों को काट लेता हैं। जिससे एक ही परिवार के चार से पांच जने पीडि़त हो जाते हैं।

(जैसा की मेडिकल कॉलेज में मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर डॉ. मनोज सलूजा और डॉ. दीप्ति शर्मा ने बताया)

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned