राजस्थान की फुटबॉल खिलाड़ी प्रज्ञा ने की आत्महत्या

Kota, Rajasthan, India
राजस्थान की फुटबॉल खिलाड़ी प्रज्ञा ने की आत्महत्या

दमदार स्ट्राइक के बूते विपक्षी टीम के खिलाड़ियों को धूल चटा देने वाली राजस्थान की तेज तर्रार फुटबॉल खिलाड़ी की जिंदगी में कुछ ऐसा हुआ कि उसने जिंदगी से हारकर मौत का गोल ही दाग दिया। महज 21 उम्र की इस महिला खिलाड़ी ने अपने कमरे में फांसी का फंदा लगाकर आत्म हत्या कर ली।

दमदार स्ट्राइकर के बूते अच्छे-अच्छे गोलकीपरों के पसीने छुड़ा देने वाली राजस्थान की फुटबॉल खिलाड़ी की जिंदगी में कुछ ऐसा हुआ कि उसने महज 21 साल की उम्र में मौत को गले लगा लिया। जिंदगी का गेम वह इस कदर हार बैठी कि खुद ही मौत का गोल दाग दिया। 



कोटा के जेडीबी कॉलेज में बीए द्वितीय वर्ष की छात्रा प्रज्ञा सैनी का नाम राजस्थान की उभरती फुटबाल खिलाड़ियों में गिना जाने लगा था। माना जाता था कि गैंद एक बार उसके पैरों को छू जाए तो फिर अपनी दमदार स्ट्राइक के बूते  वह उसे गोल में तब्दील करके ही रहती थी, लेकिन मंगलवार की सुबह जिंदगी के आखिरी गेम में वह आत्मघाती गोल कर बैठी। प्रज्ञा ने अपने ही कमरे में फांसी के फंदे पर झूल गई और मौत को गले लगा लिया। 



Read more: उफ! हाजिरी लगाने के लिए यहां देखनी पड़ती है अश्लील फिल्म



घर पर थे सिर्फ बुजुर्ग दादा-दादी 

नयापुरा थाने के एएसआई सत्यनारायण ने बताया कि कोटा के नयापुरा में रहने वाली 21 वर्षीय प्रज्ञा सैनी की मां इन दिनों अजमेर गई हुई थी। जबकि पिता रमेश चंद घर के पास ही मंदिर में दर्शन को गए थे। घर पर दादा-दादी के साथ प्रज्ञा अकेली थे। इसी दौरान वर घर में ऊपर के कमरे में गई और फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। कुछ समय बाद जब परिजन उसके कमरे में गए तो वह फंदे पर झूल रही थी। शोर-शराबा सुनकर पड़ौसी वहां पहुंचे और उसे उतारकर एमबीएस अस्पताल लेकर गए। जहां जांच के बाद चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। 



Read More: भारत-पाक मैच: सोशल मीडिया पर वायरल आपत्तिजनक टिप्पणी से सांगोद में तनाव



सुसाइड नोट को लेकर संशय 

पड़ौसियों के मुताबिक प्रज्ञा ने आत्महत्या करने से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा था, लेकिन पुलिस इस संबंध में कुछ भी कहने से बचती रही। पुलिस ने बताया कि आत्महत्या के कारण फिलहाल पता नहीं चल सका है। प्रज्ञा इतनी बेहतरीन खिलाड़ी थी कि कुछ  समय पहले ही राज्य स्तर पर खेलने के लिए उसे 75 हजार रुपए का पुरस्कार मिला था। जानकारों के अनुसार तीन भाई बहनों में प्रज्ञा दूसरे नम्बर की थी। प्रज्ञा के पिता अपने घर के नीचे ही दुकान चलाते हैं। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned