जानिए... 30 साल के इतिहास में पहली बार कोटा थर्मल में खत्म हुआ कोयला

shailendra tiwari

Publish: Jun, 14 2017 10:23:00 (IST)

Kota, Rajasthan, India
जानिए... 30 साल के इतिहास में पहली बार कोटा थर्मल में खत्म हुआ कोयला

राज्य सरकार व राजस्थान विद्युत उत्पादन निगम (आरवीयूएनएल) का अपने बिजलीघरों से मोह भंग होने का परिणाम सोमवार को कोटा थर्मल को भुगतना पड़ा।

राज्य सरकार व राजस्थान विद्युत उत्पादन निगम (आरवीयूएनएल) का अपने बिजलीघरों से मोह भंग होने का परिणाम सोमवार को कोटा थर्मल को भुगतना पड़ा। कोटा थर्मल के तीन दशक के इतिहास में पहली बार एेसा हुआ कि प्लांट में कोयले का स्टॉक समाप्त हो गया। 


Read More:  #किसान_आंदोलन: Video: लहसुन का नाम भी लूं तो पड़े मुझे 7 जूते


थर्मल प्रशासन को बिजलीघर की 210-210 मेगावाट की तीसरी व पांचवीं यूनिट को बंद करना पड़ा।  हालांकि थर्मल प्रशासन दोनों इकाइयों को बंद करने का कारण तकनीकी खराबी बता रहा है, लेकिन हकीकत यह है कि कोयला खत्म हो चुका है। अब जो कोयला बचा है, वो इकाइयों के बंकरों में है। यदि बुधवार को कोयला नहीं आया तो अन्य इकाइयां भी बंद हो जाएंगी। 


Read More:  तीन संतान की शर्त से कई बेटे-बेटियां शिक्षा से रह जाएंगे वंचित


गौरतलब है कि राजस्थान पत्रिका ने गत 12 जून को  'इकाइयां पूरी क्षमता पर, चलाने के लिए कोयला नहींÓ शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था। इसके बाद भी राज्य सरकार व आरवीयूएनएल प्रशासन नहीं चेता और इकाइयों की प्रतिदिन की खपत के बराबर कोयला नहीं मिलने से स्टॉक खत्म हो गया।


Read More:  6 दिन से लापता पटवारी की लाश जंगल में पेड़ से लटकी मिली


रातभर समेटते रहे कोयला

केन्द्रीय विद्युत प्राधिकरण  (सीईए) की ओर से देशभर के बिजलीघरों में कोयले के स्टॉक की प्रतिदिन की स्थिति की रिपोर्ट जारी की जाती है। कोटा थर्मल में कोयले की प्रतिदिन की खपत 18 से 19 हजार टन है। 


Read More:  महापड़ाव से डरी सरकार, 32 रुपए प्रति किलो भाव से खरीदेगी लहसुन


सीईए रिकॉर्ड के अनुसार अभी यहां दो दिन का कोयला मौजूद है, लेकिन थर्मल का कोल यार्ड इतने विस्तृत क्षेत्र में फैला हुआ है कि शेष बचा 36 हजार टन कोयला कन्वेयर बेल्ट पर चढऩे की स्थिति में नहीं है। यह कोयला यार्ड के गड्ढों में भरने से यार्ड समतल नजर आ रहा है। थर्मल प्रशासन रातभर इसे समेट कर कन्वेयर बेल्ट तक ले जाने में जुटा रहा।


कोयले की कमी तो है, लेकिन एेसा नहीं है कि तीसरी व पांचवीं इकाई कोयले के कारण बंद करनी पड़ी, पांचवीं इकाई को रखरखाव के लिए बंद किया है। तीसरी इकाई तकनीकी खराबी आने से बंद की गई है।

एच.बी. गुप्ता, मुख्य अभिंयता कोटा थर्मल

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned