महापड़ाव में फूटा किसानों का गुस्सा, गांवों में मत घुसने दो नेताओं को

shailendra tiwari

Publish: Jun, 17 2017 08:43:00 (IST)

Kota, Rajasthan, India
महापड़ाव में फूटा किसानों का गुस्सा, गांवों में मत घुसने दो नेताओं को

लहसुन का लागत मूल्य नहीं मिलने व सरसों की समर्थन मूल्य पर खरीद नहीं होने से खफा किसानों का महापड़ाव दूसरे दिन शुक्रवार को भी संभागीय आयुक्त कार्यालय के समक्ष जारी रहा।

लहसुन का लागत मूल्य नहीं मिलने व सरसों की समर्थन मूल्य पर खरीद नहीं होने से खफा किसानों का महापड़ाव दूसरे दिन शुक्रवार को भी संभागीय आयुक्त कार्यालय के समक्ष जारी रहा। महापड़ाव में झालावाड़ जिले के किसान शामिल हुए। किसानों  को  भारतीय किसान संघ के प्रांतीय नेताओं ने सम्बोधित किया। 


प्रांतीय कार्यकारिणी सदस्य हरिसिंह ने कहा कि राज्य  सरकार ने किसानों से वादाखिलाफी की है। सरकार ने किसानों को मरने के लिए मजबूर कर दिया। किसानों को उनकी उपज का लागत मूल्य भी नहीं मिल रहा। सरकार ही किसानों का शोषण करने पर तुली है। उन्होंने कहा चुनाव के दिन आने वाले हैं। अब यह नेता गांवों में आएंगे, लेकिन उन्हें गांवों में मत घुसने दो। सरकार ने किसानों के लिए कोई घोषणा नहीं की। उन्होंने कहा कि झालावाड़ में किसानों की हालात बहुत खराब है। किसान कोई समस्या लेकर विधायक व सांसद के पास जाए तो सुबह से शाम तक घूमता रहता है। 


भारतीय किसान संघ का 2018 में सदस्यता अभियान चलेगा। इसमें अधिक से अधिक लोगों को जोडऩा होगा। महापड़ाव को प्रांत सहकारिता प्रमुख जगदीश कलमंडा, झालावाड़ जिलाध्यक्ष सीताराम नागर, प्रांतीय उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह ने भी सम्बोधित किया। शनिवार को बारां जिले के किसानों का महापड़ाव रहेगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned