लहसुन खरीदकर अहसान नहीं कर रही सरकार, अन्नदाता पर चला रही गोलियां

shailendra tiwari

Publish: Jun, 17 2017 09:05:00 (IST)

Kota, Rajasthan, India
लहसुन खरीदकर अहसान नहीं कर रही सरकार, अन्नदाता पर चला रही गोलियां

राज्य सरकार के साढ़े तीन साल के कार्यकाल के खिलाफ कांग्रेस ने किसानों की शुक्रवार को इटावा में बड़ी सभा कर आंदोलन की जंग छेड़ दी। प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि हाड़ौती में लहसुन की सरकारी खरीद शुरू कर सरकार अहसान नहीं कर रही।

राज्य सरकार के साढ़े तीन साल के कार्यकाल के खिलाफ कांग्रेस ने किसानों की शुक्रवार को इटावा में बड़ी सभा कर आंदोलन की जंग छेड़ दी। सभा में बड़ी संख्या में किसानों के पहुंचने से कांग्रेस में उत्साहभर गया। इटावा मंडी में आयोजित सभा में पार्टी प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि हाड़ौती में लहसुन की सरकारी खरीद शुरू कर सरकार अहसान नहीं कर रही। 


Read More:  कोटा में कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ भरी हुंकार


कांग्रेस के आंदोलन का एेलान करने के बाद दबाव में सरकार ने लहसुन खरीद शुरू की। राष्ट्रीय महासचिव व प्रदेश प्रभारी अविनाश पाण्डेय ने कहा आज देश में किसान खुद को अकेला महसूस कर रहा है, लेकिन कांग्रेस किसानों के साथ मजबूती से खड़ी है। विधानसभा में प्रतिपक्ष नेता रामेश्वर डूडी ने कहा कि सरकार की नीति और नीयत में खौट है। आज प्रदेश का किसान सबसे ज्यादा दुखी है। 


Read More: थैंक्स मोदी अंकल! ट्वीट करते ही अनाथ बच्चों के लिए भेज दी इतनी बड़ी मदद


खुद का विकास कर रही सरकार

पूर्व मंत्री शांति धारीवाल ने सरकार पर आरोप लगाया कि एक बड़े औद्योगिक घराने को लाभ पहुंचने के लिए प्रदेश में समर्थन मूल्य पर सरसों की खरीद शुरू नहीं की गई। 


Read More: वो कौन थी! जिसकी वजह से शादी के पांच महीने बाद ही पत्नी ने लगा लिया मौत को गले


सरसों का समर्थन मूल्य 3700 रुपए प्रति क्विंटल है, लेकिन किसानों को मंडी में 3200 रुपए प्रति क्विंटल की दर से बेचना पड़ा है। सबका साथ सबका विकास का नारा देने वाली सरकार खुद का विकास कर रही है। उन्होंने कहा कि 40 फीसदी लहसुन खराब हो चुका है। पिछले साल ओलावृष्टि से हाड़ौती में 50 किसानों ने आत्महत्याएं की थी, लेकिन एक भी किसान के परिजन को मुआवजा नहीं मिला। 


Read More:  महापड़ाव में फूटा किसानों का गुस्सा, गांवों में मत घुसने दो नेताओं को


पूर्व सांसद इज्यराजसिंह ने कहा कि कांग्रेस शासन में चम्बल की नहरों के लिए 1274 करोड़ की योजना मंजूर करवाई थी, लेकिन इसका किसानों को कोई फायदा नहीं मिला। पूर्व मंत्री भरतसिंह ने कहा कि किसान कर्ज तले दबता जा रहा है। सरकार ने किसान का कर्ज माफ नहीं किया तो कांग्रेस आंदोलन कर हक दिलाएगी। देहात अध्यक्ष सरोज मीणा ने कहा कि गूंगी-बहरी सरकार है और किसानों की मांगों के प्रति गंभीर नहीं है।


राष्ट्रीय सचिव तरुण कुमार ने कहा कि देश में किसान कर्ज से परेशान है, लेकिन प्रधानमंत्री को भी अन्नदाता की कोई चिंता नहीं है। मध्यप्रदेश में कर्ज माफी की मांग करने वाले निहत्थे अन्नदाताओं पर गोलियां चलाई गई। 


राष्ट्रीय सचिव विवेक बंसल, कोटा प्रभारी करणसिंह यादव, विधायक रमेश मीणा, पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष रामनारायण मीणा, पूर्व मंत्री रामकिशन वर्मा, रामगोपाल बैरवा, अशोक बैरवा, शहर अध्यक्ष गोविंद शर्मा, पूर्व विधायक प्रेमचंद नागर, पूनम गोयल, मीनाक्षी चंद्रावत, करणसिंह, प्रदेश महासचिव पंकज मेहता, सचिव शिवकांत नंदवाना, रविन्द्र त्यागी, जिला प्रमुख सुरेन्द्र गोचर, उप जिला प्रमुख मनोज शर्मा, युवक कांग्रेस कोटा-बूंदी लोकसभा अध्यक्ष भानुप्रतापसिंह ने सम्बोधित किया। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष क्रांति तिवारी, पीसीसी सदस्य राजेन्द्र सांखला, सेवादल के देहात अध्यक्ष मनोज दुबे, अरुण कुमार, अनुप ठाकुर, सुशील शर्मा आदि मौजूद रहे।


केपाटन में किसानों का प्रदर्शन आज

किसानों की मांगों को लेकर हाड़ौती किसान यूनियन की ओर से बूंदी जिले के केशवरायपाटन में शनिवार दोपहर 12 बजे प्रदर्शन किया जाएगा। यह जानकारी यूनियन के संयोजक कुन्दन चीता ने दी। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned