Big News : video : आईएल पर ताला, केबिनेट ने लगाई मुहर

shailendra tiwari

Publish: Nov, 30 2016 11:23:00 (IST)

Kota, Rajasthan, India
Big News : video : आईएल पर ताला, केबिनेट ने लगाई मुहर

एक साल पहले संचालन से इनकार कर दिया था केंद्र सरकार ने, राज्य सरकार ने भी अधिग्रहण से हाथ खड़े कर दिए थे

कोटा. कोटा स्थित इंस्ट्रूमेंटेशन लिमिटेड (आईएल) को बंद करने के निर्णय पर बुधवार को केन्द्रीय केबिनेट ने मुहर लगा दी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इसे बंद करने के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी है। 


एक साल पहले नवम्बर माह में इसके संचालन से केन्द्र ने इनकार कर दिया था। केन्द्र ने राज्य सरकार को आईएल को अधिग्रहण करने के लिए पत्र भी लिखा था, लेकिन राज्य सरकर ने भी इसके अधिग्रहण से मना कर दिया। इसके बाद केन्द्र ने क्लोजर की प्रक्रिया शुरू कर दी।


आईएल संचालन के लिए कोटा में आंदोलन भी हुए। सांसद ने लोकसभा में भी मसला उठाया, लेकिन केन्द्र सरकार ने निर्णय नहीं बदला। अब इसे बंद करने का अंतिम निर्णय ले लिया गया है। 



इसके साथ ही केबिनेट ने आईएल की पल्लकड़ यूनिट को केरला सरकार को ट्रांसफर करने के निर्णय पर भी मुहर लगा दी। आईएल के कर्मचारियों की करीब 438 करोड़ देनदारी है। 



इंस्ट्रूमेंटेशन एम्पलाइज यूनियन ने कार्मिकों के हितों से जुड़े मसलों का सेटलमेंट करने के बाद ही कारखाने का अधिग्रहण करने या बंद करने का निर्णय लेने की मांग रखी थी, इस पर भी ध्यान नहीं दिया।



पहले बंद हो चुके कई उद्योग

इससे पहले कोटा में जेके सिंथेटिक्स, सेमटेल जैसे कई कारखाने बंद होने से कोटा के हजारों श्रमिक बेरोजगार हो गए। आईएल कोटा में भारत सकार का सबसे बड़ा उपक्रम रहा है।


वर्ष 1964 में स्थापित इस उद्योग के केन्द्र सरकार के विभाग और कंपनियों को महत्वपूर्ण प्रोजेक्टर पूरे करने के लिए उपकरणों की आपूर्ति की थी।


यह नौबत क्यों आई

आईएल में यूटीएस, संचार उपकरण और कई इलेक्ट्रॉनिक मशीनरी उपकरण बनाए जाते थे। कारखाने की बैलेंस शीट के अनुसार यह घाटे में चल रहा था। सरकार की ओर से भी लम्बे समय से उपेक्षा हो रही है। कार्मिकों की देनदारियां भी बढ़ती गई।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned