चॉकलेट खाने की उम्र में बन गया इतना बड़ा अपराधी

Kota, Rajasthan, India
चॉकलेट खाने की उम्र में बन गया इतना बड़ा अपराधी

उसे देखकर भी अंदाजा नहीं लगाया जा सकता कि वह इतना बड़ा चोर होगा... उम्र देखकर उसे चॉकलेट देने का मन करेगा... लेकिन जब पता चलेगा कि अगले ही पल आपकी बाइक लापता है तो इस नन्हे चोर पर शक भी नहीं कर पाएंगे...ऊपर से शातिर इतना कि चोरी की बाइक को बेचने के बजाए सारे पार्ट्स अलग करके बेचता है।

कोटा पुलिस ने बाइक चोरों का बड़ा गिरोह धर दबोचा, लेकिन जब पुलिस कर्मियों की नजर नन्हे चोर पर पड़ी तो उन्हें भी यकीन नहीं हुआ कि वह इस गिरोह का सबसे अहम हिस्सा है। रेकी करने से लेकर बाइक चुराने के काम को यह नन्हा चोर पलक झपकते ही अंजाम दे देता था। गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने उसे बाल सुधार गृह भेज दिया है। 



विज्ञाननगर थाना पुलिस ने वाहन चोर गिरोह का पर्दाफाश करते हुए एक बाल अपचारी समेत तीन जनों को सोमवार को गिरफ्तार किया। पुलिस ने गिरोह के कब्जे से चोरी की गई 12 अन्य बाइक भी जब्त की है। आरोपितों ने इन्हें विज्ञाननगर, गुमानपुरा, उद्योगनगर और शहर के अन्य थाना क्षेत्रों से चोरी करना कबूला है। बाल अपचारी को निरुद्ध के बाद सम्प्रेषण गृह तथा अन्य दो आरोपितों को कोर्ट में पेश किया गया जहां से 16 जून तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया।



Read More: OMG! स्मैक पीने की उठती थी तलब तो चुरा लेते थे बाइक



एसपी सिटी अंशुमन भौमिया ने बताया कि मुखबिर से बाइक चोरों के बारे में सूचना मिली थी। इस पर विज्ञाननगर थाना पुलिस के एक स्पेशल टीम गठित की गई। टीम ने नाकाबंदी के दौरान एक बाइक पर जा रहे एजाज अहमद (22) पुत्र मुबारिक अली निवासी इस्लामनगर देवली मांझी हाल संजय नगर कोटा, हितेश कुमार उर्फ जीतू बंडल (20) पुत्र भवानीशंकर सिंधी निवासी संजय नगर और एक बाल अपचारी को पकड़ा। पुलिस ने बताया कि आरोपी जिस बाइक पर जा रहे थे वह विज्ञाननगर थाना क्षेत्र से कुछ दिनों पूर्व चोरी हुई थी। आरोपितों ने पूछताछ में बाइक चोरी करना स्वीकारा किया है। इनके पास से 12 अन्य बाइक भी जब्त की गई। सीआई जयप्रकाश बेनीवाल ने बताया कि बाल अपचारी को निरुद्ध कर सम्प्रेषण गृह में भेज दिया। वहीं अन्य दो आरोपितों को कोर्ट में पेश किया गया। जहां से 16 जून तक पुलिस रिमांड पर भेजा है।



Read more: OMG! भगवान हुए बीमार, अब 11 दिन बाद सुनेंगे भक्तों की गुहार



पूरा एक दिन लगा देते रैकी में

पुलिस ने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि वे पहले दिन बाइक और उसके मालिक की रैकी किया करते थे। इसके बाद अगले दिन वारदात को अंजाम देते थे। आरोपित चोरी की गई बाइक को कुछ दिनों के लिए अपने जान-पहचान वालों के यहां रख आते थे। शहर में यह गिरोह पिछले आठ माह से बाइक चोरी की वारदातों को अंजाम दे रहा था।



Read more: विमंदित बच्चों को जिंदगी में खुशियां भरने तुर्की से कोटा आई जुलेहा



बेचते थे पार्ट्स 

बाइक चोरी के आरोपितों ने पुलिस को बताया कि वे सबसे पहले चोरी की गई बाइक के पार्ट्स दूसरी बाइक से बदल देते थे। इतना ही नहीं यह गिरोह पूरी बाइक बेचने के बजाय उसके पार्ट्स बेचता था, ताकि पकड़ने का खतरा ना रहे। इनके पास से जब्त वाहनों को आरोपित शीघ्र ही बेचने जाने वाले थे। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned