तो किसान पाकिस्तानी सरकार को बताएंगे अपनी परेशानी!

Kota, Rajasthan, India
तो किसान पाकिस्तानी सरकार को बताएंगे अपनी परेशानी!

किसानों को लेकर मध्य प्रदेश के बाद अब राजस्थान में भी राजनीति गर्माने लगी है। ऐसे में कांग्रेस किसानों के गुस्से को हवा देने में जुटी है। 16 जून को इटावा में किसान रैली और आमसभा बुलाई है। माहौल को गर्माने के लिए कांग्रेस नेताओं के भड़काऊ बयान भी सामने आने लगे हैं।

प्रदेश के कृषि मंत्री कोटा जिले के प्रभारी मंत्री हैं और उनके जिले में ही किसान उपज का कम मूल्य मिलने के सदमे में जान दे रहे हैं। इससे ज्यादा शर्म की बात और कुछ नहीं हो सकती। राज्य से लेकर केंद्र की सरकार तक किसानों की समस्याएं सुनने को तैयार नहीं है, ऐसे में अपनी परेशानियों का समाधान तलाशने के लिए क्या किसान पाकिस्तान की सरकार के पास जाएंगे? 





किसानों की बदहाली को लेकर कांग्रेस के नेताओं ने भाजपा की राजस्थान और केंद्र सरकार पर हमले तेज कर दिए हैं। सोमवार को यह बयान राजस्थान के पूर्व मंत्री भरत सिंह ने दिया। वह यहीं नहीं रुके। भरत सिंह ने सरकार के अत्याचारों के आगे अंग्रेजों की सरकार को भी फीका बता दिया। उन्होंने कहा कि किसान इस समय जितना परेशान है, उतना तो अंग्रेजों के जमाने में भी नहीं था। सिंह ने कहा कि भारत सरकार ने फसलों का समर्थन मूल्य तय किया है, लेकिन कोई भी फसल समर्थन मूल्य पर नहीं खरीदी जा रही, इसके खिलाफ सुनने वाला कोई नहीं है।



Read More: किसान आंदोलनः कोटा में शुरू हुआ किसानों का महापड़ाव



बनी आंदोलन की रणनीति 

सरकार की किसान विरोधी नीति के खिलाफ 16 जून को सुबह 11 बजे इटावा में किसान रैली निकाली जाएगी तथा आमसभा होगी। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट, नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी, पूर्व मंत्री भरतसिंह व शांति धारीवाल समेत कई प्रदेश स्तरीय नेता व पदाधिकारी भाग लेंगे। आंदोलन की रणनीति बनाने के लिए सोमवार को कांग्रेस कार्यालय पर कोटा देहात और जिला कांग्रेस कमेटी की बैठक हुई। अध्यक्षता जिलाध्यक्ष सरोज मीणा ने की। बैठक में देहात प्रभारी एवं प्रदेश महासचिव सुशील शर्मा ने कहा कि आज पूरे प्रदेश में किसानों की हालत खराब है। उन्हें उपज का पूरा मूल्य नहीं मिल रहा, सरकार किसानों पर अत्याचार कर रही है। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned