#On_the_spot: हल्की बारिश ने ही खोल दी नालों की सफाई की पोल

Kota, Rajasthan, India
#On_the_spot: हल्की बारिश ने ही खोल दी नालों की सफाई की पोल

एक जरा सी बारिश ने नालों की सफाइयों के दावे की पोल खोल दी। महज बूंदाबांदी के बाद ही शहर के तमाम नाले ओवर फ्लो होकर बहने लगे। कई कॉलोनियों में पानी भर गया, लेकिन इसके बाद भी नगर निगम के अधिकारी मानने को राजी नहीं है कि उन्होंने सफाई में कोताही बरती थी।

अभी बारिश का दौर पूरी तरह शुरू भी नहीं हुआ, उससे पहले ही शहर में लोगों को बरसाती पानी से परेशानी शुरू हो गई। करीब दो महीने से नगर निगम की ओर से नालों की सफाई की प्रक्रिया चल रही है, लेकिन काम अब तक पूरा नहीं हुआ। कई जगह वर्क ऑर्डर तक जारी नहीं हुए तो कई जगह सफाई के नाम पर खानापूर्ति ही हुई। इसका परिणाम हल्की बारिश में ही दिखाई दे रहा है। नालों की बदहाली देखने के लिए महापौर महेश विजय और यूआईटी चेयरमैन रामकुमार मेहता रविवार को शहर में घूमे। 





जवाहरनगर में शनिवार रात जिस नाले में उफान आया वह रविवार को भी पूरी तरह गंदगी से अटा हुआ था। नाले के मोखों में प्लास्टिक की थैलियां व गत्तों के टुकड़े फंसे हुए थे। सड़कों पर कीचड़ फैला हुआ था तथा थैलियां बिखरी हुई थी। लोगों का कहना है कि हर साल यही परेशानी होती है।



Read More: मोदी जी...लड़कियों के लिए बिना शौचालय के स्कूल बनवा रहे हैं राजस्थान के अफसर



साजीदेहड़ा नाले में भी गंदगी

पठारी क्षेत्र में हुई बारिश के बाद शहर के नालों में प्रवेश किए पानी ने शहर के अंदर हुई नालों की सफाई की हकीकत सामने रख दी। साजीदेहड़ा नाले में भी यही हुआ। यहां पुलिया के पास मोखों में रविवार को भी जलकुंभी, गत्ते व थैलियां जमा थी। नाले के उफान के बाद पुलिया पर पानी बह निकला तथा पानी उतरने के बाद भी पुलिया पर गंदगी फैली रही।



Read More:  बरसाती खाल में नहाने गए चार बच्चे डूबे, मौत



कुन्हाड़ी क्षेत्र में भरा पानी

नांता रोड स्थित दुर्गानगर में हल्की बारिश के बाद ही बरसाती पानी जमा हो गया। करीब पांच वर्ष पूर्व नालियां बनी थी, लेकिन अब टूट चुकी है। पास में ही बाईं मुख्य नहर व तालाब होने के कारण, यहां सीपेज की भी भारी परेशानी है। नालियां टूटी होने के कारण बरसाती पानी आगे नहीं निकल पा रहा और कॉलोनी के ही सड़कों पर जमा है। लोगों को घरों से बाहर निकलने में भी परेशानी हो रही है।



Read More: Breaking_News: वृद्ध पति-पत्नि की गला रेतकर हत्या



नहीं माने महापौर 

हालात का जायजा लेने के बावजूद महापौर मानने को तैयार नहीं है कि नालों की सफाई में कोई कोताही बरती गई है। उन्होंने साफ इन्कार करते हुए कहा कि बरसात से पहले नाले साफ किए गए थे। जवाहरनगर का नाला प्रति सप्ताह साफ किया जाता है। ये तो शनिवार को पठारी क्षेत्र में पानी बरसने के कारण यहां पानी अधिक आ गया। नालों की सफाई जारी रहेगी। हालांकि यूआईटी चेयरमैन आरके मेहता ने वैकल्पिक इंतजाम करने की बात कही। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned