सुप्रीम कोर्ट ने हटाई नीट 2017 के नतीजों पर लगी रोक

Kota, Rajasthan, India
सुप्रीम कोर्ट ने हटाई नीट 2017 के नतीजों पर लगी रोक

नेशनल एलिजिबिलिटी ऐंड एंट्रेंस टेस्ट (नीट) का परीक्षा परिणाम घोषित करने पर लगी रोक को सर्वोच्च न्यायालय ने खत्म कर दिया है।मद्रास हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सीबीएसई की ओर से दायर की गई याचिका पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने सोमवार को यह आदेश सुनाया।

कोर्ट ने मद्रास हाईकोर्ट के अंतरिम आदेश को रद्द करने के साथ ही केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) को आदेश दिया है कि वह 26 जून से पहले नीट 2017 के नतीजे घोषित कर दे। 



कोर्ट ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया कि वह पहले से तय कार्यक्रम के आधार पर परीक्षा परिणाम की घोषणा करने के साथ ही दाखिले की प्रक्रिया शुरू करे। मामले पर सुनवाई करते हुए जस्टिस पीसी पंत और दीपक गुप्ता की अवकाश पीठ ने कहा कि रिजल्ट की घोषणा और उसके बाद होने वाली काउंसलिंग और दाखिले कोर्ट के समक्ष लंबित मामले के फैसले के अधीन होगा। सुप्रीम कोर्ट ने सभी हाईकोर्ट से अनुरोध किया कि वह नीट 2017 से संबंधित किसी भी याचिका को स्वीकार ना करें। 



Read more: JEE Advanced Result 2017 : कोटा में फिर बजा सफलता का डंका



असमानता का लगा था आरोप 

7 मई 2017 को आयोजित की गई नीट परीक्षा को रद्द करने के लिए याचिकाकर्ताओं ने मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै बेंच में दायर की गई याचिका में दावा किया था कि देशभर में आयोजित की गई इस परीक्षा में समरूपता नहीं थी। छात्रों को समान पाठ्यक्रम के आधार पर परीक्षा कराने का भरोसा दिलाने के बावजूद देश के अलग-अलग हिस्सों में इस परीक्षा में प्रश्नपत्र के अलग-अलग सेट इस्तेमाल किए गए। तमिलनाडु में इंग्लिश और तमिल के छात्रों को अलग-अलग क्वेस्चन वाले पेपर दिए गए। याचिका में यह दावा भी किया गया था कि तमिल क्वेस्चन पेपर तुलनात्मक रूप से आसान था और छात्रों की बुद्धिमत्ता और कौशल के परीक्षण पर इसका असर पड़ेगा। याचिकाकर्ताओं ने इन आरोपों के आधार पर नीट 2017 रद्द कराकर नए सिरे से एक जैसे क्वेस्चन पेपर से परीक्षा कंडक्ट कराने की मांग की थी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned