गायब हुए निलंबित सीएमएचओ, कोटा से लेकर जयपुर तक हो रही तलाश

Kota, Rajasthan, India
गायब हुए निलंबित सीएमएचओ,  कोटा से लेकर जयपुर तक हो रही तलाश

कोटा के निलंबित सीएमएचओ डॉ. आरएन यादव तीन महीने से गायब हैं। स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारी उन्हें कोटा से लेकर जयपुर तक तलाश रहे हैं, लेकिन कहीं भी पता नहीं चल रहा। जिसके चलते उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू नहीं हो पा रही।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग को पिछले तीन माह से निलंबित मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आरएन यादव नहीं मिल रहे हैं। उन्हें निदेशालय जयपुर से कई बार विभागीय जांच के लिए जयपुर उपस्थित होने के आदेश भेजे गए। यह आदेश संयुक्त निदेशक कार्यालय से उनको तामील करने थे, लेकिन डॉ. यादव के नहीं मिलने के कारण तामील नहीं हो पाए।



मामले के अनुसार चिकित्सा एवं स्वास्थ्य निदेशालय ने अनियमितताओं के आरोप के चलते कोटा के तत्कालीन सीएमएचओ डॉ. आरएन यादव को 16 मार्च को निलंबित कर उनका मुख्यालय स्वास्थ्य निदेशालय जयपुर कर दिया, लेकिन उन्होंने जयपुर ज्वाइन नहीं किया। वे तब ही से गायब चल रहे हैं। अब फिर 14 जून को एक अन्य आदेश निदेशालय से आया है इसमें भी जांच में उपस्थित होने को कहा है।



Read More: कोटा में डॉक्टर ने दिखाई दबंगई, घर में घुसकर महिलाओं को पीटा



न घर पर मिले और ना दी दफ्तर में

स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. हेमेन्द्र विजयवर्गीय ने बताया कि हमने जयपुर से प्राप्त आदेश डॉ. यादव जहां रहते थे वहां भेजे थे, लेकिन उन्होंने लेने से मना कर दिया। इसके बाद कार्मिक को चस्पा कर आने को कहा था। तो वहां मिले लोगों ने उनका घर नहीं होने का हवाला देकर मना कर दिया। इसकी जानकारी जयपुर भेज दी है। वह ड्यूटी पर भी नहीं हैं। अब उनकी तलाश की जा रही है। 



Read More: उफ! हाजिरी लगाने के लिए यहां देखनी पड़ती है अश्लील फिल्म



सीएमएचओ बोले में छुट्टी मांगी है 

वहीं जब पूरे मामले में निलंबित सीएमएचओ डॉ. आरएन यादव से बात की गई तो उन्होंने कहा कि वह बीमार हो गए हैं और जयपुर में ओस्टियोअर्थराइटिस (घुटनों की बीमारी) का इलाज करवा रहे हैं। इलाज के लिए संयुक्त निदेशक कार्यालय से छुट्टियां मांगी हैं। उन्होंने बताया कि 16 मार्च को आखिरी बार ड्यूटी पर गए थे। इसके बाद छुट्टी की एप्लीकेशन देकर आ गए थे। इस दौरान आए किसी आदेश की जानकारी नहीं है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned