मुश्किल में लालू परिवार, CBI के बाद ED ने कसा शिकंजा, मीसा की राज्यसभा सदस्यता खतरे में

Abhishek Pareek

Publish: Jul, 09 2017 12:20:00 (IST)

Political
मुश्किल में लालू परिवार, CBI के बाद ED ने कसा शिकंजा, मीसा की राज्यसभा सदस्यता खतरे में

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव आैर उनके परिवार की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं।

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव आैर उनके परिवार की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। सीबीआर्इ के छापे के एक दिन बाद ही प्रवर्तन निदेशालय (र्इडी) ने लालू की बेटी मीसा भारती आैर दामाद शैलेश के तीन ठिकानों पर छापेमारी की है। र्इडी नेे यह कार्रवार्इ आठ हजार करोड़ रुपए के कालेधन को सफेद करने के मामले में की। छापेमारी के बाद भाजपा ने मीसा भारती की राज्यसभा सदस्यता को रद्द करने की मांग की है।




दिल्ली स्थित सैनिक, बिजवासन आैर घिटोरनी के फार्म हाउस पर छापेमारी की गर्इ। र्इडी को तलाशी में मोबाइल फोन, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण आैर जमीन-जायदाद के सौदे से जुड़े महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किए हैं। मीसा आैर शैलेश से फार्म हाउस की खरीद काे लेकर घंटों तक पूछताछ की गर्इ। साथ ही वहां पर मौजूद लोगों आैर नौकरों से भी जानकारी ली गर्इ। मीसा आैर शैलेश पर फर्जी कंपनियों से मिले पैसों के जरिए दिल्ली में संपत्ति खरीदने का आरोप है। दोनों को पहले आयकर विभाग ने नोटिस जारी किया था, जिसके बाद वे आयकर विभाग के सामने पेश हुए थे। 




1999 में हुर्इ शैलेश-मीसा की शादी

शैलेश आैर मीसा भारती की 1999 में शादी हुर्इ थी। इंजीनियरिंग की पढ़ार्इ कर चुके शैलेश ने लखनऊ से मैनेजमेंट का कोर्स किया। शैलेश ने इंफोसिस में भी नौकरी की आैर उसके बाद वे खुद का बिजनेस देखने लगे। 




चुनावी हलफनामे में बतार्इ 4 करोड़ की संपत्ति

मीसा राज्यसभा की सदस्य हैं। वे पटना मेडिकल काॅलेज से एमबीबीएस कर चुकी हैं। चुनावी हलफनामे में मीसा ने अपनी संपत्ति का जो ब्योरा दिया था उसमें उन्होंने अपनी संपत्ति चार करोड़ रुपए बतार्इ थी। हालांकि विपक्षी दलों का कहना है कि उनकी संपत्ति इससे कहीं ज्यादा है।




भाजपा का आरोप

भाजपा का आरोप है कि मीसा भारती ने राज्यसभा चुनाव के दौरान कर्इ महत्वपूर्ण संपत्तियों की जानकारियां नहीं दी है। पार्टी का कहना है कि वह मीसा की राज्यसभा सदस्यता को रद्द करने के लिए चुनाव आयोग से शिकायत करेगी। 



ये है मामला

आठ हजार करोड़ रुपए के कालेधन को सफेद करने के मामले में सुरेन्द्र जैन, वीरेन्द्र जैन आैर सीए राजेश अग्रवाल की गिरफ्तारी हो चुकी है। पूछताछ में सामने आया है कि 2008 में शैलेश आैर मीसा की कंपनी मिशेल के एक लाख 20 हजार शेयर 2008 में 100 रुपए प्रति शेयर के हिसाब से खरीदे गए थे। इन्हें शालिनी होल्डिंग लि, एड फिन कैपिटल सर्विसेज (इंडिया) प्राइवेट लि, मणिमाला दिल्ली प्राॅपर्टीज प्राइवेट लि आैर  डायमंड विनिमय प्राइवेट लि थीं। ये सभी कंपनियां जैन बंधुआें की थी। आरोप है कि बाद में मिशेल ने 10 रुपए प्रति शेयर के हिसाब से ये सभी शेयर खरीदे। फर्जी कंपनियों से आए इन पैसों से ही फाॅर्म हाउस खरीदा गया। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned