माउंट में सांड ने दिया जिंदगी भर का दर्द

Amar Singh

Publish: Jun, 18 2017 02:46:00 (IST)

Sirohi, Rajasthan, India
माउंट में सांड ने दिया जिंदगी भर का दर्द

30 मई को माउंट आबू के बाशिंदे सोमेश चंद्र वैलेज वॉक व हनुमान मंदिर के बीच सांड की चपेट में आ गए। अहमदाबाद के निजी अस्पताल में लाखों रुपए की लागत से ऑपरेशन कर उनके दोनों कुल्हे रिप्लेसमेंट किए गए।

माउंट आबू . शहर में निरंकुश विचरण करते मवेशियों से लोगों की जान जोखिम में है।सांड के हमले से घायल एक व्यक्ति तो अभी तक काफी उपचार करवा चुका है, जिसमें लाखों रुपए खर्च हो गए। गत 30 मई को माउंट आबू के बाशिंदे सोमेश चंद्र वैलेज वॉक व हनुमान मंदिर के बीच रास्ते में एक सांड की चपेट में आ गए। प्राथमिक उपचार के बाद सोमेश चंद्र को अहमदाबाद के लिए रैफर किया गया।
जहां एक निजी अस्पताल में लाखों रुपए की लागत से ऑपरेशन कर उनके दोनों कुल्हे रिप्लेसमेंट किए गए। चिकित्सकीय सलाह के तहत कम से कम महीने और उन्हें अस्पताल में रहना होगा। इस वजह से वे वहां से डिस्चार्ज होकर यहां आ गए।
उधर, मवेशियों का आंतक नहीं थम रहा है। जिसके चलते पर्यटकों, नागरिकों के सामने अचानक मवेशी आने से उनकी जान को खतरा बना हुआ है। यात्रीकर नाके से लेकर शहर के भीड़-भाड़ वाले स्थानों, गलियों आदि में आवारा मवेशियों के विचरण करने से कई लोग हमले में घायल हो चुके हैं। पिछले कुछ समय में माचगांव निवासी लीलाराम मेघवाल, अंबेडकर कॉलोनी निवासी शांति देवी, महाराष्ट्र के औरंगाबाद से आई पर्यटक महिलाएं जयश्री पाटिल, प्रतिभा बजौरिया व सुनंदा देवी समेत कईलोग पशुओं के हमले में घायल हो चुके हैं।


पशुओं की धरपकड़ कर कांजी हाउस व समीपवर्ती गोशालाओं में जमा कराने के पालिका को निर्देश दिए हैं। दुधारू पशुओं को आवारा छोडऩे वालों के खिलाफ कार्रवाई करने को भी निर्देशित किया है।
- सुरेश कुमार ओला, उपखंड अधिकारी, माउंट आबू

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned