छह साल की खुशी का शव मिला, हत्या का आरोप

Ashish vajpayee

Publish: Feb, 25 2016 06:36:00 (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
छह साल की खुशी का शव मिला, हत्या का आरोप

पुलिस पर आरोप बालिका को ढूंढने के नहीं किए प्रयास, कोतवाली थाना क्षेत्र की घटना

शहर में हुई इस घटना में निर्ममता की सारी हदे पार हो गई। अगरपुरा इलाके से करीब चार दिन पूर्व रहस्यमय तरीके से अपह्रत हुई छह साल की खुशी का गुरुवार को उसके घर के पास ही एक मकान की नींव से शव बरामद हुआ। इस पर एकत्रित हुए क्षेत्रवासियों ने पुलिस पर लापरवाही बरतने एवं बच्ची को ढूंढने के प्रयास नहीं करने के आरोप लगाए और खूब खरी-खोटी सुनाई। इसके बाद बड़ी मुश्किलं से बच्ची का शव महात्मा गांधी चिकित्सालय की मोर्चरी में लाया गया। वहां भी बड़ी संख्या में समाज के लोगों की मौजूदगी के बीच घंटों तक समझाइश चली। तब शाम को मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम हो हुआ। मासूम खुशी घर परिवार में मायूसी छोड़ गई।
महिला थाना प्रभारी लाभूराम ने बताया कि अगरपुरा निवासी छह वर्षीय खुशी पुत्री रमेश हरिजन 22 फरवरी की शाम अपने घर के पास ही अन्य बच्चों के साथ खेल रही थी। उस समय मां-बाप ड्यूटी पर और दादा-दादी बेणेश्वर मेला देखने के लिए गए थे। शाम को घर पर खुशी को न पाकर परिजनों ने आस-पास पूछताछ की, लेकिन उसका कहीं सुराग नहीं लगा। इसके बाद अगले दिन खुशी के गायब होने की सूचना क्षेत्रभर में फैल गई। इस पर कॉलोनीवासियों ने अलग-अलग समूह बनाकर नाबालिग को तलाशन के प्रयास किए, लेकिन उसका कहीं सुराग नहीं लगा। बुधवार को खुशी की मां लक्ष्मी पत्नी रमेश ने महिला थाने में प्रकरण दर्ज कराया। इसके अगलेे दिन उसका शव बरामद हुआ। इससे परिजन भी सकते में आ गए और नाबालिग का अपहरण करने के बाद कार्रवाई के डर से उसकी हत्या कर शव नींव में फेंकने का आरोप लगाया।
नींव मे देखा था बांस डालकर
परिजनों एवं कॉलानी वासियों ने बताया कि बच्ची को जब पुलिस ने ढूंढने के प्रयास नहीं किए जो स्थानीय स्तर पर ही बच्ची को तलाशन के प्रयास हुए। उस दरम्यान मकान की नींव को भी कई बार देखा गया था। उस समय उसमें पानी भरा हुआ था। इससे नींव में बांस डालकर भी देखा गया था, लेकिन उनको वहां कोई नहीं मिला। इसके बाद गुरुवार को अचानक उसी नींव से बच्ची का शव बरामद होना कई सवाल खड़े कर रहा है।
पुलिस ने की इतीश्री
परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाया कि रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद एक बार ही पुलिस यहां आकर इतीश्री करके चली गई। इसके बाद पुलिस के दर्शन ही नहीं हुए। उन्होंने आरोप लगाया कि पहले तो पुलिस ने रिर्पार्ट दर्ज करने के लिए इधर-उधर भटकाया। इसके बाद महिला थाने में भेजकर रिपोर्ट दर्ज करवाई।
परिजनों का हाल बुरा
बेटी की मौत की खबर से घर में मातम छा गया। अस्पताल परिसर की मोर्चरी के बाहर मां-बाप के आंसू थमने का ही नाम नहीं ले रहे थे जिनको बिलखते देख समाज के अन्य महिला पुरुष भी स्वयं को रोक नहीं पाए और उनकी आंखों से भी अश्रुधारा बहर निकली।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned