वीडियो देखें कैसे छकाया भालू ने:शहद के चक्कर में शहर में आकर फंसा भालू, तीन घंटे वन विभाग को छकाया

rakesh verma

Publish: May, 18 2017 10:01:00 (IST)

Sawai Madhopur, Rajasthan, India
वीडियो देखें कैसे छकाया भालू ने:शहद के चक्कर में शहर में आकर फंसा भालू, तीन घंटे वन विभाग को छकाया

मौके पर पहुंची वन विभाग की रेस्क्यू टीम ने उसे बेहोश करने के लिए गन से इंजेक्शन लगाया। इस दौरान वह चारों ओर से भीड़ से घिरा देख बेकाबू हो गया और मकान की दीवार फांदकर भाग निकला। भालू जीएसएस में घुस गया।

सवाईमाधोपुर. शहर के चक्कर में एक भालू रणथम्भौर राष्ट्रीय उद्यान से भटककर एक भालू गुरुवार सुबह खैरदा के आबादी इलाके में घुस गया। उसने मोतीनगर कॉलोनी में तीन लोगों पर हमला कर घायल कर दिया। भालू जंगल से निकल कर ज्योंही आबादी में घुसा तो लोगों पर हमला करता चला गया। 

https://youtu.be/_xpGwxF6tqg

इससे लोगों में भगदड़ मच गई। वे दहशत में भाग गए। बाद में वह रेल पटरी पार क र एक मकान में जा घुसा। मौके पर पहुंचे वनकर्मी राजवीर सिंह ने तीन घंटे की मशक्कत के बाद नौ बजे भालू को ट्रंकोलाइज किया। बाद में उसे कुण्डेरा रेंज में बैरदा के पास भंवर दह में छोड़ा। भालू को देखने लोगो की भीड़ एकत्र हो गई। 

नीमली की तरफ से निकला

वन विभाग का अनुमान है कि ये भालू नीमली के जंगलों की तरफ से रात के अंधेरे में निकाला था। हाउसिंग बोर्ड के लटिया नाले होते हुए खैरदा में जीनापुर फाटक होते हुए खैरदा की कॉलोनियों मेें घुस गया। सुबह करीब छह बजे जाग होने पर उसे छिपने की जगह नहीं मिलने पर लोगों को पता चल गया। इस बीच उसने लोगों पर हमला किया। 

मधुमक्खी एवं शहद 

भालू का शहद एवं मधुमक्खी प्रिय भोजन है। इसकी खुशबू सूंघकर वह कहीं भी चल जाता है। चाहे फिर आबादी और या फिर जंगल। ये भालू भी शहद के चक्कर जंगल से निकला था, लेकिन आबादी इलाके की ओर रुख कर लिया, जहां वह फंस गया। 

भीड़ देख बेकाबू हुआ भालू

भालू लोगों पर हमला करने के बाद सुबह करीब साढ़े छह बजे मोतीनगर खैरदा में रमेश पहाडिय़ा के मकान में जा घुसा। भालू को देखने के लिए घरों की छतों दीवार व आसपास लोगों की भीड़ जुट गई। मौके पर पहुंची वन विभाग की रेस्क्यू टीम ने उसे बेहोश करने के लिए गन से इंजेक्शन लगाया। इस दौरान वह चारों ओर से भीड़ से घिरा देख बेकाबू हो गया और मकान की दीवार फांदकर भाग निकला। भालू जीएसएस में घुस गया। 


वहां उत्पात मचाने के चौथकाबरवाड़ा रोड के समीप बाद खाली भूखण्ड में झाडिय़ों के बीच ओझल हो गया। करीब एक घंटे तक उसे तलाश किया , लेकिन वह नहीं मिला। बाद मेंं वह अचानक झाडिय़ों में से निकल कर मंजन फैक्ट्री की दीवार फांदकर सड़क पर आ गया। भालू के सड़क पर आते ही लोगों में भगदड़ मच गई। वनकर्मी राजवीर ने भालू का पीछा किया। बाद में भालू आरामशीन में जाकर छिप गया। 


वहां उसे दोबारा बेहोश करने के लिए इंजेक्शन लगाया तब जाकर वह करीब नौ बजे पकड़़ में आया।, उधर, पुलिस उपाधीक्षक शहर सुभाषचंद मिश्रा, मानटाउन थानाधिकारी डॉ. उदयभान, एएसआई रामअवतार शर्मा, कमल कुमार ने भीड़ को नियंत्रित करने के लिए काफी मशक्कत की। 

दो बार दिए डोज 

वन विभाग के रेस्क्यू टीम के राजवीर सिंह ने बताया कि भालू को पकडऩे के लिए सुबह करीब सात बजे रमेश पहाडिय़ा के मकान में गन से इंजेक्शन दिया, लेकिन भालू दीवार फांदकर झाडिय़ों में ओझल हो गया। इंजेक्शन लगने के बाद वन्य जीप आधा से पौन घंटे तक बेहोश रहता है। भालू करीब एक घंटे तक नहीं मिला। ऐसे में इंजेक्शन का असर समाप्त होने के बाद वह वापस होश में आ गया। बाद में उसे आरामशीन में दूसरा डोज देकर ट्रंकोलाइज किया है। 

ये हुए घायल 

जिला अस्पताल चौकी पुलिस ने बताया कि मोतीनगर कॉलोनी में भालू के हमले में भारजा नदी सरपंच रामोतार राव (45) निवासी भारजा नदी, राजकुमार पुत्र जानकीलाल(23) निवासी खैरदा तथा एक महिला को घायल कर दिया।लोगों ने उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उनका उपचार चल रहा है। पुलिस ने बताया कि महिला को प्राथमिक उपचार के बाद घर भेज दिया।

नहीं पहुंचे वनाधिकारी

खैरदा कॉलोनी के आबादी क्षेत्र में घुसे भालू ने वहां हमला कर तीन जनों को घायल करने तथा जमकर उत्पात मचाने की घटना के बाद भी कोई वनाधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा। अकेले रेस्क्यू टीम प्रभारी वनकर्मी राजवीर सिंह व करीब आधा दर्जन अन्य वनकर्मी तीन घंटे तक भालू को पकडऩे के लिए मशक्कत करते रहे। 


वनाधिकारी उनसे बार-बार फोन पर ही अपडेट लेते रहे।  उधर, जिला अस्पताल में भी घायलों के हाल जानने के लिए शाम तक कोई भी अधिकारी नहीं पहुंचा। लोगों ने रोष प्रकट किया। इससे लोगों में वनाधिकारियों के प्रति रोष प्रकट किया।  


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned