डूंगरपुर और बाड़मेर से भी पिछड़़ गया हमारा सीकर, जानें क्या है इसका कारण

dinesh rathore

Publish: Apr, 17 2017 02:54:00 (IST)

Sikar, Rajasthan, India
डूंगरपुर और बाड़मेर से भी पिछड़़ गया हमारा सीकर, जानें क्या है इसका कारण

जिले में प्रारंभिक शिक्षा की हालत खराब होती जा रही है। विद्यालयों में ना खेल मैदान है ना ही भौतिक विकास हो रहा है।

जिले में प्रारंभिक शिक्षा की हालत खराब होती जा रही है। विद्यालयों में ना खेल मैदान है ना ही भौतिक विकास हो रहा है। कहीं ब्रॉडबैण्ड नहीं है तो कहीं विद्यालय विकास समिति की नियमित बैठक नहीं हो रही।  नतीजा यह रहा कि शिक्षा नगरी सीकर प्रारंभिक शिक्षा में कमजोर होता जा रहा है। शिक्षा की दृष्टि से कभी पिछड़े माने जाने वाले बाड़मेर, डूंगरपुर व सिरोही जैसे जिले भी सीकर से आगे निकल रहे हैं।  राजस्थान प्रारंभिक शिक्षा परिषद ने राजकीय विद्यालयों को रैकिंग प्रदान करने की व्यवस्था शुरू की है। जिसमें 16 बिंदुओं पर जोर दिया गया है। 




Read:

एक लाख से अधिक है आपकी वार्षिक आय तो नहीं होगा ये काम



सरकारी स्कूलों की रैकिंग का आधार


  • उत्कृष्ट विद्यालयों में खेल मैदान की उपलब्धता
  • उत्कृष्ट विद्यालयों में एसएसए के अतिरिक्त अन्य योजनाओं में भौतिक विकास के लिए पर्याप्त बजट
  • उत्कृष्ट विद्यालयों में भौतिक विकास के लिए सीएसआर राशि/डोनेशन
  • कल्प लैब की उपलब्धता
  • समस्त प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों में नामांकन वृद्धि
  • बोर्ड परीक्षा परिणाम उन्नयन कक्ष ा पांच और आठ
  • उत्कृष्ट विद्यालयों में भौतिक विकास
  • उत्कृष्ट विद्यालयों में भवन की उपलब्धता
  • उत्कृष्ट विद्यालयों में ब्रॉडबैण्ड लैब की उपलब्धता
  • उप्रा (उत्कृष्ट)विद्यालयों में सेनेटरी नेपकिन डिस्पेन्सर/ इन्सीनेटर की स्थापना
  • जिला निष्पादक समिति की बैठक 2016-17
  • ब्लॉक स्तरीय मॉनिटरिंग कमेटी बैठक 2016-17
  • जिला स्तरीय सलाहकार समिति की बैठक 2016-17
  • विद्यालय विकास योजना
  • 80 जी पंजीयन सूचना




Read:

आपको भी देनी है द्वितीय श्रेणी शिक्षक भर्ती की परीक्षा तो ये खबर बढ़ा सकती है आपकी परेशानी


चित्तौड़ अव्वल


जिलेवार रैकिंग का निर्धारण किया जा रहा है। जिसमें फरवरी की रैंकिंग में सीकर राज्य में 24 वें नंबर पर आया है। चितौडग़ढ़ जिले ने इस बार राज्य में पहला स्थान बनाया है। बीकानेर, अजमेर, अलवर, बाडमेर चौथे स्थान पर हैं। श्रीगंगानगर छठे, डूंगरपुर, राजसमंद 11वें, झुंझुनूं 14 वें, हनुमानगढ़ और सिरोही राज्य में 15वें तथा झालावाड़ व कोटा 21वें स्थान पर रहे। अंतिम तीन में टोंक, पाली और जैसलमेर जिले शामिल हंै।


कुछ सूचनाओं के कारण सीकर पीछे रह गया था। अब व्यवस्थाओं में सुधार कर लिया गया है। अगली रेंकिंग में सीकर की स्थित हर हाल में बेहतर होगी। पूरे जिले की टीम तन मन से लगी हुई है।

जगदीश यादव, जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned