घर की चौखट पर बैठकर अब भी अपनी बेटियों का इंतजार कर रही सीकर की यह महिला, खबर में जानें क्या हुआ इनकी बेटियों के साथ

Sikar, Rajasthan, India
घर की चौखट पर बैठकर अब भी अपनी बेटियों का इंतजार कर रही सीकर की यह महिला, खबर में जानें क्या हुआ इनकी बेटियों के साथ

104 दिन पहले घर से निकलीं दो बेटियों का अभी तक कोई सुराग नहीं लगा। परिजनों ने कई दिनों तक उनका अलग-अलग प्रदेशों में भी तलाश करवाई लेकिन कहीं कुछ पता नहीं चला।

बेटी की हर आहट पर मां एक झटके में खड़ी हो जाती। आज वह लाडो पिछले 104 दिनों से लापता है। मां रोजाना दरवाजे पर खड़ी होकर बेटी का इंतजार करती है, लेकिन बेटी का कोई संदेश नहीं आता है। यह कहानी है सीकर निवासी दीपिका व चन्द्रिका के परिवार की। दोनों चचेरी बहिन पांच मार्च से घर से अलग-अलग निकली। लेकिन आज तक घर नहीं लौटी है। बेटियों के गम में परिजनों ने एक महीने तक कई राज्यों में तलाश कर रहे है, लेकिन बेटियों का कोई सुराग नहीं लगा। दीपिका की मां प्रमिला का कहना है कि मेरी बेटी जरूर आएगी।




रिपोर्ट दर्ज होने के बाद  भी पुलिस नहीं है गंभीर 



दीपिका व चन्द्रिका की गुमशुदगी रिपोर्ट पांच मार्च को ही दर्ज करवाई गई। रिपोर्ट दर्ज करवाने के बाद पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया। बाद में17 मार्च को दोनों लड़कियों की स्कूटी भी रींगस से बरामद हो गई। परिजनों ने बेटियों को बहला फुसला कर अपहरण कर ले जाने की आशंका भी जताई थी। मामले में तीन माह से अधिक समय बीत जाने के बाद भी पुलिस गंभीर नहीं हेाने के कारण अब तक कोई सुराग नहीं मिल पाया है।




न्यायालय में की लगाई गुहार


बेटियों की रिपोर्ट दर्ज करवाने के बाद भी कार्रवाई नहीं होने पर परिजनों ने राजस्थान उच्च न्यायालय में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर गुहार लगाई है। इसके अलावा अतिरिक्त महानिदेशक हुमन राईस को ज्ञापन देकर कार्रवाई की मांग की है। पिता का कहना है कि मामले में पुलिस थोड़ी   गंभीर रहती तो अब तक बेटियों का सुराग लगाया जा सकता था। पिता ने अब पूरे मामले की जानकारी गृहमंत्री को देने की तैयारी कर ली है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned