अगर यहां लगी आग तो बुझाने नहीं पहुंचेगी दमकल, जानें इसका कारण

dinesh rathore

Publish: Mar, 18 2017 12:11:00 (IST)

Sikar, Rajasthan, India
अगर यहां लगी आग तो बुझाने नहीं पहुंचेगी दमकल, जानें इसका कारण

शहर में बहुमंजिला भवनों में आग के बचाव के संसाधन नियमों में उलझे हैं। शहर में डेढ़ सौ से अधिक चार से पांच मंजिला भवन व कॉम्पलेक्स है। लेकिन परिषद रिकॉर्ड में इन्हें बहुमंजिला भवन नहीं मानती।

शहर में बहुमंजिला भवनों में आग के बचाव के संसाधन नियमों में उलझे हैं। शहर में डेढ़ सौ से अधिक चार से पांच मंजिला भवन व कॉम्पलेक्स है। लेकिन परिषद रिकॉर्ड में इन्हें बहुमंजिला भवन नहीं मानती। एेसे में दूसरे भवनों में आग की सुरक्षा को लेकर ना तो परिषद गंभीर है और ना ही बिल्डर। शहर के  अधिकतर भवनों में आग से बचाव के कोई साधन नही है। परिषद के नियमानुसार एक हजार वर्ग गज जमीन पर 15 मीटर ऊंचाई पर बने भवन को बहुमंजिला माना जाता है। सीकर शहर में एेसे महज चार से पांच ही भवन है।  



Read:

ऐसे तो दवा भी कुछ नहीं कर पाएगी, जब तक इस पर अंकुश नहीं लगाएगी सरकार



कैसे बुझेगी फ्लेट में लगी आग 


सीकर शहर के दकमल कर्मचारी तंग गलियों की परेशानी के चलते लोगों का विरोध तो आए दिन झेल ही रहे हैं। लेकिन शहर के किसी भी कॉम्लेक्स में आग लग गई तो परिषद के पास हाथ खड़े करने के अलावा कोई साधन नहीं है। कारण कि परिषद के पास सात दमकल है, लेकिन एक भी दमकल दूसरी मंजिल से ऊपर के फ्लेट में आग बुझाने में सक्षम नहीं है। परिषद के पास तो दस से पंद्रह मीटर तक ऊंचाई के लिए भवन की आग बुझाने के लिए सीडी भी नहीं है। इस दिशा में परिषद के काम की स्थिति को देखा जाए तो बहुमंजिला भवनों की आग बुझाने वाली बड़ी दकमल 'फायर फाइटरÓ के लिए अभी तक महज प्रस्ताव भेजा गया है। यह प्रस्ताव राज्य सरकार के पास विचाराधीन है।  



Read:

Video : तेल से भरा था ट्रोला, कार से भिड़ते ही जल गया ट्रोला और कार



पार्किंग ना सैडबेक 


सीकर शहर में सौ से अधिक बहुमंजिला भवन निर्माण स्वीकृति के विपरीत बने हैं। इनमें पार्र्किंग और सैडबेक की जगह पर बिल्डर्स ने निर्माण कर बेचान तक कर दिया। यह बात परिषद की ओर से पिछले दिनों करवाए गए सर्वे में भी सामने आ चुकी है। परिषद ने कई भवन मालिकों के खिलाफ कार्रवाई के नाम पर नोटिस और चालान पेश किए हैं, लेकिन समस्या का धरातल पर समाधान नहीं किया गया। एेसे में आग जैसी बड़ी घटना होने पर परिषद के साथ वहां पर रहने वाले लोग भी बड़ी परेशानी में फंस जाएंगे। यह बात परिषद के अधिकारी भी स्वीकार करते हैं।



शहर में एेसे चार से पांच ही भवन है। इन भवनों में अग्निशमन के संसाधन है। परिषद के पास आग बुझाने के लिए दकमल और सीढि़यां है। हालांकि चार से पांच मंजिल के भवन में आग बुझाने के लिए यह साधन पर्याप्त नहीं है। 

भंवरलाल सोनी, आयुक्त, नगर परिषद सीकर

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned