गुरु पूर्णिमा आज: इस बार बने दो विशेष योग, जगह-जगह होगा गुरु पूजन, सालासर धाम में उमड़े श्रद्धालु...

dinesh rathore

Publish: Jul, 09 2017 10:59:00 (IST)

Sikar, Rajasthan, India
गुरु पूर्णिमा आज: इस बार बने दो विशेष योग, जगह-जगह होगा गुरु पूजन, सालासर धाम में उमड़े श्रद्धालु...

गुरु पूर्णिमा के पावन पर्व पर इस बार राज योग व सर्वार्थ सिद्धि का विशेष योग रहेगा। रविवार को अनेक जगह गुरु पूजन के कार्यक्रम होंगे। शिक्षण संस्थानों में भी पर्व मनाया जाएगा।

गुरु पूर्णिमा के पावन पर्व पर इस बार राज योग व सर्वार्थ सिद्धि का विशेष योग रहेगा। रविवार को अनेक जगह गुरु पूजन के कार्यक्रम होंगे। शिक्षण संस्थानों में भी पर्व मनाया जाएगा।

पंडितों के अनुसार जिस प्रकार आषाढ़ की घटा बिना भेदभाव के सब पर जलवृष्टि कर जन-जन का ताप हरती है, उसी प्रकार विश्व के सभी गुरु अपने शिष्यों पर इस पावन दिन में आशीर्वाद की वर्षा करते हैं। एक ऐसा पर्व है जो गुरुओं के सम्मान के लिए है। यह पर्व आषाढ़ मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। कहते हैं जैसे सूर्य की गर्मी से तपती भूमि को बारिश से शीतलता और फसल पैदा करने की शक्ति मिलती है, ऐसे ही गुरु मानव को अज्ञानता के अंधेरे से ज्ञान के प्रकाश की ओर ले जाता है और भविष्य संवारता है इसलिए उनके सम्मान में ही आषाढ़ मास पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के नाम से मनाया जाता है।





Read also:

कड़वे प्रवचन: खुशी चाहिए तो हर हाल में जीना सीखो....जानिए आखिर किसने कहा ऐसा...




क्या है मान्यता


हिंदू धर्म में इसका विशेष महत्व है। धर्म ग्रंथों के अनुसार इस दिन भगवान विष्णु के अवतार वेद व्यासजी का जन्म हुआ था। इन्होंने महाभारत आदि कई महान ग्रंथों की रचना की। गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा भी कहा जाता है।


सालासर में उमड़ी श्रद्धा


सिद्धपीठ सालासर धाम में शनिवार को बड़ी संख्या में श्रद्धालु उमड़े। किसी ने जोड़े की जात दी तो किसी ने सवामणी का भोग लगाकर बाबा से सुख समृद्धि की कामना की। कतार में खड़े रहने के बाद श्रद्धालुओं ने बाबा के दर्शन किए। यहां रविवार को भी बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आने की संभावना है। वहीं श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए विशेष व्यवस्था की गई जिससे भक्तों को परेशानी हो।


रैवास में उमड़ेगी श्रद्धा


रैवासाधाम स्थित जानकी नाथ बड़ा मंदिर में नौ जुलाई को डॉ स्वामी राघवाचार्य वेदान्ती के सानिध्य में सुबह नौ से दस बजे तक पूर्वाचार्यों का षोडशोपचार पादुका पूजन होगा। दस से सवा दस बजे तक गुरु पूजन व आशीर्वचन होगा। सवा दस से बारह बजे तक मुख्य यजमानों की ओर से गुरुपूजन होगा। दोपहर बारह बजे से प्रसाद का वितरण होगा। इधर सीकर स्थित भारत माता मंदिर योगशाला में विश्वशांति व विश्व मंगल की कामना के लिए हवन का आयोजन किया जाएगा। डॉ राजाराम योगाचार्य ने बताया कि हवन प्रात साढ़े पांच बजे से शुरू होगा।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned