#CAMPAIGN: सैलानी अंधेरे में, चैकपोस्ट पर सोलर प्लांट, पर्यटकों की परवाह नहीं...आप भी जानिए अनदेखी का शिकार हमारा हर्ष पर्वत...

dinesh rathore

Publish: Jul, 09 2017 11:39:00 (IST)

Sikar, Rajasthan, India
#CAMPAIGN: सैलानी अंधेरे में, चैकपोस्ट पर सोलर प्लांट, पर्यटकों की परवाह नहीं...आप भी जानिए अनदेखी का शिकार हमारा हर्ष पर्वत...

हर्ष पर्वत पर आने वाले पर्यटकों के लिए उम्मीदों की रोशनी हर बार जगाई गई, लेकिन रोशनी मुकाम पर पहुंचने से पहले ही अंधेरे में तब्दील हो जाती है।

हर्ष पर्वत पर आने वाले पर्यटकों के लिए उम्मीदों की रोशनी हर बार जगाई गई, लेकिन रोशनी मुकाम पर पहुंचने से पहले ही अंधेरे में तब्दील हो जाती है। पर्वत पर रात के समय चांद की रोशनी में अलग-अलग स्थानों पर नजारा देखने के लिए बनाए जाने वाले पॉइंट कागजों में ही बनकर रह गए। रात के समय यहां पर्यटकों को प्रर्याप्त रोशनी नहीं होने के कारण गॢमयों में सात बजते ही रवानगी लेनी पड़ती है। हर्ष पर्वत पर रात के समय कई स्थान है जहां से रात में प्रकृति के नजारों को पूरा आनन्द उठाया जा सकता है। 

हर्ष पर करीब छह किलोमीटर के जोखिम भरे सफर में अक्सर दुर्घटनाएं हो जाती है। बारिश के दिनों में हर्ष पर्वत पर पर्यटकों की संख्या बढ़ जाती है। जबकि बरसात होने पर पर्यटकों को बचाव के लिए किसी प्रकार के कमरे या रेस्ट हाउस की व्यवस्था तक नहीं है। हर बार वन विभाग और सार्वजनिक निर्माण विभाग एक दूसरे पर जिम्मेदारी डाल पल्ला झाड लेते हैं।    यहां बरसात में टूटी सड़कों के अलावा ऊपर से पहाड़ों से पत्थर गिरना भी शुरू हो जाता है। सड़कों को देखकर लगता है कि आप बिना किसी प्रशिक्षित चालक के पहाड़ी के ऊपरी हिस्से तक नहीं पहुंच सकते हैं। 






Read also:

#CAMPAIGN: सरकारी वांदों में दबा हर्ष पर्वत तरस रहा है विकास के लिए, आप भी जानिए अनदेखी का शिकार हमारा हर्ष पर्वत...





शुल्क पूरा सुविधा जीरो


 हर्ष पर्वत पर रात को ठहरने के लिए लिहाज से गेस्ट हाउस बनाए गए है लेकिन हकीकत यह है कि दिन ढ़लने के साथ ही हर्ष पर्वत पूरी तरह अंधेरें के आगोश में आ जाता है। वजह लाइट की सही व्यवस्था नहीं होना है। समिति के अध्यक्ष गणपत आर्य ने बताया कि  हर्ष पर्वत पर पर्यावरण शुल्क से मिली राशि से आंतरी मोड से आगे वन सुरक्षा समिति आंतरी की चैकपोस्ट पर सोलर प्लांट लगाया गया है। इस चैक पोस्ट पर दुपहिया वाहन से दस रुपए और चौपहिया वाहन से 20 रुपए पर्यावरण शुल्क के  लिए जाते हैं। चैक पोस्ट के जरिए आने वाले शुल्क से हर्ष पर्वत का विकास होना था। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned