अभी सीएम ने जवाब भी नहीं दिया और अटके प्रोजेक्टों की स्वीकृति के लिए दौड़ लगाने लगे ये दिग्गज

Sikar, Rajasthan, India
अभी सीएम ने जवाब भी नहीं दिया और अटके प्रोजेक्टों की स्वीकृति के लिए दौड़ लगाने लगे ये दिग्गज

बजट से टूटी आमजन की उम्मीदों के बीच आखिरी सहारे की घड़ी भी नजदीक आ गई है। बजट पर चर्चा के बाद मुख्यमंत्री के जवाब के दौरान कई घोषणा होने की उम्मीद है।

बजट से टूटी आमजन की उम्मीदों के बीच आखिरी सहारे की घड़ी भी नजदीक आ गई है। बजट पर चर्चा के बाद मुख्यमंत्री के जवाब के दौरान कई घोषणा होने की उम्मीद है। इसमें सीकर जिले को अटके प्रोजेक्टों की स्वीकृति दिलाने के लिए भाजपा विधायक अभी से जुटे है। विधायकों का मानना है कि अटके प्रोजेक्टों को इस बजट में ही सहारा मिलने पर ही चुनावी मैदान में उनको फायदा मिल सकेगा। क्योकि ज्यादातर बड़े प्रोजेक्ट है और उनको पूरा होने में भी एक से डेढ़ वर्ष का समय लगेगा। जिले के जनप्रतिनिधि सबसे ज्यादा दांव कुम्भाराम लिफ्ट पेयजल परियोजना, रींगस में ट्रोमा सेंटर, उपखंड मुख्यालयों पर सरकारी कॉलेज पर खेल रहे है। पत्रिका ने इस मामले में भाजपा जिलाध्यक्ष व कई विधायकों से बातचीत की तो उनका भी साफ कहना है कि बजट सत्र के आखिर में सीकर जिले के प्रोजेक्टों को शामिल कराने के लिए एकजुट होकर पूरे प्रयास किए जा रहे है।



Read:

पुजारी का इनसे ऐसा प्रेम कि इन्हें बना लिया...



उपखंड पर सरकारी कॉलेज


जिले की सबसे बड़ी मांग उपखंड मुख्यालयों पर सरकारी कॉलेज है। जिले के जनप्रतिनिधि इस वर्ष धोद व श्रीमाधोपुर में सरकारी कॉलेज की घोषणा कराने के प्रयास में जुटे है। क्योकि धोद पर लगातार माकपा का कब्जा रहा है। एेसे में वर्तमान विधायक सरकारी कॉलेज को स्वीकृति दिलाकर युवा मतदाताओं पर पकड़ बनाने के पक्ष में है। दूसरी तरफ श्रीमाधोपुर की जिला मुख्यालय से दूरी काफी है।



Read:

...तो इसलिए हमें छोड़कर चली गईं गौरैया, कारण ऐसा कि...



कुम्भाराम लिफ्ट परियोजना


सरकार ने बजट में कुम्भाराम लिफ्ट परियोजना की घोषणा तो की है लेकिन राहत अभी दूर नजर आ रही है। क्योकि डीपीआर के लिए तो पैसा मिल गया। इससे डीपीआर भी बन जाएगी। लेकिन प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाने के लिए बजट जरूरी है। एेसे में जिले के विधायक इस मुद्दे पर सरकार पर पहले चरण के लिए बजट मंजूर कराने में जुटे है।



Read:

जीणमाता आ रहे हैं तो इनसे बचें, ये रोक सकते हैं आपका रास्ता



ट्रोमा सेंटर बना साख का सवाल


रींगस में ट्रोमा सेंटर की मांग वर्षो पुरानी है। इस बार चिकित्सा मंत्री व चिकित्सा राज्य मंत्री भी सीकर जिले से है। एेसे में लोगों को पूरी उम्मीद थी कि बजट में रींगस के ट्रोमा सेंटर को मंजूरी मिलेगी। लेकिन बजट में रींगस का नाम नहीं आने पर लोगों में मायूसी है। एेसे में अब खुद चिकित्सा राज्य मंत्री बंशीधर खण्डेला ट्रोमा सेंटर के लिए पूरे प्रयास करने में जुटे है।


बहस के बाद मिलेगी सौगात


सीकर जिले की विभिन्न लंबित मांगों को लेकर प्रदेश अध्यक्ष से चर्चा हुई थी। बजट सत्र की बहस के दौरान कई घोषणा होने की उम्मीद है।

मनोज सिंघानियां, जिलाध्यक्ष, भाजपा


श्रीमाधोपुर में सरकारी महाविद्यालय व कुम्भाराम लिफ्ट परियोजना को लेकर पिछले दिनों चर्चा हुई थी। उम्मीद है कि बजट बहस की चर्चा के बाद सीकर जिले को कई सौगात मिलेगी।

झाबर सिंह खर्रा, विधायक, श्रीमाधोपुर

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned