सरकार की गलत नीतियों ने कृषकों को बनाया कर्जदार: रामपाल जाट

Amar Singh

Publish: Jul, 14 2017 09:37:00 (IST)

Sirohi, Rajasthan, India
सरकार की गलत नीतियों ने कृषकों को बनाया कर्जदार: रामपाल जाट

मिट्टी कलश लिए साथ मध्यप्रदेश के मंदसौर में हुए किसान आन्दोलन के दौरान 6 किसानों की मौत हो गई थी। ऐसे में आन्दोलन में जान गंवाने वाले किसानों को श्रद्धांजलि देने के बाद उनके गांवों से मिट्टी कलश लेकर किसान मुक्ति यात्रा शुरू की गई।



सिरोही. किसान महापंचायत राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट ने कहा कि सरकार की गलत नीतियों से किसान कर्जदार बन गया है। ऐसे में अब समय आ गया है कि किसान जागरूक होकर अपने हक के लिए एकजुट होकर संघर्ष करें। वे गुरुवार को सर्किट हाऊस में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि किसानों की समस्याओं के निराकरण को लेकर देश में करीब 130 किसान संगठन एकजुट हुए हैं। वहीं अखिल भारतीय किसान संघर्षसमन्वय समिति के बैनर तले पहली बार विभिन्न प्रांतों से होकर 'किसान मुक्ति यात्राÓ निकाली गई है। उन्होंने कहा कि यात्रा में शामिल किसानों के दल ने बुधवार शाम सिरोही जिला सीमा से राजस्थान में प्रवेश किया है। अब दल राजस्थान के मारवाड़, मेवाड़, शेखावटी व ढूंढाड़ क्षेत्र में चार दिन अलग-अलग कार्यक्रम करते हुए 16 जुलाई को आगरा पहुंचेगा। स्वराज आंदोलन के संयोजक योगेन्द्र यादव ने कहा कि मोदी ने चुनाव पूर्व किसानों से कई वादे किए थे, लेकिन बाद में इन वादों की ओर कोईध्यान नहीं दिया। किसान सालों से देश को अनुदान देता आ रहा है। ऐसे में कर्ज मुक्ति किसानों का अधिकार है। संसद अन्नदाता के हितों पर चुप कैसे रह सकती है। ऐसे में अब किसान संसद पर नजर रखेंगे और अपना हक लेने के लिए आर-पार की लड़ाईलड़ेंगे। इस मौके इचलकरंजी (महाराष्ट्र) सांसद राजू शेट्टी, भोपालगढ़ के पूर्व विधायक नारायणराम बेड़ा, उत्तर प्रदेश के पूर्व विधायक एवं किसान संघर्षसमन्वय समिति के संयोजक वी.एम. सिंह, डॉ. सुनिलम सहित कई किसान नेता मौजूद थे।
मिट्टी कलश लिए साथ
मध्यप्रदेश के मंदसौर में हुए किसान आन्दोलन के दौरान 6 किसानों की मौत हो गई थी। ऐसे में आन्दोलन में जान गंवाने वाले किसानों को श्रद्धांजलि देने के बाद उनके गांवों से मिट्टी कलश लेकर किसान मुक्ति यात्रा शुरू की गई। जो 6 जुलाई को मंदसौर से रवाना होकर महाराष्ट्र, गुजरात होते हुए राजस्थान सीमा में प्रवेश किया है।
दिल्ली में होगा पड़ाव
किसानों की विभिन्न मांगों को लेकर 18 जुलाईसे करीब 130 से अधिक किसान संगठन एकजुट होकर दिल्ली में धरना शुरू करेंगे।
भाजपा किसान विरोधी
पिण्डवाडा. मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले में पुलिस कार्रवाई में मारे गए छह किसानों की मौत के बाद अखिल भारतीय किसान समन्वय समिति की अगुवाई में शुरू हुई किसान मुक्ति यात्रा गुरुवार को पिण्डवाड़ा पहुंची। शहर के पास स्थित पिण्डवाडा उदयपुर फोरलेन हाईवे पर बैठक का आयोजन किया गया। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति संयोजक वीएम सिंह ने कहा कि किसानों के हक के लिए सबसे पहली आवाज उत्तरप्रदेश में उठी और किसानों ने संघर्ष की राह अपनाकर सरकार को कर्ज माफी के लिए मजबूर किया। स्वराज के योगन्द्र यादव ने कहा कि किसानों का कर्ज माफ करना समस्या का समाधान नहीं है। उनके लिए सरकार को ऐसी व्यवस्था करनी चाहिए, कि उन्हें कर्ज लेने की आवश्यकता ही नहीं पड़े। उन्होंने किसानों को 18 जुलाई को जंतर-मंतर आने की अपील की। स्वाभिमानी शेतकारी संगठन के प्रतिनिधि सांसद राजू शेट्टी ने कहा कि  केन्द्र की मोदी सरकार किसान विरोधी है। इस मौके महाराष्ट्र राज्य टैक्सटाइल्स विभाग के चेयरमैन रवि कांत तुल्कर, यूपी के उपेन्द्रसिंह, सुमित मलिक, महावीरसिंह मौजूद थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned