अस्पताल के ही कम्प्यूटर ऑपरेटर के वेतन बिल पास करने के एवज में लिए 1000, अकाउंटेंट गिरफ्तार

Ashish Joshi

Publish: Jul, 13 2017 01:44:00 (IST)

Udaipur, Rajasthan, India
अस्पताल के ही कम्प्यूटर ऑपरेटर के वेतन बिल पास करने के एवज में लिए 1000, अकाउंटेंट गिरफ्तार

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने बुधवार को मावली स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) के लेखाकार मंगलचंद सैनी को एक हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया।

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने बुधवार को मावली स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) के लेखाकार मंगलचंद सैनी को एक हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया। उसने यह राशि सीएचसी में ही नियुक्त दो कम्प्यूटर ऑपरेटर से वेतन बिल पास करवाने के एवज में ली थी।



READ MORE : दोस्ती के बहाने घर पहुंचा सिविल इंजीनियर ले भागा 22 तोला सोना, गिरफ्तार



ब्यूरो के एएसपी राजेश भारद्वाज ने बताया कि मावली सीएचसी के डाटा ऑपरेटर रेलमगरा (राजसमंद) निवासी मीना यादव व चमनपुरा (मावली) निवासी प्रवीण गायरी ने लेखाकार उदयपुरवाटी (झुंझुनूं) निवासी मंगलचंद पुत्र दुर्गाराम सैनी की शिकायत की थी। सीआई हरिशचन्द्रसिंह के नेतृत्व में टीम ने सत्यापन किया। आरोपित ने राशि लेकर सीएचसी परिसर स्थित क्वार्टर पर बुलाया, जहां उसे एक हजार रुपए लेते गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपित ने वर्ष 2008 में सरकारी नौकरी पाई थी। पहले वह खेमली सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में था और वर्ष 2014 से मावली में है। यहां वह सीएचसी के डॉ. पालीवाल के क्वार्टर में रह रहा था। चिकित्सक ने यह क्वार्टर उसे कैसे दिया है, एसीबी इस बारे में भी तफ्तीश कर रही है। टीम ने आरोपित के क्वार्टर से वेतन बिलों के कागजात जब्त किए हैं।



READ MORE : Ajab-Gajab: कपड़े उतारे तो भिखारी निकला 'मालामाल', फूले हुए पेट का इस तरह खुला राज, देखें वीडियो



पहले भी लिए थे रुपए


एएसपी ने बताया कि सीएचसी पर लगे डाटा ऑपरेटर संविदाकर्मी हैं, जिन्हें साढ़े आठ हजार रुपए माहवार वेतन मिलता है। इनके बिल का भुगतान भी तीन से चार महीने में होता है। गत माह भी चार माह के वेतन के बिलों के भुगतान में तीन कार्मिकों से 1500-1500 रुपए लिए गए थे। इस बार भी चार माह के बिलों के भुगतान के एवज में आरोपित ने दोनों परिवादियों से 1500 रुपए मांगे। इनकार पर प्रत्येक से 500 रुपए लेने पर राजी हुआ।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned