धमाकेदार रंगारंग प्रस्तुतियों के साथ हुआ पाई का समापन, हर कोर्स से चुने गए बेस्ट स्टूडेंट्स हुए पुरस्कृत

Udaipur, Rajasthan, India
धमाकेदार रंगारंग प्रस्तुतियों के साथ हुआ पाई का समापन, हर कोर्स से चुने गए बेस्ट स्टूडेंट्स हुए पुरस्कृत

मौका था, राजस्थान पत्रिका के पत्रिका इन एजुकेशन 'पाईÓ की ओर से आयोजित समर स्कूल के ग्रांड फिनाले का, जिसके साक्षी बने शहर के गणमान्य लोग और स्टूडेंट्स के पैरेन्ट्स। कार्यक्रम में समर स्कूल के बेस्ट स्टूडेंट्स को पुरस्कृत किया। साथ ही सभी प्रतिभागियों को सर्टिफिकेट भी दिए गए।

सतरंगी रोशनी से चमकता मंच। म्यूजिक की धुनों पर छोटे-बड़े कदमों की थिरकन। कभी सालसा डांस की बिखरी छटा, तो कभी चला हिप हॉप का मैजिक। इस बीच, सभागार में गूंजती तालियों की गडग़ड़ाहट और मस्ती में डूबा समां। दोपहर में आई हल्की बारिश से मौसम वैसे भी खुशनुमा हो गया था। हालांकि अचानक रिमझिम से एकबारगी बच्चों व अभिभावकों तो लगा कि कार्यक्रम बाधित न हो जाए। फिर समय बीतते आसमान खुला और शनिवार को 'पाईÓ समर कैंप की सतंरगी शाम सजी। एक से बढ़कर एक कई प्रस्तुतियों से मंच पर हुनर के रंग निखर उठे। किसी ने अपनी गायकी से इन रंगों को जीवंत कर दिखाया, तो किसी ने फैशन शो के जरिए राजस्थानी संस्कृति की छटा बिखेरी।


मौका था, राजस्थान पत्रिका के पत्रिका इन एजुकेशन 'पाईÓ की ओर से आयोजित समर स्कूल के ग्रांड फिनाले का, जिसके साक्षी बने शहर के गणमान्य लोग और स्टूडेंट्स के पैरेन्ट्स। कार्यक्रम में समर स्कूल के बेस्ट स्टूडेंट्स को पुरस्कृत किया। साथ ही सभी प्रतिभागियों को सर्टिफिकेट भी दिए गए।



READ MORE : उदयपुर के इस शख्स को ईश्वर ने बख्शा है हुनर, आप भी हो जाएंगे इनकी कलाकारी के मुरीद..देखें Video



समापन अवसर पर अर्थ डाइग्नोस्टिक सेंटर के निदेशक डॉ राजेन्द्र कच्छावा, प्रशान्त अग्रवाल अध्यक्ष नारायण सेवा संस्था बतौर अतिथि मौजूद रहे। राजस्थान पत्रिका उदयपुर संस्करण के वरिष्ठ शाखा प्रबन्धक मनोज नायर तथा संपादकीय प्रभारी आशीष जोशी ने अतिथियों का स्वागत किया।


पाई क्लासेज में कई प्रतिभागी ऐसे थे जिनका परिचय इसी दौरान हुआ था। इतने दिनों के साथ ने उन्हें अनजान से दोस्त बना दिया था। इसलिए क्लासेज खत्म होने से उन्हें ना मिल पाने का अफसोस था। पर, जो दोस्ती कायम हुई है उसे हमेशा वैसा ही बनाए रखने का संकल्प लिए एेसे दोस्तों ने एक दूजे के साथ सेल्फी खींच अपनी यादें भी सहेजी।


कोई किसी से कम नहीं


जहां बड़े अपने जलवे दिखा रहे थे तो नन्हे-मुन्ने भी कहां पीछे रहने वाले थे, सभी ने अपने डांस व दूसरी कलाओं का प्रदर्शन कर सभी को इम्प्रेस कर दिया। कई पेरेंट्स ने अपने बच्चों की परफॉर्मेंस को कैमरे और मोबाइल में भी कैद किया।


हर तरफ हुनर के जलवे


नन्हें और युवा प्रतिभागियों में से किसी ने वेस्टर्न डांस तो किसी ने क्लासिकल व फॉक डांस किया। इसी तरह, बॉलीवुड, हिपहॉप व सालसा ने तो समां बांध दिया। हर डांस नम्बर पर प्रतिभागियों के साथ दर्शक दीर्घा में बैठे लोग भी रह-रहकर झूम रहे थे। इसके अलावा एंकरिंग, गिटार, ढोलक, स्किट आदि विधाओं के प्रतिभागियों ने अपने हुनर के जलवे दिखाए।


50 से ज्यादा बेस्ट स्टूडेंट


समर स्कूल में सिखाए गए कोर्सेज से प्रतिभागियों को कई तरह के लाभ मिले। एक तो उन्हें कुछ नया सीखने को मिला, उनका व्यक्तित्व विकास हुआ और उनका हुनर भी निखरा। जो भी कमी वे अपने अंदर देखते थे, उस कमी को वे बहुत हद तक दूर करने में सफल रहे। फिर जिन्होंने कोर्सेज में सर्वश्रेष्ठ कर दिखाया, ऐसे करीब 50 से अधिक पार्टिसिपेंट्स ने बेस्ट स्टूडेंट का खिताब पाया।


सराही गई प्रदर्शनी


इस अवसर पर प्रतिभागियों के कार्यों की प्रदर्शनी भी आयोजित की गई। जिसमें पाई क्लासेज के दौरान सीखा गया क्रिएटिव वर्क शहरवासियों को देखने का मौका मिला। इसमें बेस्ट आउट ऑफ वेस्ट, फोटोग्राफी, ज्वैलरी डिजाइनिंग, पॉट डिजाइनिंग, क्ले मॉडलिंग आदि के तहत बनाई गई सामग्रियों का प्रदर्शन किया गया। इस अवसर पर सभी स्टूडेंट्स को ग्रुप के अनुसार पार्टिसिपेशन सर्टिफिकेट भी प्रदान किए गए।


Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned