राजस्थान में 'धरती के भगवान' की फिर शर्मनाक करतूत, भ्रूण लिंग जांच करते तीसरी बार में धारा गया सीनियर डॉक्टर

nakul devarshi

Publish: Apr, 17 2017 11:30:00 (IST)

Udaipur, Rajasthan, India
राजस्थान में 'धरती के भगवान' की फिर शर्मनाक करतूत, भ्रूण लिंग जांच करते तीसरी बार में धारा गया सीनियर डॉक्टर

नीमच के 56 वर्षीय डॉ. आरके गुप्ता नीमच में सोनोग्राफी एवं डायग्नोस्टिक सेंटर संचालित कर रहा है। डॉक्टर ने 30 हजार रुपए लेकर लिंग जांच कर भ्रूण के बारे में जानकारी दी तथा गर्भपात कराने के लिए 30 हजार रुपए की मांग की।

राज्य पीसीपीएनडीटी सेल ने मध्यप्रदेश के नीमच जिले में राजस्थान की गर्भवती डिकॉय महिला के भ्रूण के लिंग जांच करने के आरोप में एक डॉक्टर को गिरफ्तार किया है। साथ ही उससे 30 हजार रुपए की राशि के नोट बरामद किए।



स्वास्थ्य विभाग के मिशन निदेशक एवं राज्य पीसीपीएनडीटी सेल के समुचित प्राधिकारी नवीन जैन ने बताया कि नीमच के 56 वर्षीय डॉ. आरके गुप्ता नीमच में सोनोग्राफी एवं डायग्नोस्टिक सेंटर संचालित कर रहा है। 



सेंटर पर भ्रूण लिंग जांच का काम चिकित्सक द्वारा सीधे ही गर्भवती महिलाओं से पैसे लेकर करने की शिकायत मिली। चित्तौडग़ढ़ की गर्भवती डिकॉय महिला को डॉ. आरके गुप्ता ने पहले निम्बाहेड़ा बुलाया। बाद में निम्बाहेड़ा से नीमच बुलाया। 



रविवार शाम को डॉक्टर ने 30 हजार रुपए लेकर लिंग जांच कर भ्रूण के बारे में जानकारी दी तथा गर्भपात कराने के लिए 30 हजार रुपए की मांग की। टीम को डिकॉय महिला के इशारा पर कार्रवाई की गई।  



डॉक्टर को गिरफ्तार किया जिसे सोमवार को चित्तौडग़ढ़ के न्यायालय में पेश किया जाएगा। डॉक्टर ने इस महिला को दो बार पहले भी बुलाया गया था, लेकिन जब पकड़े जाने का शक दूर हुआ तो तीसरी बार में इस महिला के भ्रूण की जांच की।



जैन ने बताया कि राज्य का 66वां डिकॉय ऑपरेशन तथा अंतरराज्यीय 14वां डिकॉय ऑपरेशन हुआ है, जबकि मध्यप्रदेश में राजस्थान टीम का यह पहला ऑपरेशन है। 



जैन ने बताया कि एएसपी रघुवीरसिंह के नेतृत्व में गठित टीम में सीआई सीताराम बैरवा, विक्रम सेवावत, लालूराम, राजेंद्र, पीसीपीएनडीटी समंवयक चित्तौडग़ढ़ शफीक अहमद, डूंगरपुर से सुमित्रा, उदयपुर से मनीषा भटनागर, प्रतापगढ़ के पीसीपीएनडीटी समन्वयक संदीप शामिल थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned