इस शिक्षक को नमन, जिसने स्कूली बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए बेच दिए अपने जेवर

Abhishek Pareek

Publish: Apr, 22 2017 12:22:00 (IST)

Weied News
इस शिक्षक को नमन, जिसने स्कूली बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए बेच दिए अपने जेवर

अन्नपूर्णा का सपना था कि बच्चों के लिए आधुनिक सुख सुविधाआें से लैस क्लासरूम हो। इसके लिए उन्होंने वो काम किया है जिसकी मिसाल मिलना मुश्किल है।

शिक्षा जीवन को बेहतर बनाती है तो एक शिक्षक जीवन जीने का तरीका सिखा देता है। जीवन में एक शिक्षक अपने स्टूडेंटस का भविष्य बेहतर बनाने के लिए क्या करता है ये पता लगता है इस खबर से। 



ये मामला तमिलनाडु की प्राइमरी स्कूल टीचर अन्नपूर्णा मोहन से जुड़ा है। जिन्हें 'Goddess of Bread' के नाम से जाना जाता है। स्कूल में बच्चे उन्हें अपनी फेवरेट टीचर बताते नहीं थकते। इसका कारण उनके पढ़ाने के तरीके के साथ वो त्याग है जो उन्होंने स्कूली बच्चों के लिए किया है। इसके लिए लोग उनकी खूब सराहना कर रहे हैं। 




अन्नपूर्णा का सपना था कि बच्चों के लिए आधुनिक सुख सुविधाआें से लैस क्लासरूम हो। इसके लिए उन्होंने वो काम किया है जिसकी मिसाल मिलना मुश्किल है। बच्चों को अच्छी शिक्षा के लिए उन्होंने अपने जेवर बेच दिए। उनका ये त्याग पंचायत यूनियन प्राइमरी स्कूल में नजर आ रहा है। 



अजब प्यार की गजब कहानीः बच्चे की चाह में डाॅक्टर के पास पहुंचा कपल, पता लगा दाेनों हैं भार्इ-बहन



यहां पर स्मार्टबोर्ड, रंगीन चेयर आैर अंग्रेजी भाषा की खूब सारी किताबें नजर आएंगी। यहां के बच्चे धारा प्रवाह अंग्रेजी बोलते नजर आएं तो चौंकिएगा मत क्योंकि ये अन्नपूर्णा का कमाल है। इस क्लासरूम को बनाने के लिए उन्होंने काफी मेहनत की है। यहां के बच्चों की क्रिएटिविटी के वीडियो फेसबुक पर अपलोड किए जा रहे हैं, जिनकी कनाडा आैर सिंगापुर जैसे देशों में भी काफी प्रशंसा की जा रही है। 



21 साल की उम्र में 23 इंच है कद, लोग भगवान मानकर करते हैं पूजन



अंग्रेजी सिखाने के लिए उन्होंने बच्चों से अंग्रेजी में बात करनी शुरू की। उन्हें जब इस बात का अहसास हुआ कि प्रदेश में शिक्षकों के पास जरूरी साधन नहीं हैं तो उन्होंने बदलाव की ये कहानी अपनी स्कूल से ही लिखनी शुरू कर दी। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned