चीनी मीडिया का दावा- भारत बन सकता है महाशक्ति, लेकिन विकास से डरे नहीं चीन

Punit Kumar

Publish: Jul, 17 2017 04:55:00 (IST)

World
चीनी मीडिया का दावा- भारत बन सकता है महाशक्ति, लेकिन विकास से डरे नहीं चीन

अखबार ने कहा है कि भारत में आए टैक्स सुधार की बदलाव के कारण भारत के बढ़ते विदेशी निवेश के कारण उसका महाशक्ति बनने का सपना को काफी सहयोग और बल मिलेगा। साथ ही कहा कि विदेशी निर्माताओं द्वारा भारत में बढ़-चढ़ कर निवेश किया जा रहा है।

पीएम मोदी द्वारा देश में जीएसटी के लागू किए जाने के बाद से ही चीनी मीडिया का रुख भारत के प्रति तारीफ में तब्दील हो गई। जहां रविवार को एक चीनी अखबार ने भारत की बंढ़ती ताकत की सराहना करते हुए कहा है कि भारत को काफी मात्रा में विदेशी निवेश मिल रहा है। जिससे कि उसे विनिर्माण के क्षेत्र में स्वाभिक तौर पर लाभ मिलेगा। हालांकि लेख में अखबार ने चीन की सरकार को भारत की बढ़ती ताकत को देखते हुए शांत रहने की सलाह दी है।  



अखबार ने कहा है कि भारत में आए टैक्स सुधार की बदलाव के कारण भारत के बढ़ते विदेशी निवेश के कारण उसका महाशक्ति बनने का सपना को काफी सहयोग और बल मिलेगा। साथ ही कहा कि विदेशी निर्माताओं द्वारा भारत में बढ़-चढ़ कर निवेश किया जा रहा है। क्योंकि भारत सरकार द्वारा किए जा रहे सुधारों के कारण निवेशकों को अपना भविष्य यहां अधिक सुरक्षित लगता है। 



इसके अलावा चीनी अखबार ने अपने देश की सरकार को भारत से मिल रही प्रतिस्पर्धा से निपटने के लिए चीन को विकास से जुड़े प्रभावी रणनीति बनाने की सलाह दी है। चीनी अखबार ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक, भारत में लगातार बढ़ रही विदेशी निवेश के कारण यहां आर्थिक विकास को बल मिलने के साथ-साथ देश में रोजगार और औद्योगिक विकास की रफ्तार में तेजी आ जाएगी। तो वहीं इन विदेशी निवेशकों के कारण भारत की कुछ कमियां भी दूर हो जएगी। 



अखबार ने कहा कि चीन जिस राह पर पिछले दशक चलकर विकास की दूरी तय की है। अब उसी रास्ते पर भारत चल पड़ा है। इसलिए विदेशी मॉडल के इस राह पर चल पड़े भारत की कामयाबी निश्चित है। लेख में आगे लिखा है कि चीनी कंपनियों का भी भारत के विकास की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका रही है, जिसे चीन निभा रहा है। 



चीनी सरकारी अखबार ने कहा कि भारत, म्यांमार और चीन के बीच त्रिपक्षीय संवाद भविष्य में एक दिलचस्प विषय होगा क्योंकि इसका क्षेत्र के व्यापक भूराजनीतिक और आथर्कि महत्व होगा। लेख में लिखा है कि म्यांमार के लिए कोई शत्रु नहीं की नीति सर्वश्रेष्ठ रणनीतिक विकल्प है। जिसका फिलहाल फायदा उसे भारत और चीन के विवाद से हुआ है। साथ ही ग्लोबल टाइम्स ने कहा है कि चीन पर अपनी निर्भरता कम करने और अपनी आर्थिक विविध बनाने की दिशा में म्यांमार भारत के साथ अपने रिश्तों को बढ़ा रहा है। 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned