कुंजाम ने हत्या को राजनीति साजिश बताते हुए कवासी लखमा पर लगाए हत्या के आरोप, जानिए क्या है इसकी वजह

कुंजाम ने हत्या को राजनीति साजिश बताते हुए कवासी लखमा पर लगाए हत्या के आरोप, जानिए क्या है इसकी वजह

Badal Dewangan | Publish: Nov, 10 2018 02:43:07 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 02:43:08 PM (IST) Sukma, Sukma, Chhattisgarh, India

कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक से शिकायत कर इस मामले की जांच करने की मांग

सुकमा. सीपीआई प्रत्याशी मनीष कुंजाम ने कलमू धूरवा की हत्या का आरोप विधायक कवासी लखमा पर लगाया है। उन्होंने कहा कि यह राजनीति षडयंत्र है। क्योंकि क्षेत्र की हिंसक स्थिति का फायदा उठा कर ऐसे घटना को अंजाम दिया गया है। उन्होंने इस घटना की लिखित शिकायत पुलिस अधीक्षक से की है। इधर विधायक कवासी लखमा ने आरोप का पलटवार करते हुए कहा कि मनीष कुंजाम बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं। वे इस मामले में भी राजनीतिक लाभ लेना चाह रहे है। लखमा ने कलेक्टर व एसपी से शिकायत कर इस मामले की जांच करने की मांग की। उन्होंने कहा कि अंमित संस्कार में जाकर वहां आए लोगों को संबोधित करते हुए मनीष कुंजाम मेरे खिलाफ ऐसे आरोप लगा रहे है जो गलत व बेबुनियाद हैं। अगर जरूत पडी तो न्यायालय की शरण लूंगा।


कलमू धूरवा पार्टी के लिए चुनाव प्रचार करने के लिए जा रहे थे इस दौरान उन्हें जंगल में रोककर उनकी हत्या कर दी गई। कुंजाम ने बताया कि हत्या के दौरान मेरे पार्टी के अन्य कार्यकर्ता कवासी संतोष, कलमू जोगा व रामा ने उन्हें बताया कि कांग्रेस पार्टी के विधायक प्रत्याशी कवासी लखमा के खिलाफ प्रचार करने आए हो कहते हुए जान से मारने की बता कहने लगे और डंडों से मारकर हत्या कर दिया। अन्य कार्यकर्ताओं को धमकी दिया गया कि इस क्षेत्र में कवासी लखमा के विरूद्ध प्रचार करोंगे तो यही अंजाम होगा। इसके अलावा 4 अक्टूबर को फुलबगडी के कवासीपारा में सीपीआई कार्यकर्ताओं को कांग्रेस पार्टी कार्यकर्ताओं के द्वारा जान से मारने की धमकी दिया था। जिसकी सूचना लिखित में फुलबगडी थाने में दर्ज कराया गया है। लेकिन आज तक वो सूचना भी थाने में दर्ज नहीं हो पाई है। कुंजाम ने विधायक कवासी लखमा पर आरोप लगाते हुए कहा कि 20 सालों से विधायक है लेकिन क्षेत्र में नक्सल हिंसा के लिए कोई पहल नहीं की। जबकि वे शांति के लिए सबसे बडा रोड़ा है। जब नेपाल व आंध्रप्रदेश सहित दूसरे राज्य में माओवाद की बातचीत से शांति स्थापित किया गया है। यहां क्यों नहीं किया गया।

कहा माओवादी घटना का रंग दिया जा रहा है
गुरूवार को सुकमा स्थित सीपीआई चुनाव कार्यालय में प्रेसवार्ता के दौरान सीपीआई प्रत्याशी मनीष कुंजाम ने कहा कि विधायक कवासी लखमा ने कलमू धुरवा की हत्या करावाई है जो राजनीतिक षडयंत्र है। उन्होंने कहा कि कलमू लम्बे समय से पार्टी से जुड़कर गांव में ही रहकर साथ में खेती किसानी का काम करते आ रहे है। उसी इलाके में उनका घर है। अगर नक्सली उसकी हत्या करने का होता तो पहले कर सकते थे। उनकी हत्या माओवादी ने नहीं की है। यहां की हिंसक स्थिति का फायदा उठाकर माओवादी घटना का रंग दिया जा रहा हैं।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned