स्वतंत्रता दिवस के एक दिन पहले यूपी के इस जिले में बरसाये गये 14 लाख सीड बम

स्वतंत्रता दिवस के एक दिन पहले यूपी के इस जिले में बरसाये गये 14 लाख सीड बम

Hariom Dwivedi | Updated: 14 Aug 2019, 07:57:28 PM (IST) Sultanpur, Sultanpur, Uttar Pradesh, India

- गोमती नदी के किनारे 137 किलोमीटर में बरसाये गये 14 लाख बम
- सुलतानपुर जिले ने रचा इतिहास, 14 लाख सीड बम फेंकने वाला यूपी का इकलौता जिला बना

सुलतानपुर. स्वतंत्रता दिवस के एक दिन पहले यानी 14 अगस्त को आदि गंगा गोमती के दोनों किनारों पर 137 किमी में 14 लाख सीड बमों की वर्षा हुई। सीड बमों की इस वर्षा से कोई जनहानि या फिर धनहानि नहीं होने वाली, बल्कि 14 लाख सीड (Seed Bomb) बमों की वर्षा से आदि गंगा गोमती के दोनों किनारे हरे-भरे हो जाएंगे। इस सीड बम वर्षा के बाद सुलतानपुर सूबे का इकलौता जिला बन गया है, जहां एक दिन में और एक घंटे के अंतराल में 14 लाख सीड बम बरसाए गए।

जिलाधिकारी सी इन्दुमती ने बताया कि प्रकृति द्वारा उपलब्ध कराये गये बीजों का समुचित उपयोग न होने से या तो बीज सड़क पर गाड़ी के नीचे दबकर खराब हो जाते हैं या लोगों के पैरों तले कुचले जाते हैं। उनको कृत्रिम रूप से सीड बम रूपी कम्बल में ओढ़ाकर खाली स्थानों में पहंचा देने से बीच को सही स्थान मिल जाता है। गोमती नदी के किनारे इस प्रकार हम लाखों बीजों को ईश्वर द्वारा प्रदत्त जीवन शक्ति का सम्मान करने का कार्य करने जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि जनपद के अन्तर्गत गोमती नदी के आ रहे 137 किमी के पूरे स्ट्रेच (110 गांव) को कवर करके जिला प्रशासन का उन दूरस्थ क्षेत्रों में भी अपनी उपस्थिति एक रचनात्मक कार्य के जरिये दर्ज कराने का एक सार्थक प्रयास है, जिससे गोमती नदी को उसका पुराना सम्मान फिर से वापस दिलाया जा सके।


sultanpur

पहले से ही कर ली गई थी तैयारी
सीड बमों को तैयार करने में ब्लाक स्तर पर चिन्हित किये गये 110 गांवों में सीड बमबारी के लिए सीड बम तैयार कर लिया गया था, जिन्हें 14 अगस्त को प्रातः 06 व 07 बजे के मध्य गन्तव्य स्थलों पर पहुंचा दिया गया था जो 10 बजते ही इन सीड बमों को धरती की कोख में प्राकृतिक रूप से वृक्ष रोपित किये जाने की प्रक्रिया के तहत सीडबमों की वर्षा की गई। 11 बजे तक अनवरत सीड बमों की वर्षा चलती रही। इस एक घण्टे में 14 लाख सीड बमों को बरसा कर प्राकृतिक रूप से वृक्षारोपण किया गया ।

sultanpur
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned