जहां स्नान कर भगवान राम ने पाई थी ब्रह्महत्या के पाप से मुक्ति, वह बनेगा प्रदेश का सबसे खूबसूरत पर्यटन स्थल

त्रेता युगीन यह तीर्थ स्थल अब देश और प्रदेश के पर्यटकों के आकर्षण का मुख्य केंद्र होगा क्योंकि जिले के मुख्य विकास अधिकारी अतुल वत्स त्रेता युगीन इस तीर्थ स्थल को देश और प्रदेश का सबसे रमणीय तीर्थ स्थल बनाने का बीड़ा उठाया है।

By: Karishma Lalwani

Published: 28 Mar 2021, 12:54 PM IST

सुल्तानपुर. जिले की पूर्वी छोर की सुुतानपुर से करीब 22 किलोमीटर दूर वाराणसी- लखनऊ राष्ट्रीय राजमार्ग पर लम्भुआ तहसील से उत्तर दिशा में करीब आठ किलोमीटर पर गोमती नदी के घाट पर धोपाप धाम स्थित है। यहां गंगा दशहरा पर स्नान कर हजारों श्रद्धालु प्रसिद्ध राम-जानकी मंदिर में दर्शन करते हैं। बताया जाता है कि रावण का वध करने के बाद मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम ने अपने ऊपर लगे ब्रह्म-हत्या के पाप को यहां धोया था। त्रेता युगीन यह तीर्थ स्थल अब देश और प्रदेश के पर्यटकों के आकर्षण का मुख्य केंद्र होगा क्योंकि जिले के मुख्य विकास अधिकारी अतुल वत्स त्रेता युगीन इस तीर्थ स्थल को देश और प्रदेश का सबसे रमणीय तीर्थ स्थल बनाने का बीड़ा उठाया है। इसके लिए सीडीओ अतुल वत्स ने कमल सरोवर और कमल उपवन योजना से इस पवित्र धाम को चमकाने का काम शुरू कर दिया है।

श्रीराम को मिली थी ब्रह्मदोष से मुक्ति

त्रेता युग में भगवान राम ने जब रावण का वध किया तो उन्होंने ब्रह्महत्या के पाप से मुक्ति पाने के लिए इसी स्थान पर स्नान किया था। ऋषियों की सलाह पर ब्रह्महत्या से मुक्ति पाने के लिए पत्तों से बने बर्तन में एक काला कौआ बैठाकर छोड़ा गया। इसी स्थल पर पहुंचते ही कौए का रंग सफेद हो गया। तब इसी स्थल का चयन कर श्रीराम ने यहां ब्रह्महत्या के दोष से मुक्ति पायी थी। भगवान राम ने यहां दीपदान किया। तभी से इसका नाम ‘धोपाप’ पड़ा है। हर साल पापों से मुक्ति पाने के लिए हर साल गंगा दशहरा पर श्रद्धालुओं की भीड़ स्नान के लिए उमड़ती है। यहां जिस घाट पर श्रद्धालु स्नान करते हैं, उसे रामघाट के नाम से जाना जाता है। प्रति वर्ष ज्येष्ठ पक्ष की शुक्ल दशमी (गंगा दशहरा) को स्नानार्थियों की अपार भीड़ यहां पहुंचती है। आसपास के क्षेत्रों के अलावा कई जिलों और राज्यों के श्रद्धालु पापों से मुक्ति पाने के लिए यहां स्नान और दर्शन करने आते हैं।

ये भी पढ़ें: Holi festival : होली पर नए अंदाज में दिखेंगे श्री रामलला

ये भी पढ़ें: Ram Mandir : श्री रामलला के चरणामृत प्रसाद पर भी लगी रोक, ट्रस्ट के सदस्य पर नाराज हुए पुजारी

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned