68 घंटे से अंधेरे में पचास हजार लोग, बिजली अधिकारियों पर लापरवाही का आरोप

अवर अभियंता ने कहा बदली जा रही है केबिल...

सुल्तानपुर. सब स्टेशन गोसैसिंहपुर बनी का 33 हजार बोल्ट का भूमिगत केबल पिछले 68 घण्टों में दो बार फूंकने से दर्जनों गांवों अंधेरे में डूब गए। विरसिंहपुर विद्युत उपकेंद्र की आपूर्ति गोसैसिंहपुर बनी से होती है और वहां की भूमिगत 33 हजार बोल्ट की में लाइन फुंक जाने से करीब 68 घण्टों से 50 हजार की आवादी अंधेरे में जी रही है।

 

अंधेरे में पचास हजार लोग

सरकारी फरमानों और शासन के निर्देशों को धता बताकर बिजली विभाग के नकारेपन की वजह से 68 घंटे से 50 हजार की आबादी अधेरे में है। भले ही योगी आदित्यनाथ सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों में 18 घण्टे बिजली आपूर्ति करने का हुक्म दिया हो। लेकिन सब स्टेशन गोसैसिंहपुर पर पिछले 68 घंटों से पचास हजार की आबादी अंधेरे में जीने को मजबूर है।
अधिकारी और कर्मचारी सुध लेने को तैयार नही है।

 


गांव में मची हायतौबा

 

मालूम हो कि विरसिंहपुर उपकेंद्र की सप्लाई गोसैसिंहपुर बनी से होती है। बनी स्टेशन की 33 हजार की मेन लाइन आए दिन जल जा रही है। जिससे पिछले 68 घण्टे से क्षेत्र की बिजली व्यवस्था बदहाल है। शनिवार भोर केबल फाल्ट हो गया शनिवार देर रात तक ठीक किया गया रात 1 बजे जे रविवार भोर 5 बजे तक लाइन चली। फिर रविवार 5 बजे भोर में 33 हजार की भूमिगत केबल जल गई जिससे पुनः विरसिंहपुर उपकेंद्र से जुड़े गाँवो में अंधेरा छा गया। इसके पहले शुक्रवार को टांडा थर्मल पावर स्टेशन में खराबी की वजह से लोग बिजली से बंचित हो गये थे। विरसिंहपुर के चारों फीडर सेमरी, हालापुर, नुमाये व छीटेपट्टी के पचासों गॉव सेमरी महमूदपुर, अमदेवा, हालापुर, खोजापुर, पेमापुर, रुपिनपुर, वैदहा, सोनुपरा, धर्मपुर, शैलखा, अल्हदादपुर, बीरमलपुर समेत तमाम गाँवो में बिजली से चलने वाले उपकरण ठप है लोगों में हाय तौबा मची हुई है।


विरसिंहपुर उपकेंद्र के अवर अभियंता बोले

विरसिंहपुर सबस्टेशन के अवर अभियंता मनीष वर्मा ने बताया कि बार -बार फुंक रहे 33 हजार बोल्ट के केबिल को बदलने का काम शुरू कर दिया गया है। देर रात तक बिजली आपूर्ति बहाल करा दी जाएगी।

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned