यूपी का पहला प्राइमरी स्कूल, जहां बच्चों के एडमिशन को लेकर बड़े-बड़े लोग करते हैं सिफारिशें

यूपी का पहला प्राइमरी स्कूल, जहां बच्चों के एडमिशन को लेकर बड़े-बड़े लोग करते हैं सिफारिशें

Nitin Srivastva | Publish: Aug, 12 2018 02:47:59 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

प्राइमरी स्कूल की सुविधाएं देखकर आप भी रह जाएंगे हैरान...

सुल्तानपुर. गंदगी और अव्यवस्थाओं का भंडार जहां सरकारी स्कूलों की पहचान बन चुका है। वहीं सुल्तानपुर जनपद के कुड़वार ब्लॉक का पूरेलेदई प्राथमिक विद्यालय इन सभी के लिए उदाहरण बना हुआ है। यहां बच्चों की पढ़ाई का स्तर, उनके पढ़ाई के लिए व्यवस्थाएं किसी उच्च कोटि के अंग्रेजी माध्यम के विद्यालय से कम नहीं हैं।

 

गोद लेने के पहले जर्जर हालत में था स्कूल

इस प्राथमिक विद्यालय को बीजेपी नेतृत्व के आह्वान पर काशी क्षेत्र के उपाध्यक्ष रामचन्द्र मिश्रा ने दिसम्बर 2017 में गोद लिया था। रामचन्द्र मिश्रा के गोद लेने के बाद पूरेलेदई प्राथमिक स्कूल की तकदीर और तस्वीर ही बदल गई। भाजपा नेता और काशी क्षेत्र के उपाध्यक्ष ने जब विद्यालय गोद लिया था तो विद्यालय जर्जर अवस्था में था। कमरों सहित अन्य सुविधाओं का आभाव था।

 

भाजपा नेता ने गांव वालों की बुलाई थी बैठक

प्राथमिक विद्यालय में लगभग 30-35 बच्चें स्कूल आते थे। विद्यालय गोद लेने के बाद रामचन्द्र मिश्रा ने गांव वालों की बैठक विद्यालय परिसर में बुलाई। बैठक में स्कूल के विकास के लिए समस्त ग्रामवासियों ने यथा संभव मदद का भरोसा दिया। फिर क्या था पूरे लेदई स्कूल ने विकास का ऐसा ताना-बाना बुना कि आज वह स्कूल कुड़वार ब्लॉक का ही नहीं पूरे जिले और प्रदेश का नम्बर एक प्राथमिक विद्यालय बन गया। आलम ये है कि यहां अब बच्चों के दाखिले के लिए प्रतिष्ठित लोग सिफारिशें करते हैं।

 

स्कूल देखकर आप रह जाएंगे दंग

इस स्कूल में धर्मेन्द्र तिवारी प्रिंसिपल समेत छह अध्यापक और अध्यापिका हैं। स्कूल में लगभग 137 बच्चे हैं। स्कूल में English Medium पढ़ाई होती है। अति पिछड़े और ग्रामीण परिवेश में स्थित यह विद्यालय सुविधाओं व पढ़ाई में कॉन्वेंट स्कूल को टक्कर दे रहा है। यहा पर कमरों में टाइल्स वाली फर्श, स्मार्ट टॉयलेट, दीवालों पर चित्र और स्लोगन, हाथ धोने के लिए वाश बेसिन, बच्चों को मिड डे मील खाने के लिए बेंच सहित शेड सबकुछ तो उपलब्ध है। साथ ही मिड डे मील बांटने से पहले बच्चों को हाथ साफ करना अनिवार्य है। बच्चों की उपस्थिति से लेकर शिक्षकों की उपस्थिति बेहतरीन रहती है।

 

स्कूल में हाईटेक व्यवस्था

प्रदेश में सुलतानपुर जिले के कुड़वार ब्लॉक का प्राथमिक विद्यालय, पूरे लेदई पहला ऐसा विद्यालय होगा जिसमें प्रोजेक्टर, कम्पयूटर, आरओ का पानी, इन्वर्टर की सुविधा, बच्चों को बैठने के लिए कुर्सी, मेज, प्रत्येक कमरे में पंखे सब कुछ उपलब्ध है। यहां पानी के लिए समरसेबिल की बोरिंग है, जिससे पूरे विद्यालय में पानी की टंकी से वाटर सप्लाई की व्यवस्था सुनिश्चित है।

 

बेमिसाल होगा यह विद्यालय

खास बात यह है कि इसके लिए शासन से कोई बजट नहीं मिला। भाजपा के वरिष्ठ नेता रामचन्द्र मिश्रा ने जन सहभागिता और लोगों के सहयोग के माध्यम से पूरे लेदई प्राथमिक विद्यालय की तस्वीर और तकदीर ही बदल डाली।भाजपा प्रवक्ता विजय सिंह रघुवंशी ने बताया कि रामचन्द्र मिश्रा जी के जीवंत प्रयास ने स्कूल की तस्वीर व तकदीर बदलने की एक मिसाल कायम कर दी है।

 

यहां नहीं होता चाक और ब्लैकबोर्ड का इस्तेमाल

आपको बता दें इस स्कूल में बच्चों को पढ़ाने के लिए चाक और ब्लैक बोर्ड का इस्तेमाल नहीं किया जाता बल्कि उसके स्थान पर व्हाइट बोर्ड और मार्कर का इस्तेमाल किया जा रहा है। जिससे बच्चे आसानी उसे समझ सकें। रामचन्द्र मिश्रा ने स्कूल के सभी बच्चों को नेलकटर, टिफिन बाक्स, स्कूल बैग, जूता ड्रेस की पूरी किट उपलब्ध कराई है। इतना ही नहीं बच्चों को नहाने के लिए सप्ताह में एक डिटाल साबुन भी दिया जाता है। इतना ही नहीं बच्चों की पढ़ाई के साथ-साथ उनके खेलने के लिए आधुनिक झूला, फुटबाल, बैडमिंटन आदि की सुविधा उपलब्ध है। इस विद्यालय में पढ़ाई की गुणवत्ता उच्चकोटि की है। इस विद्यालय में अगल-बगल के कई किलोमीटर रेन्ज के अभिभावक बच्चों को छोड़ने और लेने आते हैं।

Ad Block is Banned