मेनका गांधी को जिताने के लिए इन दिग्गज नेताओं ने अपनी प्रतिष्ठा लगाई दाव पर, विपक्ष को दिखाई हार

मेनका गांधी को जिताने के लिए इन दिग्गज नेताओं ने अपनी प्रतिष्ठा लगाई दाव पर, विपक्ष को दिखाई हार

Neeraj Patel | Updated: 24 May 2019, 03:57:45 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार मेनका गांधी को जिताने के लिए सुलतानपुर जिले के दिग्गज नेताओं ने अपनी प्रतिष्ठा भी दाव पर लगा दी।

सुल्तानपुर. भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार मेनका गांधी को जिताने के लिए सुलतानपुर जिले के दिग्गज नेताओं ने अपनी प्रतिष्ठा भी दाव पर लगा दी थी। मेनका गांधी को जिताने के लिए मायावती सरकार में पर्यटन राज्य मंत्री रहे एवं लम्भुआ विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक विनोद सिंह ने अहम भूमिका निभाई है। अमन- चैन व विकास के मुद्दों को लेकर मेनका गांधी के चुनाव प्रचार में अपना पूरा जोर लगा दिया। जिससे सुलतानपुर लोकसभा सीट से मेनका गांधी बड़ी जीत हासिल कर सके।

सुलतानपुर की जिला पंचायत अध्यक्ष ऊषा सिंह के पति एवं प्रतिनिधि शिवकुमार सिंह ने भी गठबंधन प्रत्याशी बाहुबली चन्द्रभद्र सिंह सोनू को हराने के कोई कसर नहीं छोड़ी है। इन्होंने विचारों व नीतियों को लेकर मेनका गांधी के चुनाव में दमखम भरा था। शिवकुमार सिंह ने गठबंधन प्रत्याशी को हराने के लिए अकबरपुर (अम्बेडकरनगर) से रहे पूर्व विधायक पवन पाण्डेय विजेठुआ ने भी सामंतवाद का खात्मा करने की कसम खाते हुए मेनका गांधी को लोकसभा चुनाव जिताने का वीणा उठाया था।

लोकसभा चुनाव के परिणामों की मतगणना के दौरान मेनका गांधी व गठबन्धन प्रत्याशी के बीच देर शाम तक काटे की टक्कर देखने को मिली। जब देर शाम पता चला कि मेनका गांधी 14526 मतों से विजयी घोषित हो गई। तो विपक्षी नेताओं के होश उड़ गए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned