भाजपा कार्यालय में ताला तोड़कर हुई बड़ी चोरी, एसपी ऑफिस के समीप है दफ्तर

Abhishek Gupta

Publish: Oct, 12 2017 10:43:31 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
भाजपा कार्यालय में ताला तोड़कर हुई बड़ी चोरी, एसपी ऑफिस के समीप है दफ्तर

भारतीय जनता पार्टी कार्यालय को चोरों ने निशाना बनाते हुए पुलिस को चुनौती दे डाली। ताला तोड़कर हजारों का कीमती सामान चोर उड़ा ले गए।

सुलतानपुर. भारतीय जनता पार्टी कार्यालय को चोरों ने निशाना बनाते हुए पुलिस को चुनौती दे डाली। ताला तोड़कर हजारों का कीमती सामान चोर उड़ा ले गए। पुलिस मुकदमा दर्ज कर छानबीन करने में जुट गयी है। बड़ा सवाल ये है कि जिस पार्टी की सरकार राज्य से लेकर केंद्र तक है, जिसके नेता कानून व्यवस्था की दुहाई देते नहीं थकते उसकी सत्ता को मामूली चोरों ने चुनौती दे डाली। अब ऐसे में आम जनता का हाल तो वो खुद ही जाने।

"बीती रात की है बात सुबह कार्यालय खुलने पर हुई जानकारी"

पुलिस अधीक्षक कार्यालय से कुछ दूरी पर भारतीय जनता पार्टी का दफ्तर है। बीती रात चोर ताला तोड़कर कार्यालय में दाखिल हो गए और उसमे रखा इन्वर्टर और बैटरी समेत कीमती सामान चुरा ले गए। सुबह जब ताला टूटा मिला तो हड़कम्प मच गया। सूचना पर पुलिस टीम के साथ फारेन्सिक टीम भी मौके पर पहुंच गई, लेकिन चोरों को कोई सुराग नहीं लगा। कोतवाल सुरेशचंद्र मिश्र ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर छानबीन चल रही है। जल्द ही घटना का खुलासा कर दिया जाएगा।

मामूली घटना ने दी कानून व्यवस्था को चुनौती-

जब से प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी है, तभी से बार बार जिले और प्रदेश के नेता एक ही दुहाई देते हैं कि पूर्व की सरकार ने कानून व्यवस्था पर कोई काम ही नहीं किया और अपराधियों के हौसले बुलंद थे, लेकिन ये क्या प्रदेश छोड़िये यहां तो जिला सुल्तानपुर की स्थिति बिल्कुल विपरीत है। वजह भी साफ है, जब से सरकार बनी है जिले में तीन पुलिस अधीक्षकों के ट्रांसफर हो चुके हैं, लेकिन कानून व्यवस्था जस की तस है।

"हाल फिलहाल कइयों के कार्यक्षेत्र में हुआ बदलाव, लेकिन कागज़ों में हुआ काम"

हाल फिलहाल नवागत एस पी अमित ने कुछ तो नया किया। उन्होंने कई दरोगाओं को चार्ज दिया तो कुछ से चार्ज छीन लिया, लेकिन स्थिति जस की तस बनी हुई है। और हो भी क्यों न कार्यालय से सेना नहीं संभालती, कहीं न कहीं उनको मैदान में प्रोत्साहन की ज़रूरत है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned