किताबों के साथ हाथों में झाड़ू थामेंगे स्कूली बच्चे, किया गया ये बदलाव

अब स्कूलों में बच्चे झाड़ू लेकर सफाई करते नजर आएंगे, क्योंकि सरकार अब स्कूली बच्चों को सफाई के प्रति जागरूक करना चाहती है।

By: आकांक्षा सिंह

Published: 07 Jun 2018, 11:05 AM IST

सुल्तानपुर. अब स्कूलों में बच्चे झाड़ू लेकर सफाई करते नजर आएंगे, क्योंकि सरकार अब स्कूली बच्चों को सफाई के प्रति जागरूक करना चाहती है। सरकारी मंशा कामयाब हुई तो बच्चे और गुरुजी दोनों हाथों में झाड़ू लेकर सफाई अभियान से होने वाले फायदे को समझेंगे और गुरुजी भी सफाई अभियान में बराबर के भागीदार होंगे।


सरकार की तैयारी है कि सफाई को स्कूलों में अनिवार्य कर दिया जाय। सफाई के विषय में जानकारी देने और लेने के लिए दो घण्टे का समय निर्धारित किया जायेगा। इससे गंदगी से होने वाले नुकसान और सफाई से होने वाले फायदों के बारे में जानने और समझने का क्लास महीने के पहले शनिवार को लगेगा। वह भी जुलाई माह से इस अभियान की शुरुआत होगी। इसके पीछे सरकार की मंशा है कि बच्चे, बूढ़े और जवान आदर्श सफाई व्यवस्था से होने वाले फायदे के बारे में जान सकें। इससे गुरुजी और शिष्य दोनों एक साथ सफाई करते नजर आएंगे। सरकार ने सभी जिलाधिकारियों को पत्र भेजकर यह कहा है कि वे जिला विद्यालय निरीक्षकों के साथ बैठक करके विचार विमर्श कर रिपोर्ट शासन को सौंपें। अगर सरकार की मंशा परवान चढ़ी तो प्रदेश के सभी राजकीय, अशासकीय और वित्तविहीन स्कूलों में ये कक्षाएं संचालित होंगी साथ ही शिक्षक छात्रों को सफाई का गुर तो सिखायेंगे ही साथ में वे झाड़ू लेकर सफाई भी करेंगे। संयुक्त शिक्षा निदेशक ओमप्रकाश द्विवेदी ने बताया कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत चलने वाली कक्षाओं में महीने के पहले शनिवार को सुबह 7 बजे से 9 बजे तक यह अभियान चलाया जाएगा।

गठित होगी मानिटरिंग कमेटी

स्कूलों में सफाई अभियान के बारे में चलने वाले क्लासों में आदर्श व्यवस्था, स्वच्छ वातावरण हो, इसके लिए एक कमेटी बनाई जाएगी। संयुक्त शिक्षा निदेशक ओमप्रकाश द्विवेदी ने बताया कि शासन ने पत्र भेजा है, जिसमें सफाई अभियान के प्रति बच्चों को प्रेरित करने के लिए महीने के पहले शनिवार को सुबह 2 घण्टे कार्यक्रम आयोजित करने के सम्बंध में सुझाव मांगे गए हैं। जल्द ही जिला विद्यालय निरीक्षक के साथ बैठक कर रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी। जिला विद्यालय निरीक्षक गिरीश कुमार सिंह ने सरकार के इस पहल का स्वागत किया है । उन्होंने कहा कि शिक्षक समाज का अगुआ होता है । जब वह हाथ में झाड़ू पकड़ेगा तब लोग प्रेरित होंगे ।

Show More
आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned