जिले के छोरे ने बॉलीवुड में की धमाकेदार एंट्री, इस फिल्म में करेंगे लीड रोल

जिले के एक और छोरे ने बॉलीवुड में धमाकेदार एंट्री पाई है।

सुल्तानपुर. जिले के एक और छोरे ने बॉलीवुड में धमाकेदार एंट्री पाई है। इस बार फ़िल्म "लिटिल ब्वॉय" में दिखेगा सुल्तानपुर जिले का लिटिल छोरा। वह सच्ची घटना पर बनी "लिटिल ब्वॉय" फिल्म में मुख्य किरदार निभा रहा है। सुल्तानपुर जिले के लम्भुआ तहसील के रहने वाले हैं यजुवेंद्र, जिन्होंने एमीबीए की पढ़ाई करने के बाद थिएटर को बॉलीवुड में कदम रखने का रास्ता बनाया।

बॉलीवुड फिल्म "रंग महल" से बॉलीवुड में कदम रखने वाले सुल्तानपुर के यजुवेंद्र सिंह एक बार फिर अपने अदाकारी का जलवा बिखेरने वाले हैं। रिलीज होने वाली फिल्म लिटिल ब्वॉय में यजुवेंद्र मुख्य भूमिका में हैं। इस फिल्म के बारें में यजुवेंद्र बताते हैं कि, फिल्म की कहानी एक साधारण परिवार के बच्चे के संघर्ष पर आधारित है। लिटिल ब्वॉय सत्यकथा पर आधारित फिल्म है, जो अरुणाचल प्रदेश के यूमलम आचुंग नामक शख्सियत पर है। यजुर्वेंद्र, यूमलम आचुंग का किरदार निभा रहे हैं।

साधारण परिवार के बच्चे पर आधारित है फिल्म की कहानी

यजुवेंद्र ने बताया कि यह फिल्म बिना किसी हिचक के परिवार के साथ देखी जाने वाली फिल्म है। अबू तानी फिल्म्स के बैनर तले इसका निर्माण हुआ है। इस फिल्म के मुख्य कलाकार रश्मि मिश्र, चूजहो जहोखोई, रोज लांगचर, शिशिर शर्मा एवं एहसान खान हैं। इस फिल्म की शूटिंग अरुणाचल प्रदेश में हुई है। 10 दिसम्बर को फिल्म का म्यूजिक जी म्यूजिक कम्पनी से रिलीज हुआ है। गायक सोनू निगम, ऐश किंग, देव नेगी, रोमी मुखर्जी और एमडी-केडी ने गीतों को पिरोया है।

यजुवेंद्र ने बताया कि, लिटिल ब्वॉय अरुणाचल प्रदेश के एक सच्ची घटना यूमलम आचुन्ग के जीवन पर आधारित है। उन्होंने बेहद गरीबी से निकल कर एक बड़ा मुकाम कैसे हासिल किया। इसे बायोपिक कहा जा सकता है। इस शख्सियत का किरदार मैंने निभाया है। यह पहली हिंदी फिल्म है, जो पूरी तरीके से अरुणाचल प्रदेश में शूट हुई है। इस फिल्म में यजुवेंद्र के अपोजिट मुख्य अभिनेत्री रश्मि मिश्रा हैं, और साथ ही नॉर्थ ईस्ट की अभिनेत्री रोज लांगचर भी हैं।

फिल्म रंग महल से हुई थी कैरियर की शुरुआत
यजुवेंद्र प्रताप सिंह ने अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत लखनऊ में थिएटर से की है। कुछ अच्छे नाटक किए। फिल्मों में मुख्य नायक बनने की अभिलाषा उन्हें मुंबई खींच ले गई। आईएचएम मेरठ से उन्होंने होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई की और पिछले कुछ वर्षों से मुंबई में हैं। लाइफ की पहली फिल्म रंग महल है, जिससे उन्होंने कैरियर की शुरूआत की। फिल्म बियाबान में रोल किया, इस फिल्म को सांगली इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में अवार्ड भी मिला है।

यह है फिल्म अभिनेता का फेमिली खाका

सुल्तानपुर के लम्भुआ तहसील के नरेंदापुर गांव के एमबीए होल्डर यजुवेंद्र सिंह के पिता शब्द प्रकाश सिंह पावर कारपोरेशन के रिटायर्ड सुपरिंटेडेंट हैं, जबकि मां चंद्रावती सिंह हाउस वाइफ हैं। बड़े भाई मानवेंद्र सिंह साइंटिस्ट्स हैं, जो जर्मनी में है। छोटे भाई शिवेंद्र सिंह अवध यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता की पढ़ाई कर रहे हैं। पत्नी हेमा सिंह भी एमबीए होल्डर हैं, लेकिन बेटे युग की एजुकेशन के लिए नौकरी छोड़कर हाउस वाइफ हो गई हैं।

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned