यहां एएसपी और 2 आरक्षक समेत मिले 97 कोरोना पॉजिटिव, संक्रमित ने पुलिस से पूछा- मैं पॉजिटिव तो पत्नी निगेटिव कैसे?

Covid-19: 24 घंटे के भीतर इतने संक्रमितों की पुष्टि, संक्रमितों ने अस्पताल जाने से किया इंकार, प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी देते रहे समझाइश, इधर पुलिस लाइन की महिलाओं ने भी भेदभाव का लगाया आरोप

By: rampravesh vishwakarma

Published: 07 Sep 2020, 03:35 PM IST

सूरजपुर. जिले में कोरोना (Covid-19) की रफ्तार काफी तेज हो गई है। महज 24 घंटे में यह आंकड़ा 100 के आसपास पहुंच गया है जबकि पहले इस आंकड़े को छूने में महीनों लग रहे थे। शनिवार को जहां 86 मामले सामने आए तो रविवार को 11 लोग संक्रमित मिले है। इसमे एएसपी सहित कोतवाली के 2 आरक्षक व आरटीओ एजेंट शामिल हैं।

दूसरी ओर कंटेन्मेंट जोन बनाने, मरीजों को भर्ती किये जाने जैसे मसले को लेकर लोग भेदभाव का आरोप लगाने लगे है। रविवार को जहां पुलिस लाइन की महिलाएं इस बात को लेकर नाराज रहीं तो वही खाड़ापारा में संक्रमितों ने अस्पताल आने से मना कर दिया था। बाद में पुलिस द्वारा उन्हें समझाइश दी गई।

इसी बीच एक कोरोना पॉजिटिव ने पुलिस से पूछा कि यदि वह पॉजिटिव (Covid-19) है तो उसकी पत्नी की रिपोर्ट निगेटिव कैसे? उसने रिपोर्ट पर ही सवाल उठाए।


शनिवार को सूरजपुर जिले के भैयाथान, माइनस भटगांव, जरही व प्रतापपुर से करीब 86 मरीज सामने आए है। जिन्हें कोविड अस्पताल में भर्ती कराये जाने की प्रक्रिया चलती रही। भैयाथान के खाड़ापारा से करीब 21 लोग संक्रमित मिले है, यहां एक सप्ताह में संख्या 38 पहुच गई है।

इसके पहले यहां के 17 लोगों को कोविड अस्पताल में भर्ती कराया जा चुका है। यहां पहला संक्रमण ओडग़ी के एक शिक्षक के कांटेक्ट ट्रेसिंग के बाद मिला था। शिक्षक के यहां निर्माण कार्य मे यहां से मजदूर काम करने गए थे। तब से यहां मरीजों का मिलना लगातार जारी है। रविवार को 11 नए मरीज सामने आए है।

जिसमें एएसपी, 2 आरक्षक तथा आरटीओ एजेन्ट शामिल हैं। रविवार को नगर से 6, रामानुजनगर से 3 भैयाथान से 2 कोरोना संक्रमित (Covid-19) मिले हैं।


भेदभाव का लगा आरोप
इधर कंटेनमेंट जोन बनाने का मामला हो या मरीजों के भर्ती का दोनों को लेकर भेदभाव के आरोप भी लगने लगे है। थाने में पिछले दिनों एक एएसआई संक्रमित मिले थे तब थाने में कोई एहतियात नहीं बरती गई । रोज की तरह थाने में आम लोग आते जाते रहे।

यहां एएसपी और 2 आरक्षक समेत मिले 97 कोरोना पॉजिटिव, संक्रमित ने पुलिस से पूछा- मैं पॉजिटिव तो पत्नी निगेटिव कैसे?

इसी तरह कई अन्य मोहल्लों में कोई रसूखदार व्यक्ति का मामला हुआ तो कनेटमेंन्ट जोन से बख्स दिया जा रहा और कहीं-कहीं इतनी पाबन्दी की 14 दिन बाद भी नही खुल रहे है। यही नहीं पुलिस कर्मियों को पुलिस लाइन के सामुदायिक भवन में भर्ती कर इलाज किया जा रहा है।

रविवार को जब 3 लोगो को ले जाया गया तो पुलिस लाइन की महिलाएं नाराजगी व्यक्त करने लगीं । हालांकि वे खुल कर तो नहीं बोल पा रही लेकिन मीडिया कर्मियों को फोन कर इस पर नाराजगी जताते हुए रिहायशी इलाके का हवाला देकर अपनी चिंता व्यक्त कर रहीं है।


अस्पताल जाने में आनाकानी, भोजन पर सवाल
दूसरी ओर भैयाथान ब्लॉक के खाड़ापारा में रविवार को 21 संक्रमितों को जब अस्पताल लाने एम्बुलेंस पहुंची तो ग्रामीणों ने जाने से साफ मना कर दिया। वे अस्पताल के खाने के इंतजाम को लेकर सवाल खड़े करने लगे और कहा कि रोज उन्हें सूरजपुर खाना लेकर जाना पड़ता है। साथ ही वे घर में ही इलाज की बात करते रहे।

ग्रामीणों की नाराजगी देख गांव में पुलिस बल व प्रशासनिक अमले को बुलाया गया, जिस पर एसडीएम, तहसीलदार, टीआई सहित बल गांव पहुंचा हुआ है। ग्रामीणों को मनाने का प्रयास किया जा रहा है।

अब तक सफलता हाथ नहीं लगी है। यहां एक ग्रामीण का सवाल यह भी था कि मैं पॉजिटिव आया हूं पर पत्नी साथ मे रहती है तो वह कैसे निगेटिव है। रिपोर्ट गलत है। पुलिस ग्रामीण को समझाती रही कि ऐसा होता है। इसका कतई मतलब नही है कि रिपोर्ट गलत है।

COVID-19 COVID-19 virus
Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned