scriptPregnant elephant death: Pregnant elephant death from current | झूल रहे 11केवी तरंगित तार की चपेट में आकर गर्भवती हथिनी की मौत, मेच्योर हो चुका था शावक | Patrika News

झूल रहे 11केवी तरंगित तार की चपेट में आकर गर्भवती हथिनी की मौत, मेच्योर हो चुका था शावक

Pregnant elephant death: डॉक्टरों की टीम ने हथिनी के शव का किया पोस्टमार्टम, कुछ ही दिनों में होने वाली थी डिलीवरी, शावक भी मृत पाया गया, घटना से सप्ताह भर पूर्व ही वन विभाग (Forest department) ने विद्युत विभाग में आवेदन देकर हाथी विचरण क्षेत्र (Elephants Wandering area) में तरंगित झूले तारों को ठीक करने की थी मांग

सुरजपुर

Published: January 19, 2022 08:41:13 pm

प्रतापपुर. Pregnant elephant death: सूरजपुर जिले के प्रतापपुर वन परिक्षेत्र अंतर्गत दरहोरा असनापारा में विद्युत विभाग की लापरवाही से एक गर्भवती हथिनी की जान चली गई। दरअसल गांव में 11 केवी का तार निर्धारित ऊंचाई से काफी नीचे झूल रहा था। मंगलवार की देर रात गर्भवती हथिनी इसकी चपेट में आ गई। करंट लगने की वजह से तड़पकर हथिनी की मौत हो गई। बुधवार की सुबह डॉक्टरों की टीम ने जब हथिनी के शव का पीएम किया तो शावक भी मृत निकला, वह मेच्योर हो गया था। वन विभाग (Forest department) द्वारा 12 जनवरी को ही विद्युत विभाग में हाथी विचरण क्षेत्र में झूल रहे तारों को निर्धारित ऊंचाई तक करने आवेदन दिया था। यदि सप्ताहभर में तारों को ऊपर कर लिया गया होता तो गर्भवती हथिनी की मौत नहीं होती।
Elephant death from current
Elephant and his cub dead body
प्रतापपुर वन परिक्षेत्र दरहोरा में 3 हाथियों का दल विचरण कर रहा था। मंगलवार की रात हाथियों का दल विचरण करते हुए दरहोरा के असनापारा में पहुंच गया। इसी दौरान दल में शामिल एक गर्भवती हथिनी काफी नीचे झूल रहे ११ केवी के तार की चपेट में आ गई। वहीं 2 अन्य हाथी तार के नीचे से निकल गए।
इधर करंट लगने से हथिनी तड़प कर चिंघाडऩे लगी। उसके चिंघाडऩे की आवाज ग्रामीणों ने भी सुनीं। कुछ ही देर में उसने दम तोड़ दिया। सुबह उसकी लाश ग्रामीणों ने देखी तो इसकी सूचना वन विभाग को दी। इस पर सीसीएफ सरगुजा, सीएफ वाइल्ड लाइफ, डीएफओ सूरजपुर तथा प्रतापपुर, रमकोला, घुई, ओडग़ी, भैयाथान के रेंजर मौके पर पहुंचे। अधिकारियों ने घटना की जांच की।
इसके बाद पशु चिकित्सक डॉ. महेंद्र पांडे की अगुवाई में टीम ने मृत हथिनी के शव का पीएम किया। पीएम के दौरान हथिनी के गर्भ से शावक भी मृत अवस्था में निकला, उसे भी करंट लगा था। हथिनी व शावक के पीएम के बाद उन्हें घटनास्थल पर ही दफना दिया गया। हथिनी १७ माह की गर्भवती थी तथा शावक मेच्योर हो गया था। कुछ ही दिनों बाद उसका जन्म होने वाला था, लेकिन विभाग की लापरवाही से दोनों की जान चली गई।
Elephant death from currentचार से पांच मीटर ऊंचा होना चाहिए तार
पूरी घटना में वन विभाग की घोर लापरवाही उजागर हुई है। सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन के अनुसार हाथी रहवास क्षेत्र में 11 केवी के विद्युत तार की ऊंचाई जमीन से चार से पांच मीटर होनी चाहिए, ताकि विचरण के दौरान हाथी इसकी चपेट में न आ सकें।
लेकिन दरहोरा के असनापारा में 11 केवी का तार निर्धारित ऊंचाई से काफी नीचे झूल रहा था। इसी कारण से मंगलवार की देर रात जब हाथियों का दल यहां पहुंचा तो गर्भवती हथिनी नीचे झूल रहे 11 केवी के तार की चपेट में आ गई व तड़पकर उसकी जान चली गई।
यह भी पढ़ें: एक और हाथी की मौत, जंगल में मिली सड़ी-गली लाश, रेंजर समेत वन अमला बेखबर


विद्युत पोल भी गलत लगे हैं
असनापारा में निर्धारित ऊंचाई से काफी नीचे ११केवी के तार के झूलने से हथिनी की जान चली गई। इसमें विद्युत विभाग की लापरवाही का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जो खंभे तार के लिए गाड़े गए थे, वह भी तकनीकी रूप से गलत लगे थे। एक खंभा गड्ढे में लगाया गया था तथा दूसरा ऊंचाई पर था।
जबकि एक हाइट पर खंभे लगाए जाने चाहिए थे। ऊपर-नीचे लगाए जाने की वजह से तार काफी नीचे झूल रहा था। तरंगित तार की चपेट में आने से हथिनी की तो जान चली ही गई, इंसान के लिए भी खतरा था। कोई व्यक्ति भी उसकी चपेट में आ सकता था।
यह भी पढ़ें: हाथियों की मौत का सिलसिला जारी, आज सुबह फिर एक दंतैल हाथी का मिला शव


वन विभाग ने तारों को ठीक करने दिया था आवेदन
प्रतापपुर रेंजर कार्यालय द्वारा 12 जनवरी को हाथी विचरण क्षेत्र में झूल रहे तरंगित तारों को निर्धारित ऊंचाई तक करने विद्युत विभाग के कनिष्ठ यंत्री को आवेदन दिया था। इसमें लिखा था कि प्रतापपुर वन परिक्षेत्र के ग्राम सरहरी, करंजवार, केवरा, पार्वतीपुर, सिंघरा, दरहोरा, मसगा, चंदैली, नवाडीह, करसी, पेंडारी व सिलफिली में अलग-अलग दल में वर्तमान में 30-35 हाथी विचरण कर रहे हैं।
ये हाथी ग्रामीणों की फसलों को भी नुकसान पहुंचा रहे हैं। ऐसे में ग्रामीणों द्वारा अवैध हुकिंग कर फसलों की सुरक्षा की जा रही है, इससे तरंगित तार (Current wire) झूल गए हैं और हाथियों के उसमें फंसने की आशंका है। तारों को निर्धारित ऊंचाई तक करने की बात उनके द्वारा कही गई थी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

अनिल बैजल के इस्तीफे के बाद Vinai Kumar Saxena बने दिल्ली के नए उपराज्यपालISI के निशाने पर पंजाब की ट्रेनें? खुफिया एजेंसियों ने दी चेतावनीममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा - 'भाजपा का तुगलगी शासन, हिटलर और स्टालिन से भी बदतर'Haj 2022: दो साल बाद हज पर जाएंगे मोमिन, पहला भारतीय जत्था 4 जून को होगा रवानाWomen's T20 Challenge: पहले ही मैच में धमाकेदार जीत दर्ज की सुपरनोवास ने, ट्रेलब्लेजर्स को 49 रनों से हरायालगातार बारिश के बीच ऑरेंज अलर्ट जारी, केदारनाथ यात्रा पर लगी रोक, प्रशासन ने कहा - 'जो जहां है वहीं रहे'‘सिंधिया जिस दिन कांग्रेस छोडक़र गए थे, उसी दिन से उनका बुढ़ापा शुरू हो गया था’Asia Cup Hockey 2022: अब्दुल राणा के आखिरी मिनट में गोल की वजह से भारत ने पाकिस्तान के साथ ड्रा पर खत्म किया मुकाबला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.