झमाझम बारिश के बाद जिला अस्पताल के ड्रेसिंग, इंजेक्शन व इमरजेंसी रूम में भर गया पानी, निकालने करनी पड़ी मशक्कत

Rain water: छत से निकलने वाले पानी का पाइप (water pipe) फटने के बाद निर्मित हुई ऐसी स्थिति, पहले भी जिला अस्पताल (District hospital) में बारिश का पानी भरने की घटनाएं आ चुकी हैं सामने

By: rampravesh vishwakarma

Published: 08 Oct 2020, 11:43 PM IST

सूरजपुर. दोपहर को हुई झमाझम बारिश के बाद सूरजपुर जिला अस्पताल (District hospital) के कमरों में पानी भर गया। हालांकि इससे कोई नुकसान तो नहीं हुआ लेकिन बारिश के पानी को बाहर निकालने के लिए घंटों जद्दोजहद करनी पड़ी।

अस्पताल कर्मचारी बताते हंै कि यह कोई आज की समस्या नही है, यहां बारिश में तो पानी का जमा हो जाना आम बात है। बस आज फर्क यह रहा कि पानी (Rain water) आज हॉल के अंदर पहुंच गया। पानी इंजेक्शन रूम, ड्रेसिंग रूम तथा इमरजेंसी रूम में भरा रहा।

ये भी पढ़े: सूरजपुर जिला अस्पताल में महिला ने एक साथ दिया 3 बच्चों को जन्म, 2 बेटियां और 1 बेटा


दरअसल यहां का जिला अस्पताल सडक़ से काफी नीचे बना हुआ है। नए भवन को मंजूरी देते वक्त तत्कालिक अधिकारियों ने भविष्य में होने वाली दिक्कतों पर दूरदर्शिता नही दिखाई जिसका खामियाजा आज आम लोगों से लेकर अस्पताल प्रबंधन तक को भुगतना पड़ रहा है।

बारिश के दिनों में सामने से लेकर पीछे तक तालाब जैसी स्थिति रहती है। स्टोर रूम में कई बार पानी जमा हो जाता है जिससे दवाओं के खराब होने का खतरा बना रहता है। गुरुवार को इससे इतर नई समस्या खड़ी हो गई जब दोपहर बाद अचानक मौसम बदला और करीब एक घण्टे तक झमाझम बारिश हुई तो जिला अस्पताल पानी से लबालब हो गया।

कर्मचारियों ने बताया कि छत से निकलने वाले पानी का पाइप फट गया जिससे बारिश का पूरा पानी कमरे के अंदर गिरने लगा।

ये भी पढ़े: डीएसपी ने जड़ा थप्पड़ तो यहां के महिला डॉक्टर के समर्थन में डॉक्टरों ने गाल पर लगाई पट्टी

देखते-देखते स्थिति यह हो गई कि ड्रेसिंग रूम, इंजेक्शन रूम, इमरजेंसी रूम (Emergency room) सहित हॉल में घुटनों तक पानी भर गया और कर्मचारी इधर-उधर भाग कर बारिश से बचने का उपाय करते रहे। बारिश थमने के बाद सफाई कर्मचारी पानी बाहर निकालने सक्रिय रहे।


व्यवस्था दुरूस्त करने की मांग
संयोग था कि जब बारिश (Raining) हुई उस समय अस्पताल में ओपीडी का समय नहीं था । इससे मरीज, डॉक्टर आदि नहीं थे जिससे परेशानी कम हुई और नुकसान भी नहीं हुआ। यह स्थिति ओपीडी के समय होती तो अफरा-तफरी की स्थिति बन जाती। कर्मचारियों ने व्यवस्था सही कराने की गुजारिश की है।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned