scriptVillagers closed coal mines to demanding job and compensation | नौकरी और मुआवजे की मांग को लेकर ग्रामीणों ने बंद कराई कोल खदान, गेट पर जमाया डेरा, 50 लाख का नुकसान | Patrika News

नौकरी और मुआवजे की मांग को लेकर ग्रामीणों ने बंद कराई कोल खदान, गेट पर जमाया डेरा, 50 लाख का नुकसान

Coal mines closed: इमरजेंसी सेवा के लिए कुछ कर्मचारियों को खदान में जाने दे रहे ग्रामीण, किसानों व ग्रामीणों का कहना कि खदान खुलने के दौरान एसईसीएल प्रबंधन (SECL administration) ने हमसे नौकरी व मुआवजा देने का किया था वादा लेकिन अब बना रहे बहानें

सुरजपुर

Published: September 23, 2022 07:28:22 pm

जरही/भटगांव. अधिग्रहित भूमि के बदले नौकरी और मुआवजे की मांग को लेकर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के बैनर तले किसानों ने पिछले 2 दिनों से भटगांव क्षेत्र की शिवानी भूमिगत कोयला खदान को बंद करा दिया है। गेट के सामने बड़ी संख्या में महिला व पुरुष डट गए हैं। इसकी वजह से हजारों टन कोयला का उत्पादन नहीं हो पा रहा है। कोयला कम्पनी को लाखों का नुकसान हो चूका है। वहीं कोयला कामगार खदान में जाने में असमर्थ हैं। इधर खदान बंद होने से सकते में आए एसईसीएल प्रबंधन व प्रशासन द्वारा आंदोलनकारियों से वार्ता की जा रही है। लेकिन गुरुवार की शाम तक खदान कोयला उत्पादन प्रारंभ नहीं किया जा सका था।
Closed coal mines
Protest by villagers

गोंडवाना गणतंत्र पार्टी और बंशीपुर के किसानों का आरोप है कि एसईसीएल प्रबंधन को पूर्व में अपनी मांगों का ज्ञापन सौंपा गया था और कहा गया था कि मांग पूरी नही होने पर 21 सितंबर से खदान बंद कराया जाएगा। आंदोलनकारियो का आरोप है कि पिछले 10 वर्षों से किसानों की सैकड़ों एकड़ जमीन को एसईसीएल भटगांव क्षेत्र प्रबंधन द्वारा कोयला उत्खनन के लिए अधिग्रहित कर लिया गया था।
लगातार किसानों को आश्वासन दिया जा रहा था कि उन्हें नौकरी और मुआवजा मिलेगा। लेकिन 10 वर्ष बीत जाने के बाद भी किसानों को उनके हक की नौकरी व मुआवजा नहीं मिली। इससे किसानों में भारी आक्रोश था। इसी कड़ी में अपनी मांगों को लेकर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी और बंशीपुर के किसानों ने बुधवार की तडक़े 4 बजे अचानक बड़ी संख्या में पहुंचकर शिवानी खदान के गेट को बंद करा कर वहीं सामने धरने पर बैठ गए।
उन्होंने खदान के गेट को बंद करा दिया, जिससे खदान में अफरा-तफरी का माहौल निर्मित हो गया और प्रबंधन में हडक़ंप मच गया। सुबह होते ही एसईसीएल प्रबंधन सामने आया और प्रशासन की मदद से आंदोलनकारी किसानों से बातचीत का दौर शुरू हुआ।
SECLआंदोलनकारियों का ये कहना
आंदोलनकारी किसानों का कहना है कि कोयला खदान प्रबंधन द्वारा उनकी जमीन का अधिग्रहण किया गया था, इस वादे के साथ कि उन्हें नौकरी और मुआवजा दिया जाएगा।

कुछ को नौकरी देकर खदान खोलकर लगातार कोयले का उत्खनन करके लाभ कमाया जा रहा है, लेकिन हम सब किसान जब भी नौकरी व मुआवजा की बात करते हैं तो हमें तरह-तरह के कारण और बहाने बना करके लौटा दिया जाता है। मजबूरी में आज हम सब खदान को बंद करने के लिए बाध्य हुए हैं।

जारी रही वार्ता
गुरुवार को एसडीएम, प्रतापपुर तहसीलदार, प्रतापपुर नायब तहसीलदार, जरही एसईसीएल महाप्रबंधक कार्यालय के अधिकारी व आंदोलनकारियों के बीच लगातार वार्ता चल रही थी। लेकिन शाम तक मामले का समाधान नहीं हो सका और आंदोलनकारी डटे हुए थे।
आंदोलनकारियों का कहना है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं की जाएगी तब तक प्रदर्शन वापस नहीं लेंगे। उनका कहना है कि जब तक उन्हें नौकरी व मुआवजा के लिए ठोस आश्वासन नहीं मिलेगा, तब तक वे खदान की गेट से नहीं हटेंगे। चाहे कितने दिन न बैठना पड़े।
यह भी पढ़ें
साइकिल पर निकले स्वास्थ्य मंत्री, कहा- सभी के पास हो आयुष्मान कार्ड, 10 लाख तक बढ़ सकती है इलाज की सीमा


50 लाख से अधिक नुकसान का अनुमान
नौकरी व मुआवजा की मांग को लेकर चल रहे खदान बंद आंदोलन से एसईसीएल कम्पनी को अब तक पचास लाख से ज्यादा का नुकसान हो चूका है। दो दिन से शिवानी खदान में कोयले का उत्पादन नहीं हुआ है, जबकि सामान्य दिनों में प्रतिदिन 600 टन से ज्यादा कोयले का उत्पादन होता है।
अभी तक इस आंदोलन की वजह से एसईसीएल प्रबंधन को 1200 टन कोयला उत्पादन नहीं कर पाने का नुकसान हुआ है। ये क्षति 50 लाख से अधिक की है। खदान बंद आंदोलन की वजह से लगभग 600 कामगार जो शिवानी खदान में काम करते थे उनको 2 दिन से बैठा करके वेतन देना पड रहा है उसका नुकसान अलग है।
वही कामगारों का कहना है कि हम काम करने खदान आ रहे हैं, हमें काम करने के लिए अनुकूल माहौल देना प्रबंधन का काम है। खदान के गेट के पास कर्मचारी हाजिरी लगा करके धरना स्थल से कुछ दूर पर बैठ करके अपना समय काटकर घर चले जा रहे हैं।

खदान के सामने लगाया टेंट
गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के बैनर तले चल रहे इस आंदोलन में इस बार आंदोलनकारी आर पार की लड़ाई की लडऩे की तैयारी करके आए हुए हैं। आंदोलनकारी इस बार खदान के गेट के सामने टेंट लगाकर बैठ गए हैं और वहीं पर किसानों द्वारा खाना बना कर लंगर का आयोजन किया जा रहा है। इस आंदोलन में महिला, पुरुष और बच्चे भी शामिल हैं, जो पीछे हटने के लिए तैयार नहीं हैं।

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

Thackeray Vs Shinde: उद्धव ठाकरे गुट की शिवसेना करेगी शिवाजी पार्क में दशहरा रैली, हाईकोर्ट ने दी इजाजत, कहा- BMC ने कानूनी प्रक्रिया का दुरुपयोग कियाकनाडा में बढ़ी भारत विरोधी गतिविधियां, सरकार ने एडवाइजरी जारी कर वहां जाने वाले भारतीयों को किया अलर्टAnkita Bhandari Murder Case: 5 दिन से लापता रिजॉर्ट रिसेप्शनिस्ट के मर्डर का हुआ खुलासा, भाजपा नेता का बेटा निकला मुख्य आरोपीदिल्ली के उपराज्यपाल ने 5 AAP नेताओं पर ठोका मानहानि का केस, दो करोड़ रुपए की हर्जाने की मांगMaharashtra: शिंदे गुट को बड़ा झटका, बॉम्बे हाईकोर्ट ने दशहरा रैली को लेकर दायर याचिका को किया खारिजएक साल में वनडे, टी20 और टेस्ट में 10 विकेट से हारने वाली पहली टीम बनी इंग्लैंडडॉलर के मुकाबले रिकार्ड निचले स्तर पर पहुंचा रुपया, पहली बार 80 पार करके 81.09 स्तर पर पहुंचाPM मोदी ने पर्यावरण मंत्रियों के राष्ट्रीय सम्मेलन में लिया भाग, कहा - 'भारत आज दुनिया को नेतृत्व दे रहा है'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.