प्रायोगिक परीक्षा के साथ गुजरात बोर्ड परीक्षा का आगाज

- नकल को रोकने के लिए दो निरीक्षक लैब टेक्नीशियन रखेंगे परीक्षार्थियों पर नजर
- नगर प्राथमिक शिक्षा समिति के प्राचार्य परीक्षा के बाद परीक्षार्थियों के अंकों की करेंगे डेटा एंट्री

सूरत.

राज्यभर में 12वीं विज्ञान वर्ग की प्रायोगिक परीक्षा के साथ गुजरात बोर्ड माध्यमिक एवं उच्चतर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षा का शुक्रवार 14 फरवरी से आगाज । सूरत के 14 हजार 702 परीक्षार्थियों के साथ दक्षिण गुजरात के 31 हजार 232 परीक्षार्थी विज्ञान वर्ग प्रायोगिक परीक्षा के लिए पंजीकृत हुए हैं। नकल और डमी विद्यार्थियों को पकडऩे के लिए गुजरात बोर्ड ने कड़ी व्यवस्था भी की है।
राज्यभर में 5 मार्च से गुजरात बोर्ड की परीक्षा शुरू होगी। इससे पहले 14 फरवरी से 12वीं विज्ञान वर्ग की प्रायोगिक परीक्षा के साथ बोर्ड परीक्षा का आगाज । सूरत जिले से 14 हजार 702, डांग से 311, भरुच से 3416, वलसाड़ से 5853, नवसारी से 4846, नर्मदा से 773 और तापी जिले से 1331 विद्यार्थी प्रायोगिक परीक्षा के लिए पंजीकरण करवाया है। दक्षिण गुजरात से कुल मिलाकर 31 हजार 232 विद्यार्थियों ने प्रायोगिक परीक्षा के लिए पंजीकरण करवाया है।

- नकल करना पड़ सकता है भारी
प्रायोगिक परीक्षा का जिम्मा पहले स्कूलों के पास हुआ करता था। स्कूल प्रशासन अपने अनुसार परीक्षा लेकर मन मुताबिक अंक देते थे। डमी विद्यार्थियों को परीक्षा में खड़ा किया जाता था। ऐसे शिकायत बढऩे पर बोर्ड ने प्रायोगिक परीक्षा भी स्वयं लेने का फैसला किया। इसलिए अब बोर्ड की परीक्षा का आयोजन करने लगा है। 14 से 24 फरवरी तक प्रायोगिक परीक्षा होगी। इसमें भौतिक विज्ञान के लिए 14 हजार 702 और जीव विज्ञान के लिए 8048 परीक्षार्थी पंजीकृत हुए हैं। 41 परीक्षा केन्द्रों में परीक्षा होगी। सभी परीक्षा केन्द्रों और लेबोरेटरी में सीसीटीवी कैमरा लगे हुए हैं। इसके अलावा परीक्षा दो हिस्सों में ली जाएगी। सुबह 10 से 1 और दोपहर 2 से 5 में परीक्षा होगी। परीक्षार्थियों पर नजर रखने के लिए लेबोरेटरी में दो निरीक्षक नियुक्त किए गए हैं। लेबोरेटरी में विद्यार्थियों को परेशानी ना हो इसलिए एक लैब टेक्नीशियन को भी नियुक्त किया जाएगा।

- समिति प्राचार्य करेंगे डेटा एंट्री
परीक्षा के बाद तुरंत ही विद्यार्थियों का कार्य और अंकों की डेटा एंट्री करने का आदेश है। यह सारा कार्य ऑनलाइन होना है। इसका जिम्मा नगर प्राथमिक शिक्षा समिति के प्राचार्यों को सौंपा गया है। नकल को रोकने और परीक्षा में पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से समिति प्राचार्य डेटा एंट्री करेंगे।

Show More
Divyesh Kumar Sondarva Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned