टिकट बुकिंग कार्यालय के 10 क्लर्क सस्पेंड

ताप्ती गंगा एक्सप्रेस के यात्रियों से रविवार को प्रति टिकट पन्द्रह से पचास रुपए तक अधिक लेना बुकिंग क्लर्कों को महंगा पड़ गया। मुम्बई मंडल से आए अधिका

By: मुकेश शर्मा

Published: 22 Aug 2017, 04:19 AM IST

सूरत।ताप्ती गंगा एक्सप्रेस के यात्रियों से रविवार को प्रति टिकट पन्द्रह से पचास रुपए तक अधिक लेना बुकिंग क्लर्कों को महंगा पड़ गया। मुम्बई मंडल से आए अधिकारी ने एक टीम गठित कर तीन बार अलग-अलग समय पर जांच की और एक्सेस कैश मिलने पर दस कर्मचारियों को निलम्बित कर दिया। उत्तर भारतीय समाज की इस परेशानी को राजस्थान पत्रिका ने मुद्दा बनाकर सोमवार को ‘दिल है कि ज्यादा वसूली से मानता नहीं’ शीर्षक से खबर प्रकाशित की थी।

सूत्रों के अनुसार सूरत-छपरा ताप्ती गंगा एक्सप्रेस के यात्रियों से रविवार को करंट टिकट बुकिंग कार्यालय पर टिकट लेने के दौरान क्लर्क ने प्रति यात्री 15 से पचास रुपए अधिक लिए थे। उत्तर भारतीय समाज के अग्रणियों राजनारायण मुनीन्द्र शुक्ला, शशि दुबे और रोशन मिश्रा ने इस मामले की वीडियो तैयार कर जांच की मांग की थी।

राजस्थान पत्रिका ने इस बारे में मुम्बई मंडल रेल प्रबंधक मुकुल जैन से बात की तो उन्होंने घटना को गंभीर बताते हुए कहा था कि वह एक टीम भेजेंगे, जो औचक निरीक्षण कर कार्रवाई करेगी। शिकायत मिलने के बाद मुम्बई के डीसीएम प्रकाश चन्द्रपाल सूरत स्टेशन पहुंचे। उन्होंने स्थानीय वाणिज्य निरीक्षक गणेश जादव, एटीएस स्क्वॉयड के दो स्टाफ और मुम्बई के दो वाणिज्य निरीक्षकों की टीम तैयार की।

इस टीम ने रविवार रात साढ़े नौ दस बजे, देर रात एक बजे और सोमवार सुबह आठ बजे सूरत स्टेशन के करंट टिकट बुकिंग कार्यालय की जांच की। काउंटर पर बैठे लगभग सभी बुकिंग क्लर्क के कैश की जांच की गई। इनमें दस क्लर्क ऐसे थे, जिनके पास अधिक राशि मिली।

इन सभी के बारे में मुम्बई मंडल के वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक आरती सिंह परिहार को रिपोर्ट की गई। उन्होंने सभी को तत्काल प्रभाव से निलम्बित करने के निर्देश दिए।
सोमवार शाम इन कर्मचारियों को निलम्बित करने के आदेश सूरत स्टेशन के अधिकारियों को दे दिए गए।

कार्रवाई के निर्देश

& ताप्ती गंगा एक्सप्रेस के यात्रियों से टिकट से अधिक रुपए लेने वाले क्लर्कों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सोमवार को टीम भेजी गई। औचक निरीक्षण के दौरान एक्सेस कैश के साथ पकड़े गए कर्मचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दे दिए गए हैं। यात्रियों के लिए हेल्पलाइन नम्बर भी जारी किए गए हैं। कोई भी यात्री इन नम्बरों पर अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है। आरती सिंह परिहार, वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक, मुम्बई मंडल, पश्चिम रेलवे

जांच टीम से अभद्र व्यवहार

सूत्रों के अनुसार मुम्बई के अधिकारियों ने टीम बनाकर सूरत बुुकिंग कार्यालय में एक से अधिक बार जांच की। इस दौरान बुकिंग क्लर्क विलास पाटिल ने जांच टीम के साथ अभद्र व्यवहार किया। इसके अलावा अन्य कुछ क्लर्क हैं, जिनकी विजिलेंस अधिकारियों से सांठगांठ उजागर हुई है। यह बुकिंग क्लर्क अपने साथ कार्य करने वाले कर्मचारियों को विलिजेंस अधिकारियों से केस बनवाने का भय बनाकर अपने साथ मिलाकर रखते थे। यहां तक कि इंचार्ज को भी झांसे में रखते हुए मनचाही ड्यूटी और विंडो की मांग करते थे।

निलम्बित कर्मचारियों में तीन महिलाएं

निमम्बित कर्मचारियों के नाम : विलास पाटिल, अनीस पारडीवाला, ए.ए. सैयद, अपेक्षा बारिया, अंकिता परमार, नीता झा, मुनीयामल डी. सोलंकी, शिवकुमार दुबे, दिलीप परदेशी, विजय पटेल।

मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned