script110 year old narrow gauge train became the first choice of tourists | 110 वर्ष पुरानी नैरोगेज ट्रेन बनी पर्यटकों की पहली पसंद | Patrika News

110 वर्ष पुरानी नैरोगेज ट्रेन बनी पर्यटकों की पहली पसंद

- आदिवासियों की लाइफलाइन बिलीमोरा-वघई नैरोगेज ट्रेन को लेकर गजब का उत्साह..

- तीन माह 20,000 से अधिक यात्रियों ने किया सफर

- विस्टाडोम कोच की सुविधाओं ने यात्रियों का दिल जीता

- सफर में सेल्फी और गरबा कर आनंद उठाते हैं यात्री

सूरत

Published: November 26, 2021 10:24:52 pm

संजीव सिंह @ सूरत.

दीपावली अवकाश में दक्षिण गुजरात के डांग जिले का प्राकृतिक सौंदर्य देखने के लिए बड़ी संख्या में पर्यटक पहुंच रहे हैं। इसके लिए 110 वर्ष पुरानी बिलीमोरा-वघई नैरोगेज ट्रेन पर्यटकों की पहली पसंद बन गई है। पश्चिम रेलवे ने 4 सितंबर से विस्टाडोम एसी के एक कोच के साथ ट्रेन की शुरुआत की है, जिसमें तीन माह में करीब 20,818 यात्रियों ने सफर किया और रेलवे को करीब 11.83 लाख की आय हुई हैं।
110 वर्ष पुरानी नैरोगेज ट्रेन बनी पर्यटकों की पहली पसंद
110 वर्ष पुरानी नैरोगेज ट्रेन बनी पर्यटकों की पहली पसंद
रेलवे और टैक्सटाइल राज्यमंत्री दर्शना जरदोश ने आदिवासियों के लिए लाइफलाइन कही जाने वाली बिलीमोरा-वघई नेरोगेज ट्रेन को 4 सितम्बर से शुरू करने की घोषणा की थी। पहली ट्रिप से ही नए रूपरंग के साथ शुरू हुई ट्रेन को लेकर यात्रियों में गजब का उत्साह दिखा था। यह ट्रेन डांग जिले में वघई और नवसारी जिले में बिलीमोरा के बीच पहाड़ी क्षेत्रों में बसने वाले आदिवासियों की लोकप्रिय ट्रेन है। कोरोना के चलते ट्रेन बंद होने पर इस क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। लेकिन अब यही ट्रेन पश्चिम रेलवे के लिए आय का नया स्रोत बन गई है। दीपावली के सीजन में छुट्टियां मनाने बड़ी संख्या में पर्यटक डांग का प्राकृतिक सौंदर्य देखने पहुंच रहे है। वहीं, डांग जाने के लिए यात्रियों की पहली पसंद बिलीमोरा-वघई नैरोगेज ट्रेन ही है। विस्टाडोम एसी कोच का किराया करीब 560 रु. और जनरल कोच का किराया करीब 40 रु. है।
कोच में गरबा व सेल्फी

पर्यटक विस्टाडोम एसी कोच में सफर अधिक पसंद कर रहे है। सफर के दौरान पर्यटक ट्रेन के अंदर से ही सुंदर नजारा देख सकते है। यात्री सफर में सेल्फी लेना और कोच में गरबा करना नहीं भूलते हैं। छुक-छुक कर मात्र 25 किमी/घंटे की रफ्तार से चलती नैरोगेज ट्रेन पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बन गई है।
110 वर्ष पुरानी नैरोगेज ट्रेन बनी पर्यटकों की पहली पसंदPatrika .com/upload/2021/11/26/bilimora_vaghayi_nerogauge_train_3_7193570-m.jpg">25 दिनों में 10,000 से ज्यादा यात्री

रेलवे अधिकारियों ने बताया कि सितंबर में विस्टाडोम एसी कोच में 415 यात्रियों ने सफर किया, जिससे रेलवे को 2.32 लाख रु. की आय हुई थी। वहीं, जनरल कोच में 5431 यात्रियों ने सफर किया जिससे 1.78 लाख रु. की आय हुई थी। जबकि अक्टूबर में एसी और जनरल दोनों श्रेणी में यात्रियों की संख्या में मामूली कमी आई थी। लेकिन नवबंर में दीपावली के बाद छुट्टियों में फिर से पर्यटकों की संख्या बढ़ गई है। पिछले 24 दिनों में एसी कोच में करीब 207 तथा जनरल कोच में नौ हजार से अधिक यात्रियों ने सफर किया हैं।
110 वर्ष पुरानी नैरोगेज ट्रेन बनी पर्यटकों की पहली पसंदवापसी का फेरा खाली, समय बढ़ाने की आवश्यकता

रेलवे ने बताया कि बिलीमोरा-वघई नैरोगेज ट्रेन बिलीमोरा स्टेशन से सुबह 10.20 बजे रवाना होती है और तीन घंटे का सफर तय कर दोपहर 1.30 बजे वघई पहुंचती है। इसके बाद यही रैक एक घंटे बाद वघई-बिलीमोरा नौरोगेज ट्रेन बनकर दोपहर 2.30 बजे रवाना होती है और बिलीमोरा स्टेशन शाम 5.30 बजे पहुंचती है। वघई जाने वाले यात्रियों को घूमने के लिए एक घंटे का समय मिलता है, लेकिन पर्यटक अधिक समय चाहते हैं। इसलिए वह वापसी में नौरोगेज ट्रेन को टा-टा-बाय-बाय कर निजी वाहन में सफर करते हैं। अगर यह समय बढ़े तो यात्री इसी ट्रेन से लौट सकेंगे।
110 वर्ष पुरानी नैरोगेज ट्रेन बनी पर्यटकों की पहली पसंदट्रैक मजबूत करके स्पीड बढ़ाने से और मिलेगा ट्रैफिक

पश्चिम रेलवे के लिए बिलीमोरा-वघई नैरोगेज लाइन घाटे वाली ट्रेन थी और रेलवे बोर्ड ने इस रूट को बंद करने का निर्णय किया था, लेकिन आदिवासी समाज और जनप्रतिनिधियों की मांग के बाद रेलवे बोर्ड ने हैरिटेज लाइन घोषित करके फिर से ट्रेन शुरू की है। गुजरात पर्यटन विभाग, पश्चिम रेलवे और आइआरसीटीसी मिलकर प्रयास करें तो इस रूट को बेहतर विकसित किया जा सकता है। नैरोगेज लाइन को मजबूती देकर ट्रेन की गति 25 किमी/घंटे से बढ़ाने पर ध्यान देना चाहिए। आमतौर पर एक घंटे की दूरी तीन घंटे में तय करने के चलते वापसी के फेरे में यात्रियों का ट्रेन से मोहभंग हो जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Corona Cases In India: देश में 24 घंटे में कोरोना के 2.68 लाख से ज्यादा केस आए सामने, जानिए क्या है मौत का आंकड़ाJob Reservation: हरियाणा के युवाओं को निजी क्षेत्र की नौकरियों में 75 फीसदी आरक्षण आज से लागूUP Election: चार दिन में बदल गया यूपी का चुनावी समीकरण, वर्षों बाद 'मंडल' बनाम 'कमंडल'अलवर दुष्कर्म मामलाः प्रियंका गांधी ने की पीड़िता के पिता से बात, हर संभव मदद का भरोसाArmy Day 2022: क्‍यों मनाया जाता है सेना दिवस, जानिए महत्व और इतिहास से जुड़े रोचक तथ्यभीम आर्मी प्रमुख चन्द्र शेखर ने अखिलेश यादव पर बोला हमला, मुलाकात के बाद आजाद निराशछत्तीसगढ़ में तेजी से बढ़ रहे कोरोना से मौत के आंकड़े, 24 घंटे में 5 मरीजों की मौत, 6153 नए संक्रमित मिले, सबसे ज्यादा पॉजिटिविटी रेट दुर्ग मेंयूपी विधानसभा चुनाव 2022 पहले चरण का नामांकन शुरू कैराना से खुला खाता, भाजपा के लिए सीटें बचाना है चुनौती
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.