बारिश थमते ही बढऩे लगा डेंगू का प्रकोप

एलाइजा परीक्षण में 185 डेंगू के पॉजिटिव पाए

By: Gyan Prakash Sharma

Published: 26 Sep 2021, 07:02 PM IST

सिलवासा. बारिश थमने के साथ ही डेंगू का प्रकोप बढऩे लगा है। अस्पतालों में डेंगू के रोज नए मामले सामने आ रहे हैं। डॉक्टरों के अनुसार वायरल, डेंगू, टाइफाइड, खांसी, जुकाम आदि बीमारियां पीछा नहीं छोड़ रही है। श्री विनोबा भावे सिविल अस्पताल में मरीजों की भीड़ बढ़ गई हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार एलाइजा परीक्षण में 185 डेंगू के पॉजिटिव पाए गए हैं। प्राइवेट अस्पताल जलाराम, सिटी अस्पताल, साईंनाथ, शायोना, योगी, वर्धमान अस्पताल में डेंगू के मरीज आ रहे हैं।


बारिश रुकने के बाद पानी जगह जगह रुका हुआ है। गटर, कोतर, गंदे निकास नाले, गलियों में पानी भरने से मच्छरों की उत्पत्ति बढ़ रही हैं। डोकमर्डी, आमली, पिपरिया दयात फलिया, लवाछा विस्तार में टायर ट्यूब एवं लोहखंड के जगह जगह कबाड़ केन्द्र हैं, जिससे डेंगू के मच्छरों को आश्रय मिल रहा हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी दवा छिड़काव, फॉगिंग के साथ लोगों जागृत करने में लगे हैं।
एनवीडीसीपी प्रोग्राम अधिकारी डॉ एस कुमार ने बताया कि मौसमी बीमारियों पर नियंत्रण के प्रयास जारी हैं। मच्छरों से बचाव के लिए घर के गमले, फ्रिज आदि की रोजाना सफाई आवश्यक है। शहर में मच्छरों से बचाव और सुरक्षा के लिए जगह जगह पोस्टर एवं पंपलेट लगाए गए हैं। खाली एवं सार्वजनिक स्थलों पर पड़े कबाड़, कचरे के ठेले, टुटे बर्तन, प्लास्टिक की टंकी आदि हटाने के लिए अभियान चलाया हैं। छतों पर कबाड़ और कूड़ा करकट साफ करने के लिए लोगों से आग्रह किया गया है।


गांवों में डेंगू के गिने-चुने मामले


शहर से दूर गांवों में डेंगू के केस बहुत कम मिल रहे हैं। खानवेल उप जिला अस्पताल प्रभारी डॉ गणेश वरणेकर ने बताया कि कुछ दिनों पहले एक केस डेंगू का मिला था। इसके बाद बुखार, खांसी, जुकाम आदि मौसमी रोगियों की संख्या बढ़ी है। इन दिनों खानवेल अस्पताल में रोजाना 700 से 800 मरीज ओपीडी में पंजीकृत हो रहे हैं।

Gyan Prakash Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned