Surat Corona : होम आइसोलेशन के 200 कोरोना मरीजों को कोविड सेंटर में किया शिफ्ट

- वराछा, कतारगाम और सेंट्रल जोन में पूरे परिवार में संक्रमण होने के मामले बढ़े...

- एक घर में एक से अधिक सदस्यों के संक्रमित होने पर मनपा का फैसला

By: Sanjeev Kumar Singh

Published: 02 Sep 2020, 10:50 PM IST

सूरत.

शहर में कोरोना मरीजों की रफ्तार थोड़ी धीमी हुई है, लेकिन घरों में रह रहे हल्के लक्षण वाले मरीज आइसोलेशन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे। इसके चलते कुछ क्षेत्रों में पूरे परिवार के कोरोना संक्रमित होने के मामले बढ़ गए हैं। अब कोरोना की रोकथाम के लिए मनपा स्वास्थ्य विभाग ने होम आइसोलेशन में इलाज करवा रहे करीब 200 जनों को घर से कम्यूनिटी कोविड केयर सेंटर में शिफ्ट किया है।

मनपा स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना अधिक फैलने पर हल्के लक्षण या बिना लक्षण (एसिम्प्टमैटिक) वाले संदिग्ध मरीजों को घर पर ही रखकर होम आइसोलेशन के तहत इलाज की व्यवस्था की थी, लेकिन सूरत में कोरोना संक्रमण से अब पूरा परिवार संक्रमित होना शुरू हो गया है। इसमें कतारगाम, वराछा और सेंट्रल जोन में रहने वाले कितने ही परिवार हैं, जिसमें पहले एक व्यक्ति पॉजिटिव आया था, फिर पूरा परिवार संक्रमित हो गया।

होम आइसोलेशन के दौरान संदिग्ध या रैपिड टेस्ट पॉजिटिव मरीज क्वारन्टाइन पीरियड के दौरान बाहर घूमते हुए देखे जाते हैं। ऐसे मामलों में स्वास्थ्य विभाग अब सख्ती बरतने के मूड में है। होम आइसोलेशन के मरीज को नियम का पालन नहीं करने पर इंस्टिट्यूशनल क्वारन्टाइन सेंटरों में भेजने की तैयारी में है। अगर कोई मरीज जाने से इनकार करता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की सूचना जोन अधिकारियों दी गई है। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि घर में इलाज करवाने वाले 200 से अधिक मरीजों को कम्यूनिटी कोविड केयर सेंटर में शिफ्ट किया गया है।

यह व्यवस्था उनके लिए की गई है जिनके घर में एक से अधिक पॉजिटिव केस मिले हैं। वहीं होम आइसोलेशन में कोमोर्बिड मरीजों के रोजाना फॉलोप जांच करने के भी निर्देश दिए गए हैं। कोमोर्बिड मरीजों की स्थिति को देखते हुए उनका आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाने के लिए भी कहा गया है। अन्य बीमारी से पीडि़त लोगों में किसी भी प्रकार का लक्षण दिखाई देने पर उनका रैपिड एंटीजेन टेस्ट करने के भी निर्देश दिए गए हैं।

दो बार हेल्थ स्टेटस अपडेट जरूरी

होम आइसोलेशन में इलाज करवाने वाले मरीजों को चौबीस घंटे में अब एक बार की बजाय दो बार हेल्थ स्टेटस अपडेट करना होगा। सुबह और शाम मरीजों को अपने बारे में एप में जानकारी अपडेट करना जरूरी है। ऐसा नहीं करने पर मनपा उनके खिलाफ कार्रवाई करेगी।

स्वास्थ्य टीम करती है नियमित जांच

मनपा स्वास्थ्य विभाग ने हरेक जोन में स्वास्थ्य विभाग की टीम तैयार की है। यह टीम होम आइसोलेशन के मरीजों के स्टेटस की मॉनिटरिंग करती है। साथ ही दवाई भी पहुंचा रही है। वहीं चौबीस घंटे में एक बार कोमोर्बिड मरीजों के घर भी जांच के लिए पहुंच रही है।

अनलॉक-3.0 में कोरोना कहां- कितने मरीज

जोन - मरीज

अठवा- 1247

रांदेर- 1030

कतारगाम- 780

सेंट्रल- 541

उधना- 528

वराछा-ए- 486

लिम्बायत- 464

वराछा-बी- 413

कुल- 5489

Sanjeev Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned